Property Rights: दादाजी की विरासत में पोते-पोती का हक, क्या है कानूनी प्रावधान?

Property Rights: दादा की अर्जित और विरासत में मिली संपत्ति पर अधिकार के अलग-अलग नियम हैं. आइए जानते है इसके बारे में विस्तार से. संपत्ति और कानून – ये दो शब्द सुनते ही लोगों के मन में डर और उलझन पैदा हो जाती है। दादाजी की संपत्ति पर पोते का अधिकार भी इसी उलझन का हिस्सा है। आज हम इस रहस्य को खोलेंगे और आपको बताएंगे कि पोते का क्या अधिकार है और किस संपत्ति पर दावा कर सकता है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

स्वयं अर्जित संपत्ति पर कानूनी अधिकार नहीं

दादाजी की खुद से अर्जित की गई संपत्ति पर पोते का कानूनी अधिकार नहीं होता. दादा अपनी खुद से अर्जित की गई संपत्ति को जिस भी व्यक्ति को चाहे दे सकता है.

दादाजी का निधन परिवार के लिए सदमे और भावनाओं से भरा समय होता है। इस बीच, संपत्ति का सवाल भी उठता है। यदि दादाजी ने वसीयत नहीं लिखी है, तो उनकी संपत्ति का वितरण कैसे होगा? पोते का इस विरासत में क्या हिस्सा होगा?

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
Property Rights: दादाजी की विरासत में पोते-पोती का हक: क्या है कानूनी प्रावधान?

पैतृक संपत्ति पर अधिकार

पैतृक संपत्ति पर पोते को विधिक रूप से हक होता है। इस प्रकार के मामले में, यदि किसी भी प्रकार का विवाद उत्पन्न हो, तो पोता दीवानी न्यायालय में मुकदमा दर्ज करा सकता है। उसे इस संपत्ति का हक पिता या दादा की तरह ही होता है, जैसा कि पूर्वजों को होता है।

पैतृक संपत्ति के बारे में

वह संपत्ति, जो पूर्वजों से विरासत में मिलती है, को पैतृक संपत्ति कहा जाता है। उदाहरण के लिए, परदादा से दादा, दादा से पिता, और फिर पिता से पोता इस संपत्ति के हकदार होते हैं। इस संपत्ति को लेकर नियम स्वयं अर्जित संपत्ति से अलग होते हैं।

वकील की मदद लेना बेहतर होगा

यदि किसी पोते का कानूनी रूप से पैतृक संपत्ति पर दावा साबित होता है, तो उसे संपत्ति प्राप्त करने के लिए एक पेशेवर वकील की सलाह लेना सबसे उत्तम होगा। इसके माध्यम से, जहां जमीन या संपत्ति के विवादों से जुड़ी उलझनों से बचा जा सकता है, वहीं न्यायिक प्रक्रिया के जटिलताओं से भी बचा जा सकता है।

Leave a Comment