हाईकोर्ट ने कहा मंदिरों में लगाएं बोर्ड -गैर-हिंदुओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं है

मंगलवार को, मद्रास हाईकोर्ट ने एक निर्णायक आदेश जारी किया जो तमिलनाडु के मंदिरों में गैर-हिंदुओं के प्रवेश को सीमित करता है। कोर्ट ने राज्य सरकार के हिंदू धर्म और धमार्थ बंदोबस्ती विभाग (HR&CE) को निर्देश दिया कि सभी हिंदू मंदिरों में एक बोर्ड लगाया जाए, जिसमें यह स्पष्ट रूप से लिखा हो कि गैर-हिंदुओं को ‘कोडिमारम’ (ध्वजस्तंभ) क्षेत्र से आगे जाने की अनुमति नहीं है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
हाईकोर्ट ने कहा मंदिरों में लगाएं बोर्ड -गैर-हिंदुओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं है
हाईकोर्ट ने कहा मंदिरों में लगाएं बोर्ड -गैर-हिंदुओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं है

क्या था मामला

यह निर्देश हाईकोर्ट की मदुरै पीठ की न्यायमूर्ति एस श्रीमति द्वारा डी. सेंथिल कुमार की याचिका पर सुनवाई के बाद आया। सेंथिल कुमार ने अरुल्मिगु पलानी धनदायुतपानी स्वामी मंदिर और उसके उप मंदिरों में केवल हिंदुओं के प्रवेश की अनुमति की मांग की थी।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने पत्नी को गुजारा-भत्ता देने के केस में पति का कर्तव्य बताया

अदालत ने मंदिरों के प्रवेश द्वार, ध्वजस्तंभ के समीप और मंदिर में प्रमुख स्थानों पर बोर्ड लगाने के लिए कहा। ये बोर्ड स्पष्ट करेंगे कि गैर-हिंदुओं को कोडिमारम के आगे जाने की अनुमति नहीं है। अदालत ने यह भी कहा कि यदि कोई गैर-हिंदू विशेष देवता के दर्शन का दावा करता है, तो उसे यह वचन देना होगा कि वह देवता में विश्वास रखता है और हिंदू धर्म के रीति-रिवाजों का पालन करेगा।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

कोर्ट की टिप्पणी

कोर्ट ने बल दिया कि सभी धर्मों के लोगों को अपने धर्म का पालन करने का अधिकार है, और किसी भी धर्म के रीति-रिवाजों में हस्तक्षेप नहीं किया जाना चाहिए। मंदिर कोई पिकनिक स्पॉट नहीं हैं, यह निर्णय धार्मिक स्थलों की पवित्रता और महत्व को सुरक्षित रखने की दिशा में एक कदम माना जा सकता है।

Leave a Comment