मदर्स डे पर निबंध – मातृ दिवस पर निबंध – Mother’s Day Essay in Hindi

मदर्स डे पर निबंध :- जैसे की आप सभी लोग जानते ही हैं की माँ की जगह बच्चे के लिए कोई भी नहीं ले सकता है। भगवान के बाद अगर इंसान को किसी को मानना चाहिए तो वह माँ है क्योंकि इस दुनिया में केवल माँ ही है जो की अपने बच्चे का ध्यान हमेशा रखती है एवं अपने बच्चे को सबसे अधिक प्रेम भी करती है। एक कहावत भी है की “भगवान बच्चों की देखभाल के लिए हर जगह उपस्थित नहीं हो सकते इसलिए उन्होंने माँ को बनाया”। मदर्स डे (Mother’s Day) का इंतजार बच्चों तथा विद्यार्थियों को हमेशा ही बेसब्री से होता है क्योंकि दुनिया की सभी माताओं के लिए यह दिन समर्पित होता है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

मातृ दिवस हर साल मई महीने के दूसरे रविवार को मनाया जाता है। माँ ही बच्चों की सबसे पहली शिक्षक होती है जो की बच्चों को सबसे पहले सभी चीजें सिखाती है। तो दोस्तों आज हम आप सभी लोगों को इस आर्टिकल के माध्यम से मदर्स डे पर निबंध के बारे में बताएंगे वो भी Mother’s Day Essay in Hindi में। आप अगर स्कूल में पढ़ रहे हैं तो यह आपके तभी भी काम आएगा एवं अगर आप अपनी माता के लिए कुछ लिखना चाहते हैं तो यह तभी आपके लिए काफी लाभ पहुंचाएगा। इसलिए हमारे आर्टिकल को अंत तक पढ़ें एवं आपको निबंध पढ़ कर कैसा लगा हमे कमेंट में आकर बताएं।

मदर्स डे पर निबंध – मातृ दिवस पर निबंध – Mother’s Day Essay in Hindi
मदर्स डे पर निबंध – मातृ दिवस पर निबंध – Mother’s Day Essay in Hindi

मदर्स डे पर निबंध

मातृत्व को सम्म्मान और आदर देने के लिए हर साल मातृ दिवस मनाया जाता है, इसे हर साल भारत में मई महीने के दूसरे रविवार के दिन मनाया जाता है। इस दिन को मनाने के लिए माँ को खासतौर पर बच्चों के स्कूल में आमंत्रित किया जाता है। मातृ-दिवस शिक्षक कई सारे कार्यक्रमों के लिए ढेर सारी तैयारियां करते हैं। बहुत सारे विद्यार्थी अपने माता के लिए हिंदी एवं इंग्लिश में कविताएं बनाते हैं, कोई निबंध लेखन, भाषण तथा कुछ शायर की कुछ पंक्तियाँ, आदि चीजें बच्चे अपने माँ के लिए तैयार करते हैं। विभिन्न देशों में यह अलग अलग तरीकों से मनाया जाता है। कई सारे बच्चे अपने माँ को कुछ सरप्राइज़ गिफ्ट भी देते हैं।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध | 15 अगस्त पर निबंध

तो दोस्तों आज हम आपको अलग अलग मातृ दिवस पर निबंध के बारे में बताएंगे जो की अलग अलग शब्दों जैसे 250, 500 शब्दों के होंगे, आपको जो भी अच्छा लगे उसे आप अपनी कॉपी में लिख सकते हैं एवं हमे कमेंट के माध्यम से भी बता सकते हैं की आपको कैसा लगा इसलिए आगे निबंध को पढ़ते रहें।

मदर्स डे पर निबंध (250 शब्द)

माँ बच्चों की सबसे अच्छी दोस्त होती है क्योंकि वो बच्चों की सभी चीजों का ध्यान रखती है जिसकी की बच्चो को आवश्यकता होती है इसलिए उन्हें आदर एवं सम्मान देने के लिए प्रत्येक वर्ष में एक दिन समर्पित किया गया है जिसे की हम मदर्स डे (Mother’s Day) के रूप में मनाते हैं। बच्चे बिना माँ के देख भाल के तथा प्यार के नहीं रह सकते। माँ बच्चों का बहुत ही ध्यान रखती है। जब बच्चे दुखी होते हैं तो माँ भी दुखी हो जाती है और जब बच्चे हँसते हैं तो माँ भी खुश हो जाती है। दुनिया में एकमात्र इंसान माँ ही है जो की बच्चो को कभी भी अकेला नहीं छोड़ती।

