Rupee vs Dollar: आखिर डॉलर के मुकाबले क्यों गिर रहा है रूपया? [Indian Rupee Fall]

ऐतिहासिक स्तर पर फिसला रुपया, क्यों आ रही है गिरावट और क्या होगा इसका असर?

भारतीय रूपया अमेरिकी डॉलर से पहली बार 80 से नीचे गिर गया है। मौजूदा समय में शेयर बाजारों में रुपये ने गिरावट के बीच में गिरने का एक नया रिकॉर्ड बनाया है। रिजर्व बैंक के कड़े प्रयासों के बाद भी रुपया संभल नहीं पा रहा है। 19 जुलाई को शुरूआती कारोबार में Rupee vs Dollar 80 से नीचे गिर गया है। अमेरिकी डॉलर की तुलना में भारतीय रूपया सात पैसे की गिरावट के साथ  80.05 के सबसे निम्न स्तर पर आ गया है। पिछले आठ वर्षों में डॉलर की तुलना में भारतीय रुपया 16.08 रुपये यानी 25.39 प्रतिशत गिर चुका है। Reserve Bank of India (RBI) के आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2014 में 63.33 रुपये प्रति डॉलर विनमय दर थी।

यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्या है, लिस्ट 2022

Rupee vs Dollar
Rupee vs Dollar

आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से Rupee vs Dollar: आखिर डॉलर के मुकाबले क्यों गिर रहा है रूपया? [Indian Rupee Fall 2022] से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी को साझा करने जा रहे है। अतः रूपया डॉलर से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी के लिए आप हमारे इस लेख को अंत तक पढ़े।

Rupee vs Dollar 2022

आखिर डॉलर के मुकाबले क्यों गिर रहा है रूपया (Rupee vs Dollar) वर्तमान समय में भारतीय रूपया का डॉलर के मुकाबले सबसे बुरा दौर चल रहा है। रूपए की वैल्यू कुछ समय से घटती ही जा रही है। लगातार स्तिथि में रूपया का कम होना शेयर मार्किट में अलग ही रिकॉर्ड बना चुका है। अमेरिकी डॉलर की तुलना में भारतीय डॉलर का इस तरह से कम होना इसका सीधा असर आम आदमी पर होने वाला है। क्युकी रूपया का कम होना मतलब महंगाई में वृद्धि ,यदि महंगाई में वृद्धि होती है तो इसका सीधा असर आम आदमी की जेब पर पड़ता है।

Indian Rupee Fall 2022

आर्टिकल Rupee vs Dollar
वर्ष 2022
भारतीय रूपये में कमी डॉलर के मुकाबले 80 से नीचे
हानि भारतीय रूपये गिरने के कारण महंगाई में वृद्धि
रूपये गिरने का कारण वैश्विक कारण ,महामारी
इस वर्ष के शुरूआती समय में भारतीय करेंसी कम हुई है 7.6 प्रतिशत तक
रूपये में कमी का सीधा असर आम आदमी पर
Rupee vs Dollar

आखिर डॉलर के मुकाबले क्यों गिर रहा है रूपया?

जैसे की आप सभी लोगो को पता है की यूक्रेन और रसिया युद्ध के चलते भू-राजनितिक संकट और अनिश्चितताओं ने अधिकतर
इकॉनमी खतरे को काफी बढ़ा दिया है। यह इकॉनमी के लिए एक सबसे बड़ा आघात है ,क्युकी अभी कोविड 19 के कारण हुई महामारी के कारण हुई मंदी (recession) से रिकवर हो रही थी लेकिन Russia-Ukraine war के चलते अब और समस्या उत्पन्न हो गयी है।

रूस-यूक्रेन युद्ध के अतिरिक्त हाई ग्लोबल Crude oil Price और बढ़ती मुद्रा प्रसार ने भी ग्लोबल इकॉनमी की समस्याओं को और अधिक बढ़ा दिया है। रूपए के घटते स्तर का एक मुख्य कारण foreign portfolio capital का ऑउटफ्लो भी है foreign portfolio capital इन्वेस्टर्स एफपीआई ने 2022-23 में अब तक इंडियन equity markets से लगभग 14 अरब डॉलर की निकासी की है।

