Protest in POK: पाकिस्तान में चुनाव से ठीक पहले POK से उठी आवाज, ‘दोयम दर्जे की नागरिकता स्वीकार नहीं’

पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) में एक रैली के दौरान नेता तौकीर गिलानी ने पाकिस्तान के अत्याचारों के खिलाफ अपना विरोध जताया। उन्होंने कहा कि POK के लोग अब अपने अधिकारों के लिए और अधिक सजग हो गए हैं और पाकिस्तान के अन्याय को सहन नहीं करेंगे।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
Protest in POK: पाकिस्तान में चुनाव से ठीक पहले POK से उठी आवाज, 'दोयम दर्जे की नागरिकता स्वीकार नहीं'

POK के नागरिकों ने किया विरोध

POK के नागरिकों ने इस्लामाबाद की नीतियों के खिलाफ खुलकर विरोध किया है। वे पाकिस्तान द्वारा दशकों से किए जा रहे दोयम दर्जे के व्यवहार से तंग आ चुके हैं। मुजफ्फराबाद में एक रैली में राजनीतिक कार्यकर्ताओं ने पाकिस्तानी सेना और प्रशासन के खिलाफ अपनी भावनाएं प्रकट कीं।

तौकीर गिलानी ने बताया कि पाकिस्तानी प्रशासन का दावा है कि वे POK के नागरिकों के साथ हैं, लेकिन वास्तव में वे हमारे दुश्मन बन चुके हैं। उन्होंने अफगानिस्तान और फिलिस्तीनियों से भी इसकी तुलना की।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

पीओके पर पाकिस्तान ने जबरन कब्जा किया- गिलानी

गिलानी ने यह भी बताया कि POK पर पाकिस्तान ने जबरन कब्जा किया है और इस क्षेत्र के प्राकृतिक संसाधनों को लूटा है। उन्होंने खैबर पख्तूनख्वा में पाकिस्तान के अत्याचार का भी उल्लेख किया।

गिलानी ने यह भी कहा कि पाकिस्तानी प्रशासन अब राजनीतिक दलों को तोड़ने और सांस्कृतिक तथा पारंपरिक मूल्यों को नष्ट करने में लगा हुआ है। उन्होंने पाकिस्तानी प्रशासन के कार्यों को लोकतंत्र और इस्लाम के विरुद्ध बताया और कहा कि इससे बड़ा झूठ कोई नहीं है।

पीओके के लोग जागरूक

अंत में, गिलानी ने कहा कि POK के लोग अब और अधिक जागरूक हो गए हैं और वे अपनी आवाज उठाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।

Leave a Comment