Loan Guarantor Rule: गारंटी बनने से पहले जान लें ये 5 नियम, नहीं तो घर आ जाएगा नोटिस

Loan Guarantor Rule : गारंटर वह व्यक्ति होता है जो किसी अन्य व्यक्ति के ऋण की गारंटी देता है। इसका मतलब है कि यदि ऋण लेने वाला व्यक्ति ऋण चुकाने में असमर्थ होता है, तो गारंटर को ऋण चुकाने के लिए जिम्मेदार होगा।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

गारंटर बनने का मतलब है कि आप किसी दूसरे व्यक्ति के ऋण की गारंटी दे रहे हैं। इसका मतलब है कि यदि ऋण लेने वाला व्यक्ति ऋण चुकाने में असमर्थ होता है, तो आपको ऋण चुकाने के लिए जिम्मेदार होगा। गारंटर बनने से पहले आपको कई दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करने होंगे इन दस्तावेजों में ऋण की शर्तें, ऋण की राशि, ब्याज दर और चुकौती अवधि शामिल हैं।यह जानना महत्वपूर्ण है कि गारंटी केवल औपचारिकता नहीं है। यदि ऋण लेने वाला व्यक्ति ऋण चुकाने में असमर्थ होता है, तो आपके घर भी नोटिस आ सकता है।

Loan Guarantor Rule : गारंटी बनने से पहले जान लें ये 5 नियम, नहीं तो घर आ जाएगा नोटिस
Loan Guarantor Rule : गारंटी बनने से पहले जान लें ये 5 नियम, नहीं तो घर आ जाएगा नोटिस

गारंटर पर बड़ी जिम्मेदारी

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

बैंक या कोई भी वित्तीय संस्थान ज्यादातर बिना गारंटर के लोन नहीं देते है.लोन के गारंटर पर बड़ी जिम्मेदारी होती. अगर लोन लेने वाला शख्स लोन नहीं चुका पाता है, तो कानूनी रूप से गारंटर पर इसे चुकाने की जिम्मेदारी होती है. 

Yes Bank के मुताबिक, गारंटर वह व्यक्ति होता है जो किसी और के ऋण चुकाने की ज़िम्मेदारी लेता है। यह केवल ऋण लेने वाले की मदद करने की औपचारिकता नहीं है, बल्कि गारंटर ऋण चुकाने के लिए समान रूप से ज़िम्मेदार होता है।

बराबर का कर्जदार

नियमों के अनुसार, गारंटर ऋण लेने वाले के समान ही ऋण का ज़िम्मेदार होता है। ऋण चुकाने में विफलता (डिफ़ॉल्ट) की स्थिति में, बैंक पहले ऋण लेने वाले को नोटिस भेजता है। यदि कोई प्रतिक्रिया नहीं आती है, तो बैंक ऋण लेने वाले के साथ-साथ गारंटर को भी नोटिस भेजता है।बैंक की प्राथमिकता ऋण लेने वाले से ही ऋण वसूलने की होती है। यदि ऋण लेने वाला ऋण चुकाने में असमर्थ होता है, तो गारंटर को डिफ़ॉल्ट के लिए उत्तरदायी माना जाता है।

गारंटर की जरूरत क्यों?

सभी ऋणों के लिए गारंटर की आवश्यकता नहीं होती है। बैंक ऋण आवेदक के दस्तावेजों और ऋण चुकाने की क्षमता का मूल्यांकन करते हैं। यदि ऋण आवेदक के दस्तावेज अपर्याप्त हैं या बैंक को ऋण चुकाने की क्षमता पर संदेह है, तो वे ऋण स्वीकृति के लिए गारंटर की मांग कर सकते हैं। बड़ी राशि के ऋणों के लिए भी गारंटर की आवश्यकता होती है। बैंक बड़ी राशि के ऋणों पर अधिक जोखिम लेते हैं, इसलिए वे ऋण चुकाने की गारंटी के लिए गारंटर की मांग करते हैं।

गारंटर को हो सकती है परेशानी

लोन गारंटर बनना एक महत्वपूर्ण निर्णय है जो आपके क्रेडिट स्कोर को प्रभावित कर सकता है। ऋण स्वीकृत करने से पहले, बैंक गारंटर की ऋण चुकाने की क्षमता का मूल्यांकन करते हैं। यह मूल्यांकन गारंटर के क्रेडिट स्कोर की जांच करके किया जाता है।

Leave a Comment