UPI in France: फ्रांस ने एफिल टावर पर UPI पेमेंट सिस्टम को लॉन्च किया, अपनाया भारत का डिजिटल सिस्टम

फ्रांस, जो अपने एफिल टावर के लिए दुनियाभर में प्रसिद्ध है, ने हाल ही में एक नई तकनीकी क्रांति का साक्षी बना। इस ऐतिहासिक स्थल से, भारतीय पेमेंट सिस्टम UPI का ग्लोबल लॉन्च हुआ, फ्रांस UPI का उपयोग करने वाला पहला अंतरराष्ट्रीय देश बन गया। यह कदम UPI को विश्व स्तर पर ले जाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण पहल माना जा रहा है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
UPI in France: फ्रांस ने एफिल टावर पर UPI पेमेंट सिस्टम को लॉन्च किया, अपनाया भारत का डिजिटल सिस्टम
UPI in France: फ्रांस ने एफिल टावर पर UPI पेमेंट सिस्टम को लॉन्च किया, अपनाया भारत का डिजिटल सिस्टम

फ्रांस में UPI की शुरुआत

भारत की डिजिटल भुगतान क्रांति, UPI, अब फ्रांस की गलियों में भी अपने कदम रख चुकी है। NPCI की अंतरराष्ट्रीय शाखा, NPCI International Payments Ltd (NIPL) ने फ्रांस की पेमेंट सॉल्यूशन कंपनी Lyra के साथ मिलकर इसे संभव बनाया है। इस पहल के तहत, पूरे फ्रांस में यूपीआई के जरिए भुगतान किया जा सकेगा, जिसकी शुरुआत एफिल टावर से की गई है।

भारतीय पर्यटकों के लिए सुविधा

विश्व पर्यटन के मानचित्र पर भारतीय पर्यटकों की बढ़ती संख्या को देखते हुए, UPI का यह विस्तार उनके लिए बड़ी सुविधा साबित होगा। अब वे पेरिस में एफिल टावर जैसे प्रतिष्ठित स्थल पर आसानी से और बिना किसी झंझट के भुगतान कर सकेंगे। इस पहल से न केवल भारतीय पर्यटकों को बल्कि स्थानीय व्यापारियों को भी लाभ होगा, जिससे फ्रांस में पर्यटन और व्यापार को नई गति मिलेगी।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

डिजिटल भुगतान में भारत की बढ़ती भूमिका

UPI का यह वैश्विक विस्तार भारत के डिजिटल भुगतान क्षेत्र में बढ़ती भूमिका को दर्शाता है। 2016 में शुरू हुआ UPI अब तक भारत में डिजिटल लेनदेन का एक प्रमुख माध्यम बन चुका है, जिसने हर छोटे-बड़े व्यापारी और उपभोक्ता के लिए भुगतान की प्रक्रिया को सरल और सुगम बना दिया है। फ्रांस में UPI की शुरुआत से यह संभावना बढ़ गई है कि अन्य यूरोपीय देश भी जल्द ही इस पेमेंट सिस्टम को अपना सकते हैं।

इस पहल से न केवल भारतीय टेक्नोलॉजी की वैश्विक पहचान मजबूत होगी, बल्कि दुनिया भर में डिजिटल भुगतान के प्रति एक नई सोच विकसित होगी। UPI का यह वैश्विक कदम न केवल भुगतान के तरीकों को बदलेगा, बल्कि भविष्य में वैश्विक वित्तीय पारिस्थितिकी में भारत की भूमिका को और अधिक मजबूत करेगा।

Leave a Comment