भारतीय रूपए के मुकाबले डॉलर में मजबूती

Rupee vs Dollar– वर्ष 2022 के शुरूआती में अब तक रुपया 7.6 प्रतिशत तक गिर चुका है। भारतीय करेंसी का इस तरह निम्न स्तर में आना इसका सीधा लाभ अमरीकी डॉलर को होगा। इस वर्ष के शुरूआती समय में 8 प्रतिशत की वृद्धि अमेरिकी डॉलर में देखी गयी है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा रेपो रेट में की गयी वृद्धि से भी रूपये में निर्बलता का क्रमबद्धता नहीं रुका है। वह इसलिए क्योंकी देश के जून माह में व्यापार घाटे के रिकॉर्ड हाई लेवल पर पहुंचने के बाद से करंट अकाउंट लॉस बढ़ रहा था।

भारतीय रूपया गिरने के कारण

भारतीय रुपया गिरने का एक प्रमुख है वैश्विक कारण वित्त मंत्री निर्मला सीता रमण ने लोकसभा में कहा है की रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते कच्चे तेल के दामों में वृद्धि हुई है। जिसकी वजह से ग्लोबल फाइनेंशियल कंडीशन के कठोर होने की वजह से डॉलर की तुलना में रूपया का स्तर कम हो रहा है। foreign portfolio capital इन्वेस्टरों ने इंडियन शेयर मार्केट से लगभग अरबों डॉलर हासिल कर लिए है, जिसके कारण मुद्रा पर भारी असर हुआ है।

आपको बता दें की भारतीय रुपये की तुलना में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले जापानी येन ,ब्रिटिश पाउंड और यूरो जैसी मुद्राओं में अधिक गिरावट आयी है। इन करेंसी की तुलना में भारतीय रूपये में मजबूती आयी है।

Indian Rupee Fall गिरावट का असर कैसे होगा?

Rupee vs Dollar – डॉलर के मुकाबले रूपये गिरने का सबसे ज्यादा असर इम्पोर्टर्स पर होगा, उन्हें अब आयात के लिए सबसे अधिक कीमत अदा करनी होगी। रूपये के घटते स्तर के कारण imports काफी महंगा हो जायेगा। इंडिया में कोयला, प्लास्टिक सामग्री,कच्चा तेल ,वनस्पति तेल ,इलेट्रॉनिक सामान , मशीनरी, सोना, फर्टिलाइजर,कीमती और अर्ध-कीमती स्टोन, आदि चीजों का अधिक निर्यात होता है। आप सभी को बता दें की रूपये के मूल्य में गिरावट होने से निर्यात सस्ता होगा।

इसके अतरिक्त फॉर्नर कंट्री में पढाई करने का सपना देख रहे स्टूडेंट्स पर भी इसका काफी असर पड़ेगा। क्युकी पढाई के लिए अब शुल्क राशि में काफी वृद्धि देखी जा सकती है। remittance में वृद्धि होगी ,रेमिटेंस वह पैसा है जो फॉरनर कंट्री में रहने वाले लोग अपने परिवार को इंडिया में भेजते है। इसी संदर्भ में बात करे तो अब इसकी लागत अधिक होगी क्युकी वह अब अधिक पैसे ट्रांसफर करेंगे।

Rupee vs Dollar से संबंधित प्रश्न उत्तर

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारत के रूपये में कितनी गिरावट हुई है ?

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रूपये ने वर्तमान समय में गिरावट के स्तर में शेयर मार्केट में एक नया रिकॉर्ड दर्ज किया है ,डॉलर की तुलना में भारतीय रुपया 80 से नीचे गिर गया है।

भारत में एक डॉलर की कीमत कितनी है ?

वर्तमान में इंडियन करेंसी के रूप में एक डॉलर की कीमत 79.90 Indian Rupee है।

डॉलर की तुलना में रूपये में गिरावट के क्या नुकसान है ?

रूपये में गिरावट होने का सीधा मतलब है की महंगाई दर में वृद्धि ,साथ ही इसका सबसे अधिक प्रभाव आयातकों पर पड़ने वाला है।

डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपये गिरने का प्रमुख कारण क्या है ?

डॉलर की तुलना में भारतीय रूपये गिरने का प्रमुख कारण है वैश्विक कारण, महामारी, अभी हाल ही में महामारी में हुई मंदी से उभर ही रहे थे की यूक्रेन रूस के युद्ध के चलते भारतीय रुपये में कमी देखी गयी है।

आज की इस पोस्ट में हमने Rupee vs Dollar के बारे में बात की है, किसी भी प्रकार सवालों के लिए आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं। हमारी वेबसाइट www.mcpanchkula.org को बुकमार्क करके के रखें, ऐसी जानकारियों के लिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button