भारतीय परिवारों के पास है सोने का भण्डार, वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की एक रिपोर्ट

Biggest Gold Owner in World: वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय परिवारों के पास दुनिया में सबसे ज्यादा सोना है। भारतीय परिवारों के पास 2,26,79,618 किलो सोना है जो दुनिया के कुल सोने के भंडार का लगभग 20% है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
Biggest Gold Owner in World

भारतीय परिवारों के पास सोना

वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल इंडिया के निदेशक सोमासुंदरम के मुताबिक, 2020-21 की एक स्टडी के मुताबिक तब भारतीय परिवारों के पास 21-23000 टन सोना था। अब (2023 तक) यह बढ़कर करीब 24-25000 टन (ढाई करोड़ किलो से ज्यादा) के बीच पहुंच गया है। यह इतना सोना है कि भारत की कुल जीडीपी का करीब 40 फीसदी के आसपास है।

सोना रखने के बहुत से कारण

भारतीय परिवारों के पास सोने के होने के कई कारण हैं। एक कारण यह है कि सोना भारतीय संस्कृति में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सोना को अमीर होने और समृद्धि का प्रतीक माना जाता है। भारतीय परिवार अक्सर अपने बच्चों को शादी के समय सोने के आभूषण देना पसंद करते हैं।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

दूसरा कारण यह है कि सोना एक सुरक्षित निवेश माना जाता है। सोने की कीमतें आमतौर पर समय के साथ बढ़ती रहती हैं। इसलिए भारतीय परिवार सोने को अपनी बचत के लिए एक सुरक्षित स्थान के रूप में देखते हैं।

तीसरा कारण यह है कि भारत में सोने की खरीद पर कोई कर नहीं लगता है। यह भारतीय परिवारों के लिए सोने को खरीदना और स्टोर करना और भी अधिक आकर्षक बनाता है।

दूसरे नम्बर के सोना धारक

सऊदी राज परिवार को दुनिया का सबसे अमीर शाही परिवार माना जाता है। उनके पास दुनिया के सबसे बड़े सोने के भंडारों में से एक है। ग्लोबल बुलियन सप्लायर की रिपोर्ट के मुताबिक, सऊदी राज परिवार के पास 600-700 टन सोना हो सकता है।

यह अनुमानित संख्या है क्योंकि सऊदी राज परिवार ने कभी भी अपने सोने के भंडार का खुलासा नहीं किया है। सऊदी राज परिवार ने 1920 के दशक में तेल की खोज के बाद से सोना खरीदना शुरू किया था। तेल से होने वाली आय से उन्हें सोना खरीदने की क्षमता मिली।

अमेरिकी निवेशक तीसरे स्थान पर

जॉन पॉलशन एक प्रमुख अमेरिकी निवेशक और हेज फंड मैनेजर हैं। 2011 से 2013 के बीच सोने के दाम में वृद्धि के समय पॉलशन ने सोने में भारी निवेश किया था और इससे उन्हें बड़ा लाभ हुआ था, जैसा कि आपने उल्लेख किया है।

इस समय के दौरान विशेषकर 2011 के बाद सोने का मूल्य में वृद्धि हुई थी और यह निवेशकों के लिए एक लाभकारी विकल्प बन गया था।

“गोल्ड बुल” चौथे व्यक्ति

एरिक स्प्रॉट एक कनाडा के बिजनेसमैन और निवेशक हैं। उन्हें “गोल्ड बुल” के रूप में जाना जाता है क्योंकि उन्होंने सोने में भारी निवेश किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, स्प्रॉट के पास 10 टन के आसपास सोना है। यह अनुमानित संख्या है, क्योंकि स्प्रॉट ने कभी भी अपने सोने के भंडार का खुलासा नहीं किया है।

सोने के मामले में टॉप देश

गोल्ड रिजर्व्स का स्वरूप एक देश की आर्थिक स्थिति और वित्तीय स्थिति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हो सकता है। यह रिजर्व देश को अपनी मुद्रा की स्थिति को सुधारने, वित्तीय स्थिति को स्थिर करने और अन्य अर्थनीतिक लाभ प्रदान करने की क्षमता प्रदान कर सकता है।

अमेरिका और जर्मनी के बाद, अन्य कुछ देश भी गोल्ड रिजर्व्स के मामले में अहम हैं जैसे कि इटली, फ्रांस, रूस, चीन, और इंग्लैंड। इन देशों में भी सबसे अधिक गोल्ड रिजर्व्स हैं और इसका उपयोग विभिन्न आर्थिक क्षेत्रों में किया जा सकता है।

अन्य खबरें भी देखें:

Leave a Comment