ट्रेन से यात्रा करने वालों यात्रियों के काम आएंगे ये 5 नियम, जाने कैसे बनाए अपनी यात्रा को आसान

भारतीय रेल, जो हमेशा से लोगों की पहली पसंद रही है, न केवल सुरक्षित और आरामदायक यात्रा प्रदान करती है, बल्कि कुछ नियम भी हैं जो यात्रियों को ध्यान में रखने चाहिए। इन नियमों का पालन करके आप और आपके साथी यात्री अपने सफर को और अधिक सुखद बना सकते हैं। आइए, इन जरूरी नियमों को जानते हैं।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

रात में सोने के नियम

रेलवे ने रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक का समय सोने के लिए निर्धारित किया है। इस दौरान, निचली बर्थ वाले यात्री मध्य बर्थ वाले यात्रियों को अपने बर्थ पर जाने का अनुरोध कर सकते हैं। तेज आवाज में संगीत सुनने और जोर-जोर से बात करने पर भी प्रतिबंध है।

ट्रेन से यात्रा करने वालों यात्रियों के काम आएंगे ये 5 नियम, जाने कैसे बनाए अपनी यात्रा को आसान

टिकट चेकिंग का समय

रेलवे के अनुसार, टिकट चेकर यात्रीगण के टिकट की जाँच रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक नहीं करते हैं। इसका मतलब है कि यदि आपकी यात्रा इस समय के बाद शुरू होती है, तो आपके टिकट का जाँच उस समय पर भी हो सकता है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

इस नियम का पालन यात्रीगण की नींद की रक्षा के लिए किया जाता है, ताकि वे रात को अच्छी तरह से सो सकें और उन्हें किसी प्रकार की असुविधा न हो। इससे यात्रीगण को रात की शांति और आराम सुनिश्चित होता है।

ट्रेन में सामान की सीमा

यदि आप ट्रेन में सफर कर रहे हैं और अपने साथ सामान ले जा रहे हैं, तो आपको ध्यान में रखना होगा कि आपके पास कितना सामान ले सकते हैं। भारतीय रेलवे ने यात्री क्लास के हिस्से के आधार पर विभिन्न सामान की सीमा तय की है।

  • स्लीपर क्लास: इस वर्ग में 40 किलोग्राम तक के सामान को साथ ले सकते हैं।
  • एसी 2 टीयर: इस वर्ग में 50 किलोग्राम तक के सामान को साथ ले सकते हैं।
  • प्रथम श्रेणी एसी: इस वर्ग में 70 किलोग्राम तक के सामान को साथ ले सकते हैं।

अगर आपके सामान का वजन इस सीमा के अधिक होता है, तो आपको अतिरिक्त किराया देना हो सकता है। इसलिए, सामान की सीमा का पालन करना महत्वपूर्ण है ताकि आपकी यात्रा आरामदायक और सुखद हो सके।

प्रतिबंधित सामान

प्रतिबंधित सामान का मतलब होता है कुछ ऐसे चीजें जो आप ट्रेन में साथ नहीं ले सकते हैं, यानी आपके साथ नहीं रख सकते हैं। इसमें विशेष प्रकार के सुरक्षा और यातायात नियमों का पालन किया जाता है।

प्रतिबंधित सामान के उदाहरण:

  1. स्टोव: जलानेवाले उपकरण जैसे कि गैस स्टोव ट्रेन में प्रतिबंधित होते हैं।
  2. गैस सिलेंडर: यात्रा के दौरान गैस सिलेंडर ले जाना भी प्रतिबंधित है, क्योंकि यह सुरक्षा की समस्याएं उत्पन्न कर सकता है।
  3. ज्वलनशील कैमिकल: किसी भी प्रकार के ज्वलनशील या खतरनाक कैमिकल को यात्रा के दौरान ले जाना प्रतिबंधित है।
  4. पटाखे: फटनेवाले पटाखों को ट्रेन में ले जाना सुरक्षा संबंधी चिंताओं का कारण बन सकता है, और इसलिए यह प्रतिबंधित होता है।
  5. तेजाब: किसी भी प्रकार के तेजाब को यात्रा के दौरान ले जाना खतरनाक हो सकता है और इसलिए यह प्रतिबंधित होता है।
  6. बदबूदार चीजें: बदबूदार या अवांछित चीजें, जैसे कि मच्छरों के लिए उपकरण, भी प्रतिबंधित होती हैं।
  7. चमड़ा या गीली खाल: चमड़ा या गीली खाल को यात्रा के लिए ले जाना भी प्रतिबंधित हो सकता है, क्योंकि यह विशेष स्थान पर रुकावट पैदा कर सकता है।
  8. तेल, ग्रीस, घी: यात्रा के दौरान ऐसे चरणों का तेल, ग्रीस, या घी ले जाना प्रतिबंधित हो सकता है, क्योंकि यह अन्य यात्रीगण को परेशान कर सकता है और सुरक्षा समस्याओं का कारण बन सकता है।

प्लेटफॉर्म टिकट का उपयोग

अगर आपके पास रिजर्वेशन टिकट नहीं है, तो आप प्लेटफॉर्म टिकट खरीदकर ट्रेन में चढ़ सकते हैं और बाद में TTE से संपर्क करके यात्रा के लिए टिकट ले सकते हैं।

ये नियम आपकी रेल यात्रा को न केवल सुविधाजनक बनाएंगे, बल्कि यात्रा के दौरान अन्य यात्रियों के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध भी बनाए रखने में मदद करेंगे। इसलिए, अगली बार जब आप ट्रेन से यात्रा करें, इन नियमों का पालन अवश्य करें।

Leave a Comment