FD या सीन‍ियर स‍िटीजन सेव‍िंग स्‍कीम, क‍िसमें है ज्‍यादा फायदा, जानें

यदि आप निवेश करने की सोच रहें हैं तो आपके लिए आज हम दो ऐसी स्कीम लेकर आएं हैं जो आपको भविष्य में तगड़ा रिटर्न प्रदान कर सकती हैं। FD या सीन‍ियर स‍िटीजन सेव‍िंग स्‍कीम, (SCSS) दोनों ही निवेश के सुरक्षित विकल्प हैं। दोनों में ही लॉक-इन पीरियड होता है, जिसके दौरान आप अपनी राशि को नहीं निकाल सकते हैं। लेकिन हमें इनके विषय में कुछ जानकारी का पता होना आवश्यक है। आइए जानते हैं इन दोनों स्कीमों में क्या क्या अंतर होता है, कौन सी स्कीम ज्यादा बेहतर है, पूरी खबर के लिए लेख में आगे बने रहें।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
FD या सीन‍ियर स‍िटीजन सेव‍िंग स्‍कीम, क‍िसमें है ज्‍यादा फायदा, जानें

SCSS र‍िटायरमेंट किसी स्कीम है?

एससीएसएस यानी सीनियर सिटिजन्स सेविंग्स स्कीम (Senior Citizens Savings Scheme) भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक रिटायरमेंट लाभकारी योजना है। इसका मुख्य उद्देश्य वरिष्ठ नागरिकों को 60 वर्ष की आयु के बाद नियमित आय प्रदान करना है। अर्थात एससीएसएस एक सरकारी समर्थित योजना है, जिसका अर्थ है कि यह सरकार द्वारा समर्थित है। यह योजना वरिष्ठ नागरिकों के लिए 5 साल की मैच्योरिटी अवधि के साथ 8.2% तक की ब्याज दर प्रदान करती है। एससीएसएस में अधिकतम निवेश सीमा 30 लाख रुपये है।

सीन‍ियर स‍िटीजन सेव‍िंग स्‍कीम की विशेषता क्या है?

सीनियर सिटीजन सेविंग स्‍कीम (SCSS) भारत सरकार द्वारा वरिष्ठ नागरिकों के लिए शुरू की गई एक छोटी बचत योजना है। इस योजना की कुछ प्रमुख विशेषताएं निम्नलिखित हैं:

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
  • उच्च ब्याज दर: SCSS वर्तमान में 8.20% प्रति वर्ष की आकर्षक ब्याज दर प्रदान करता है, जो अन्य छोटी बचत योजनाओं की तुलना में काफी अधिक है। यह दर तिमाही समीक्षा की जाती है और समय-समय पर बदल सकती है।
  • नियमित आय: ब्याज तिमाही आधार पर अर्जित और जमा किया जाता है, जिससे वरिष्ठ नागरिकों को अपने खर्चों को पूरा करने के लिए नियमित आय का स्रोत मिलता है।
  • कर लाभ: SCSS के तहत जमा पर 80C के तहत आयकर कटौती का लाभ उठाया जा सकता है।
  • निवेश की सुरक्षा: SCSS एक सरकारी समर्थित योजना है, इसलिए यहां निवेश पूरी तरह से सुरक्षित है।
  • न्यूनतम और अधिकतम निवेश: एक वरिष्ठ नागरिक न्यूनतम ₹1,000 और अधिकतम ₹30 लाख तक जमा कर सकता है।
  • संयुक्त खाता खोलने की सुविधा: पति-पत्नी संयुक्त रूप से भी SCSS खाता खोल सकते हैं।
  • पैन कार्ड आवश्यक नहीं: एससीएसएस खाता खोलने के लिए पैन कार्ड अनिवार्य नहीं है।
  • देश भर में स्थानांतरण की सुविधा: आप अपने एससीएसएस खाते को देश भर में किसी भी अधिकृत बैंक या डाकघर में स्थानांतरित कर सकते हैं।

FD स्‍कीम क्या है?

एफडी या फिक्स्ड डिपॉजिट एक ऐसा सुरक्षित निवेश विकल्प है जहां एक निश्चित अवधि के लिए एक निश्चित राशि जमा की जाती है और उस पर गारंटीड ब्याज कमाया जाता है। इसे सावधि जमा (टीडी) के रूप में भी जाना जाता है। एफडी स्कीम बैंकों और वित्तीय संस्थानों द्वारा पेश की जाती हैं और विभिन्न परिपक्वता अवधि और ब्याज दरों के साथ आती हैं।

FD स्कीम कैसे काम करती है?

  1. आप अपनी निवेश राशि चुनते हैं और एक निश्चित अवधि (जैसे 1 साल, 3 साल, 5 साल) का चयन करते हैं।
  2. आप चुनी गई बैंक या वित्तीय संस्थान में अपनी निवेश राशि जमा करते हैं।
  3. जमा अवधि के दौरान, आप जमा राशि पर एक पूर्व-निर्धारित ब्याज दर अर्जित करते हैं।
  4. परिपक्वता अवधि के अंत में, आपको मूल राशि और अर्जित ब्याज प्राप्त होता है।

FD स्कीम के लाभ:

  • सुरक्षित: एफडी स्कीम सबसे सुरक्षित निवेश विकल्पों में से एक है क्योंकि जमा राशि बैंक जमा बीमा योजना (डीआईबीएस) के तहत 1 लाख रुपये तक बीमाकृत है।
  • गारंटीड रिटर्न: एफडी स्कीम एक गारंटीड रिटर्न प्रदान करती है, जिसका अर्थ है कि आप जानते हैं कि निवेश अवधि के अंत में आपको कितना मिलेगा।
  • नियमित आय: कुछ एफडी स्कीम आपको नियमित आय का विकल्प प्रदान करती हैं, जहां ब्याज परिपक्वता अवधि से पहले ही आपके खाते में जमा किया जाता है।
  • लचीलापन: एफडी स्कीम विभिन्न परिपक्वता अवधि और ब्याज दरों के साथ आती हैं, जिससे आप अपनी आवश्यकताओं के अनुसार एक विकल्प चुन सकते हैं।

दोनों स्कीमों के बीच क्या अंतर है?

FD और SCSS के बीच कुछ प्रमुख अंतर निम्नलिखित हैं:

विशेषताFDSCSS
निवेशक की न्यूनतम आयुकोई सीमा नहीं60 वर्ष
अधिकतम निवेश₹1.5 लाख प्रति वर्ष₹15 लाख प्रति वर्ष
लॉक-इन पीरियड5 वर्ष5 वर्ष
ब्याज दरबैंकों द्वारा निर्धारितसरकार द्वारा निर्धारित
टैक्स छूट5 वर्ष बाद प्राप्त होती है1.5 लाख रुपये तक की छूट मिलती है
निवेश की सीमा कोई लिमिट नहीं निवेश करने की सीमा होती है

Leave a Comment