भारत में सभी बच्चे मई महीने के दूसरे रविवार को मातृ दिवस मनाते हैं और मदर्स डे (Mother’s Day) को मनाने के लिए घर में पूरा परिवार साथ होता है और घर में अनेक प्रकार के व्यंजन बनाये जाते हैं। परिवार के सभी लोग माँ को गिफ्ट तथा बधाइयाँ देते हैं क्योंकि माँ अपने बच्चों के लिए हमेशा ही मौजूद रहती है। जब हम बड़े भी हो जाते हैं तभी भी माँ हमारा ध्यान ऐसे रखती है जैसे की किसी छोटे बच्चे की तरह। हम अपने जीवन में योगदानो की गणना नहीं कर सकते हैं, इसके आलावा हम उनके दिन से लेकर रात तक की क्रियाकलापों की गणना भी नहीं कर सकते वो इतना काम करती हैं।

एक माँ के पास बहुत सारी जिम्मेदारियां होती हैं जिसे की वो बिना रुके बिना थके लगातार निभाती है। वो एकमात्र ऐसी इंसान हैं जिसका काम पूरे दिन में बिना किसी समय तय के असीमित होता है। हम उनके इस योगदान के बदले कुछ भी वापिस नहीं कर सकते हैं लेकिन हाँ हम उनको इसके बदले हाँ जरूर कह सकते हैं। साथ में हम उन्हें समान तथा आदर के साथ उनका ध्यान भी रख सकते हैं। हमे अपनी माँ को समान और प्यार देना चाहिए और उनकी सभी बातों को मानना चाहिए।

मदर्स डे पर निबंध 2 (300 शब्द)

माँ और बच्चे के लिए मदर्स दे बहुत ही ख़ास दिन होता है। काफी समय से भारत में यह मई महीने के दूसरे रविवार के दिन मनाया जाता है। स्कूल में विद्यार्थियों तथा शिक्षकों के द्वारा माताओं को आमंत्रण कर मदर्स डे (Mother’s Day) मनाया जाता है। विधार्थियों के द्वारा अपनी मताओं को खुश करने के लिए अनेक प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रमों में प्रतिभाग किया जाता है। प्रधानाध्यापक तथा शिक्षक के आदेश पर सभी बच्चों के माताओं को विशेष रूप से आमंत्रित किया जाता है। वर्ष के इस दिन माँ को बहुत ही स्नेह एवं सरप्राइज उपहार मिलते हैं, और मिले भी क्यों न माँ हमारे लिए हर दिन अपना इतना योगदान जो देती है।

बच्चों के द्वारा अपनी माँ के लिए हिंदी एवं इंग्लिश में कविताएं एवं कहानियां लिखी एवं कही जाती हैं। विश्व के अनेकों देश में मदर्स डे को अलग अलग दिनों में मनाया जाता है लेकिन भारत में इसे मई महीने के दूसरे दिन ही मनाया जाता है। छोटे से लेकर बच्चों को बड़ा बनने तक माँ का एक अहम योगदान होता है। केवल एक माँ ही अपने बच्चों के जीवन के चरित्र को सही कर सकती है। बच्चों की जरूरतों का माँ हमेशा ही पूर्ण रूप से ध्यान रखती है। बच्चों के विकास में माँ का एक अहम भूमिका है जिसकी पूर्ति कोई भी नहीं कर सकता है। सुबह से लेकर वह रात तक बच्चों के प्रति समर्पित होती है।

माँ परिवार में सबसे पहले जल्दी उठ जाती है और सभी के लिए काम करने के लिए लग जाती है। बच्चों को नहलाना, स्कूल के लिए तैयार करना, उनका लंच बनाना, घर के सभी कामो को करना, दूध और फल देना, बीमार होने पर समय पर दवाइयां देना, घर में सभी प्रकार के लज़्ज़िज़ पकवान बनाना, कपडे धोना, रात में सही समय पर सुला देना, रात को अच्छा खाना बनाना, तथा जीवन की सारी क्रियाओं में अपना प्रतिभाग करना। वास्तव में हमारी माँ बहुत ही कार्य करती है जिनकी की हम गणना भी नहीं कर सकते। वह एक दिन में असीमित कार्य करती है, इसलिए हम आसानी से कह सकते हैं की माँ महान होती है।

