Supreme Court ने सास-ससुर की संपत्ति में बहू को दिया ये अधिकार, जानिए क्या है 2006 का फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में भारतीय समाज में महिलाओं के अधिकारों को लेकर एक महत्वपूर्ण और ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। तीन न्यायाधीशों की पीठ ने, जिसकी अध्यक्षता न्यायमूर्ति अशोक भूषण ने की, घरेलू हिंसा अधिनियम के तहत बहू को उसके पति के माता-पिता के घर में रहने का अधिकार प्रदान किया है। यह निर्णय समाज में बहुओं के स्थान और उनके अधिकारों को नई पहचान देने का कार्य करेगा।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
Supreme Court ने सास-ससुर की संपत्ति में बहू को दिया ये अधिकार, जानिए क्या है 2006 का फैसला
Supreme Court ने सास-ससुर की संपत्ति में बहू को दिया ये अधिकार, जानिए क्या है 2006 का फैसला

बहु के पक्ष में लिया गया फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में स्पष्ट किया है कि घरेलू हिंसा की शिकार पत्नी को न केवल पति की अर्जित की हुई संपत्ति में, बल्कि पारिवारिक साझा संपत्ति और रिहायशी घर में भी रहने का कानूनी अधिकार होगा। इस फैसले ने तरुण बत्रा मामले में पहले दिए गए दो न्यायाधीशों की पीठ के फैसले को पलट दिया है, जिसमें कहा गया था कि बेटियां अपने पति के माता-पिता की संपत्ति में नहीं रह सकतीं।

पीठ के निर्णय की गहराई

सुप्रीम कोर्ट की तीन सदस्यीय पीठ ने इस मामले की सुनवाई करते हुए 6-7 महत्वपूर्ण सवालों के जवाब दिए। पीठ ने घरेलू हिंसा कानून 2005 का हवाला देते हुए न केवल पति की व्यक्तिगत संपत्ति पर बहू के अधिकार को मान्यता दी, बल्कि साझा संपत्ति में भी उसके अधिकार को स्वीकार किया।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

महिलाओं को मिला सम्मान

यह फैसला भारतीय समाज में महिलाओं के अधिकारों के प्रति एक प्रगतिशील कदम है। इससे न केवल घरेलू हिंसा की शिकार महिलाओं को सुरक्षा और सम्मान मिलेगा, बल्कि यह उन्हें आर्थिक रूप से भी मज़बूती प्रदान करेगा। सुप्रीम कोर्ट का यह निर्णय समाज में लैंगिक समानता और महिलाओं के अधिकारों की दिशा में एक मील का पत्थर साबित होगा।

यह फैसला महिलाओं के लिए एक बड़ी जीत है। यह फैसला महिलाओं को घरेलू हिंसा से बचाने में मदद करेगा और उन्हें अपने पति के माता-पिता के घर में रहने का अधिकार देगा।

Leave a Comment