दिल्ली पालिका बाजार का मालिक कौन है ? सस्ते दामों का रहस्य! किराया कौन लेता है?

दिल्ली, भारत की राजधानी, अपने विविध बाजारों के लिए प्रसिद्ध है, जिनमें से पालिका बाजार एक खास पहचान रखता है। अमेरिकन मार्केट के नाम से भी प्रसिद्ध, यह बाजार उन खरीददारों के लिए स्वर्ग समान है, जो मूल्यवान चीजें कम कीमत में खोजते हैं। चाहे वह 500 रुपए की वस्तु हो जो यहाँ मात्र 200 रुपए में मिल जाए, या फिर ब्रांडेड उत्पाद जिनकी कीमत शोरूम में हजारों में होती है, पालिका बाजार में वह सब कुछ सौ रुपए में उपलब्ध है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
दिल्ली पालिका बाजार का मालिक कौन है ? सस्ते दामों का रहस्य! किराया कौन लेता है?
दिल्ली पालिका बाजार का मालिक कौन है ? सस्ते दामों का रहस्य! किराया कौन लेता है?

खरीदारी का मुख्य आकर्षण

शॉपिंग के लिहाज से पालिका बाजार (Palika Bazaar)न केवल दिल्लीवासियों का, बल्कि भारत के कोने-कोने से आए लोगों का पसंदीदा स्थान है। यहाँ आपको विदेशी पर्यटक भी खरीदारी करते नज़र आएंगे, जो इस बाजार की वैश्विक अपील को दर्शाता है।

पालिका बाजार की स्थापना की कहानी

कनॉट प्लेस (Connaught Place) के इनर सर्किल और आउटर सर्किल के बीच स्थित, पालिका बाजार का निर्माण विचार 1975 में इमरजेंसी के बाद कांग्रेस नेता संजय गांधी के दिमाग में आया था। इसका निर्माण 1978 में पूरा हुआ और यह जल्दी ही लोगों के बीच लोकप्रिय हो गया।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

बाजार की विशेषताएँ

पालिका बाजार में आपको कपड़े, जूते, बैग, गहने, घरेलू सामान, इलेक्ट्रॉनिक्स, खिलौने, और भी बहुत कुछ मिल जाएगा। यहां आपको हर चीज अपने बजट में मिल जाएगी।

सस्ते दामों का रहस्य

पालिका बाजार में चीजें सस्ते दामों पर क्यों मिलती हैं, इसके कई कारण हैं:

  • कम टैक्स: दुकानदारों को कम टैक्स देना होता है।
  • कम किराया: एनडीएमसी द्वारा दुकानों का किराया भी कम रखा जाता है।
  • सीधे थोक विक्रेताओं से सामान: दुकानदार सीधे थोक विक्रेताओं से सामान खरीदते हैं, जिससे उन्हें कम दाम पर सामान मिल जाता है।

पालिका बाजार का मालिक कौन है?

इस बाजार का संचालन नई दिल्ली नगरपालिका परिषद (NDMC) द्वारा किया जाता है, जो दुकानों का किराया भी वसूलती है। NDMC के अनुसार, दुकानों को पहले एलॉट किया जा चुका है और उनका नवीनीकरण नियत समय पर होता है। यहाँ का किराया 10 हजार प्रति मीटर से लेकर 1 लाख प्रति वर्गमीटर तक होता है। कई बार बोली करोड़ों रुपये तक पहुंच जाती है।

पालिका बाजार न केवल एक खरीदारी की जगह है बल्कि यह दिल्ली के इतिहास और विरासत का भी एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह बाजार नई और पुरानी दिल्ली के बीच एक सेतु का काम करता है, जो इसे और भी खास बनाता है।

पालिका बाजार उन लोगों के लिए एक स्वर्ग है जो सस्ते दामों पर ब्रांडेड चीजें खरीदना चाहते हैं। यदि आप दिल्ली में हैं, तो पालिका बाजार जरूर जाएं।

Leave a Comment