पाकिस्तान में आम चुनाव कराने के लिए करना होगा इतना खर्च, 8 फरवरी को हैं चुनाव

Pakistan Election 2024: इस वर्ष 8 फरवरी को पाकिस्तान में होने वाले आम चुनावों के लिए मतदान होगा। द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान का चुनाव आयोग सरकार से चुनावों के लिए लगभग 47 अरब रुपये का बजट मांग रहा है। पाकिस्तान में आर्थिक संकट और अन्य समस्याओं के बीच आम चुनाव की तारीख नजदीक आ रही है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
पाकिस्तान में आम चुनाव कराने के लिए करना होगा इतना खर्च, 8 फरवरी को हैं चुनाव
पाकिस्तान में आम चुनाव कराने के लिए करना होगा इतना खर्च, 8 फरवरी को हैं चुनाव

पाकिस्तान के चुनाव में कितना होगा खर्च?

अरब न्यूज़ की 5 दिसंबर की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान सरकार ने पिछले साल के बजट में आगामी चुनावों के लिए 42 अरब रुपये आवंटित किए थे। पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय ने अतिरिक्त बजट आवंटन की घोषणा की पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय ने पिछले वर्ष 5 दिसंबर को बताया कि जुलाई 2023 में जारी किए गए 10.0 अरब रुपये के अलावा, चुनाव आयोग को 17.4 अरब रुपये और दिए गए हैं। इससे कुल आवंटित राशि 27.4 अरब रुपये हो गई है। मंत्रालय ने कहा है कि वित्त प्रभाग चुनाव आयोग को आवश्यकता पड़ने पर और धन प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है।

Protest in POK: पाकिस्तान में चुनाव से ठीक पहले POK से उठी आवाज, ‘दोयम दर्जे की नागरिकता स्वीकार नहीं’

पाकिस्तान चुनाव आयोग ने लगाया खर्च का अनुमान

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की 22 जनवरी की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान चुनाव आयोग (ECP) ने 2024 के आम चुनाव के लिए 49 अरब रुपये से अधिक के खर्च का अनुमान लगाया है। इसमें मतदान केंद्रों पर सुरक्षा प्रदान करने का अतिरिक्त खर्च भी शामिल है। ECP ने 47 अरब रुपये की धनराशि की मांग की है। सुरक्षा और बढ़ते खर्च के कारण अतिरिक्त 3.5 अरब रुपये की जरूरत है। पंजाब पुलिस ने सामान्य ड्यूटी के लिए 1.19 अरब रुपये की मांग की है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

12 करोड़ से अधिक मतदाता चुनाव में भाग लेंगे

राष्ट्रमंडल की पर्यवेक्षक टीम, डॉ. गुडलक जोनाथन के नेतृत्व में, पाकिस्तान के चुनावी प्रक्रिया का मूल्यांकन करेगी। पाकिस्तान में करीब 12.8 करोड़ मतदाता अपना मताधिकार का प्रयोग करेंगे। ECP ने 26 जनवरी को घोषित किया कि चुनाव के लिए देश भर में 90,675 मतदान केंद्र बनाए जाएंगे।

ECP के समक्ष चुनौती

ECP के सामने एक चुनौती यह है कि कुछ क्षेत्रों में न्यायपालिका द्वारा उम्मीदवारों को चुनाव लड़ने या उनके चुनाव चिह्न बदलने की अनुमति दी गई है, जिससे मतपत्रों की छपाई में बदलाव हो सकता है। इस स्थिति में ECP को अतिरिक्त खर्च की आवश्यकता हो सकती है।

Leave a Comment