यह भी देखें>> स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध

मदर्स डे पर निबंध 3 (400 शब्द)

हमारी माँ हमको सभी परेशानियों से बचाती है इसलिए माँ हमारे लिए एक सुरक्षा कवच की तरह होती है। माँ कभी भी परेशानियों के ऊपर ध्यान नहीं देती वह बस हर समय बच्चों के ऊपर ही ध्यान देती है। इसलिए माँ को सम्मान तथा आदर देने के लिए भारत में हर साल मई के महीने के दूसरे रविवार को Mother’s Day मनाया जाता है। ये दिन हमारी मताओं के लिए बहुत ही ख़ास होता है क्योंकि पूरे वर्ष में केवल यही दिन है जब बच्चे अपनी माँ को आदर दे सकते हैं। इसलिए इस दिन हमे उन्हें खुश रखना चाहिए उन्हें दुखी नहीं करना चहिये। हमे उनकी सभी आज्ञाओं का पालन करना चहिये।

सभी स्कूल में एकसाथ मदर्स डे (Mother’s Day) को मनाने के लिए बड़े बड़े कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं, जिसमे की बच्चे एवं शिक्षक आपस में मिलकर उत्सव की तैयारी करते हैं। इस कार्यक्रम को मानाने के लिए निबंध, कविताएं, संगीत, भाषण, संवाद इत्यादि चीजें आयोजित की जाती हैं। हमे ईश्वर का धन्यवाद करना चहिये की उन्होंने इतना ध्यान रखने वाली तथा प्यार करने वाली माँ को हमे दिया है। हम बहुत ही भाग्यशाली हैं की हमारे पास माँ है। इसलिए सभी लोग माँ को मदर्स डे (Mother’s Day) के दिन बहुत सारे उपहार देते हैं। उत्सव की शोभा बढ़ाने के लिए स्कूल के प्रधानाध्यापक माताओं को निमंत्रण कार्ड भी देते हैं।

हमारी ख़ुशी को दुगनी करने के लिए माँ इस दिन सभी क्रियाकलापों में भाग लेती हैं, तथा बच्चे भी अनेक प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रमों में अपनी प्रतिभा दिखाते हैं। कार्यक्रम के समापन के बाद हम, हमारी माता, और शिक्षक स्वादिष्ट व्यंजनों का आनंद उठाते हैं। इस दिन सभी को अनेक प्रकार के व्यंजन खाने के लिए मिलते हैं।

माँ सभी के लिए बहुत ही ख़ास होती है क्यंकि वह थकी होने के बावजूद भी मुस्कराती रहती है। रात में सोने के लिए बच्चों को कहानी एवं कविताएं भी सुनाती है। माँ बच्चों के कार्य करने में भी मदद करती है। वह हमारे दिनचर्या से संबंधित सभी कामों को सीखाती है। एक माँ बच्चों की पहली शिक्षिका होती है इसलिए वह बच्चों को हमेशा ही शिष्टाचार, नैतिकता एवं इंसानियत की परिभाषा को सीखाती है। इसलिए हमे इस दिन को बहुत ही ख़ास ढंग से मनाना चाहिए।

मदर्स डे पर निबंध से संबंधित प्रश्न एवं उत्तर

मदर्स डे कब मनाया जाता है ?

भारत में मदर्स डे मई महीने के दूसरे रविवार को मनाया जाता है।

2024 में मदर्स डे कब मनाया जाएगा ?

2024 में मदर्स डे 12 मई को मनाया जाएगा।

मदर्स डे क्यों मनाया जाता है ?

भारत में अपनी माताओं को समान एवं आदर देने के मदर्स डे को मनाते हैं।

मदर्स डे सबसे पहले किसने मनाया था ?

मदर्स डे सबसे पहले अन्ना जार्विस ने मनाया था।

मदर्स डे के लिए एक शायरी बताइये ?

सवरने की उसे फुर्सत कहां होती है।
माँ फिर भी बहुत ही खूबसूरत होती है।।

Leave a Comment