यूपी सरकार की नई योजना:190 करोड़ रुपये खर्च करके किसानों के एक लाख रुपये तक के कर्ज को माफ किया, जाने वजह

उत्तर प्रदेश में, एक ऐसे राज्य में जो अपने विशाल कृषि स्थल और 2 करोड़ किसानों के लिए 16.5 लाख हेक्टेयर भूमि का पालन-पोषण करते हैं, इसमें एक महत्वपूर्ण हिस्सा छोटे और सीमांत किसानों का है। इन छोटे खेतिवालों के बीच 80% किसान शामिल हैं, जो अक्सर ऋण प्राप्त करने में कठिनाइयों का सामना करते हैं और उन्हें वापस करने की चुनौतियों का सामना करते हैं, खासकर प्राकृतिक आपदाओं के समय। सरकार का हाल का फैसला उनके ऋणों को माफ करने के रूप में एक स्वागत मिलता है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
यूपी सरकार की नई योजना:190 करोड़ रुपये खर्च करके किसानों के एक लाख रुपये तक के कर्ज को माफ किया, जाने वजह
यूपी सरकार की नई योजना

यूपी सरकार की नई पहल

जब 2017 में उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार ने कार्यभार संभाला, तो उन्होंने किसानों के ऋण पर मोचन की प्राथमिकता को पहचान लिया। उन्होंने किसानों के वित्तीय बोझ को हल करने के लिए एक ऋण मोचन कार्यक्रम की शुरुआत की। हालांकि, तकनीकी दिक्कतों के कारण कुछ किसानों को इस योजना से बाहर छोड़ दिया गया, जिसके परिणामस्वरूप योजना की पुनर्मूल्यांकन की जरूरत पड़ी।

19 जिलों के किसानों को मिलेगा लाभ

इस सुनिश्चित करने के लिए कि ऋण मोचन योजना उन्हीं को लाभ पहुंचाती है, जिसे इसकी सबसे ज्यादा आवश्यकता है, सरकार ने एक सख्त जांच की। एक ध्यानपूर्ण रिपोर्ट के आधार पर, उन्होंने 19 जिलों की पहचान की है जहां 33,408 किसानों को राहत प्राप्त होगी। मुख्य मानदंड यह है कि 1 लाख रुपये तक के ऋणों को मोचन के लिए पात्र माना जाएगा।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

योजना को लागू करने के लिए 190 करोड़ रुपये का बजट तय

उत्तर प्रदेश सरकार ने इस महत्वपूर्ण ऋण मोचन योजना को लागू करने के लिए 190 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया है। हालांकि, असली चुनौती यह है कि यह सुनिश्चित करने में है कि योजना उन वाणिज्यिक लाभार्थियों तक पहुंचे जिन्हें इसकी सबसे आवश्यकता है। बिना उचित सत्यापन और जाँच के, इसमें अपने उद्देश्य तक पहुँचने की आशंका है कि इसे वित्तीय दृष्टिकोण से मजबूत व्यक्तियों द्वारा शोषित किया जा सकता है, जो आर्थिक दृष्टि से स्थिर हैं, जिससे गरीब किसानों को अब भी ऋण से ग्रस्त छोड़ दिया जा सकता है।

आवेदन करने के लिए पात्रता/मानदंड

ऋण मोचन योजना के लिए पात्र होने के लिए कई मानदंडों को पूरा किया जाना चाहिए:

  1. आवेदक की आय को निर्धारित दिशाओं के साथ मेलना चाहिए।
  2. ऋण के लिए जिस भूमि का उपयोग किया जा रहा है, वह या तो निजी होनी चाहिए या पट्टे पर होनी चाहिए।
  3. आवेदक के क्रेडिट स्कोर को मूल्यांकन के दौरान देखा जाएगा।
  4. केवल उत्तर प्रदेश के निवासियों को इस योजना के लिए पात्र माना जाएगा।
  5. किसान का कर्ज किसी सरकारी बैंक या सहकारी बैंक से होना चाहिए।
  6. किसान का कर्ज 31 मार्च, 2022 तक बकाया होना चाहिए।

ऋण मोचन आवेदन के लिए आवश्यक दस्तावेज़

ऋण मोचन के लिए आवेदन करने के लिए किसानों को निम्नलिखित दस्तावेज़ प्रदान करने की आवश्यकता है:

  1. आधार कार्ड
  2. आय प्रमाण पत्र
  3. बैंक पासबुक
  4. पासपोर्ट आकार की फ़ोटो
  5. मोबाइल नंबर

अपनी पात्रता और आवेदन स्थिति की जाँच कैसे करें?

किसान आसानी से अपनी पात्रता और आवेदन स्थिति की जाँच निम्नलिखित कदमों का पालन करके कर सकते हैं:

  1. इस योजना के लिए निर्धारित आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
  2. पंजीकरण प्रक्रिया पूरी करें।
  3. अपनी पंजीकरण संख्या और पासवर्ड का उपयोग करके लॉगिन करें।
  4. “किसान कर्ज मोचन 2024” विकल्प पर क्लिक करें।
  5. आप लाभार्थियों की सूची में अपना नाम खोज सकते हैं।

Leave a Comment