UP PCS Topper: हिंदी मीडियम की श्वेता को कैसे मिली UP PCS में दो बार सफलता, नायब तहसीलदार से बनीं डिप्टी जेलर

श्वेता मिश्रा, हिंदी मीडियम की एक प्रतिभाशाली छात्रा, ने UP PCS परीक्षा में दो बार सफलता हासिल करके सबको प्रेरित किया है। उत्तर प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन (UPPSC) ने हाल ही में UP PCS 2023 के परिणाम जारी किए। इस परिणाम में प्रतापगढ़ की श्वेता मिश्रा ने विशेष चर्चा का कारण बनीं। श्वेता, जिन्होंने हिंदी मीडियम से अपनी पढ़ाई की, ने ना केवल एक बार बल्कि दो बार UP PCS परीक्षा को क्रैक किया है। उन्होंने पहले नायब तहसीलदार और फिर डिप्टी जेलर के रूप में अपने सपनों को साकार किया, जिससे यह संदेश मिलता है कि कठिन परिश्रम और संकल्प से सफलता निश्चित है

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
UP PCS Topper: हिंदी मीडियम की श्वेता को कैसे मिली UP PCS में दो बार सफलता, नायब तहसीलदार से बनीं डिप्टी जेलर
UP PCS Topper

श्वेता की प्रारंभिक शिक्षा

श्वेता मिश्रा की शैक्षिक यात्रा प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश से शुरू हुई, जहां उन्होंने एक कॉन्वेंट स्कूल में अपनी हाईस्कूल की पढ़ाई पूरी की। उनकी 12वीं की पढ़ाई राम नारायण स्कूल इंटर कॉलेज से हुई, और बाद में उन्होंने राजकीय महाविद्यालय से बीएससी ग्रेजुएशन किया। इस शैक्षिक यात्रा ने उन्हें UP PCS परीक्षा में सफलता की दिशा में अग्रसर किया।

UP PCS की तैयारी: चुनौतियाँ और सफलता

श्वेता ने अपनी ग्रेजुएशन पूरी करने के बाद, UP PCS की तैयारी शुरू की। इसके लिए उन्होंने प्रयागराज का रुख किया और एक कोचिंग संस्थान में दाखिला लिया। साल 2021 में, उन्होंने पहली बार यूपी पीसीएस परीक्षा दी और नायब तहसीलदार के रूप में चुनी गईं।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

नायब तहसीलदार से डिप्टी जेलर तक का सफर

यह सफर उनके दृढ़ निश्चय और कठिन परिश्रम का परिणाम था। UP PCS 2023 में सफलता हासिल करने के बाद, श्वेता पहले नायब तहसीलदार के पद पर तैनात हुईं। इस भूमिका में, उन्होंने अपनी प्रशासनिक क्षमताओं को मजबूत किया। इसके बाद, उनका चयन डिप्टी जेलर के पद के लिए हुआ, जहाँ उन्होंने अपनी लीडरशिप और प्रबंधन कौशल का परिचय दिया। यह सफर उनके अटूट संकल्प और लगन का प्रतीक है।

परिवार का समर्थन और आगे का सपना

श्वेता अपनी सफलता का श्रेय अपने पिता और दादा को देती हैं। उन्होंने बताया कि उनके परिवार में लड़कियों को पढ़ाई और करियर के लिए हमेशा प्रोत्साहित किया गया है।

IAS का सपना और युवाओं के लिए संदेश

श्वेता ने बताया कि उनका सपना आईएएस बनने का है और वे इसकी तैयारी में जुटी हुई हैं। वह UP PCS के साथ-साथ UPSC की भी तैयारी कर रही हैं। उनकी सफलता युवाओं के लिए एक मिसाल है, जो बताती है कि संघर्ष और संकल्प से सफलता प्राप्त की जा सकती है।

श्वेता मिश्रा का यह सफर हमें यह सिखाता है कि मेहनत, संकल्प और पारिवारिक समर्थन से कोई भी लक्ष्य हासिल किया जा सकता है। उनकी कहानी हर एक युवा को प्रेरणा देती है कि वे भी अपने सपनों को साकार कर सकते हैं।

Leave a Comment