22 साल बाद साधु बनकर लौटा बेटा, मां से भिक्षा मांगकर हुआ भावुक, वीडियो देखकर रो पड़े लोग

सोशल मीडिया पर इन दिनों एक वीडियो ने लोगों के दिलों को छू लिया है, जो एक माँ और उसके खोए हुए बेटे की भावुक पुनर्मिलन की कहानी बयां करता है। 11 वर्ष की आयु में खो गए बच्चे की वापसी ने न सिर्फ उसके परिवार को, बल्कि इंटरनेट पर हर किसी को भावुक कर दिया। 22 वर्षों के बाद, वह साधु के वेश में वापस आया और अपनी माँ से भिक्षा मांगते हुए आंसू बहाने लगा।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
22 साल बाद साधु बनकर लौटा बेटा, मां से भिक्षा मांगकर हुआ भावुक, वीडियो देखकर रो पड़े लोग
22 साल बाद साधु बनकर लौटा बेटा, मां से भिक्षा मांगकर हुआ भावुक, वीडियो देखकर रो पड़े लोग

वायरल वीडियो का विवरण

यह दृश्य अमेठी के खरौली गांव में घटित हुआ, जहां पिंकू नामक युवक को उसके गाँव में साधु के रूप में देखा गया। जब उसने ग्रामीणों से अपने माता-पिता के बारे में पूछताछ की, तो लोगों ने उसे पहचान लिया और तुरंत उसके माता-पिता को सूचित किया। उनके पुनर्मिलन का क्षण इतना भावुक था कि इसने सोशल मीडिया यूजर्स को आंसू बहाने पर मजबूर कर दिया।

पिंकू की लापता होने की कहानी

पिंकू के पिता रतिपाल सिंह ने बताया कि 22 साल पहले उनका बेटा अचानक लापता हो गया था। इसकी वजह उसकी माँ द्वारा कंचे खेलने पर डांट-फटकार थी। परिवार ने उसकी खोजबीन की और थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज करवाई, लेकिन वह नहीं मिला। 2024 में, जब पिंकू ने अपने माता-पिता से पुनर्मिलान किया, तो यह पल न सिर्फ उनके लिए, बल्कि सोशल मीडिया पर हर किसी के लिए एक अविस्मरणीय घटना बन गया।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

एक भावुक पुनर्मिलन की गाथा

इस घटना ने साबित कर दिया कि समय और दूरी भले ही बड़ी हो, परिवार के बीच का प्यार और संबंध हमेशा मजबूत रहता है। पिंकू और उसके माता-पिता का पुनर्मिलन सोशल मीडिया पर व्यापक रूप से साझा किया गया और इसने हर किसी को भावुक कर दिया। यह कहानी न केवल खोए हुए संबंधों की वापसी का उदाहरण है, बल्कि यह भी दर्शाती है कि प्यार और आशा कभी खत्म नहीं होती।

Leave a Comment