Indian Currency Note: 100 रुपये के नोट पर कितनी भाषाएं लिखी होती है? जानिए क्यों लिखी जाती हैं

Indian Currency Note: क्या आपने कभी ध्यान दिया है कि 100 रुपये के नोट पर कितनी भाषाएं लिखी होती हैं? शायद नहीं। तो आइए आपको बताते हैं कि 100 रुपये के नोट पर कितनी भाषा लिखी होती हैं।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

भारतीय मुद्रा, विशेष रूप से 100 रुपये के नोट पर, 17 भाषाओं में जानकारी लिखी होती है। यह विविधता भारत की भाषाई विविधता और सांस्कृतिक समृद्धि को दर्शाती है। भारतीय रुपये पर इतनी भाषाओं का होना, देश के संविधान द्वारा मान्यता प्राप्त अलग-अलग भाषाओं के प्रति सम्मान और स्वीकृति को दर्शाता है।

नोट पर लिखी विभिन भाषाएं

ये 17 भाषाएँ हैं: हिंदी, अंग्रेजी, असमिया, बंगाली, गुजराती, कन्नड़, कश्मीरी, कोंकणी, मलयालम, मराठी, नेपाली, उड़िया, पंजाबी, संस्कृत, तमिल, तेलुगु और उर्दू। ये भाषाएँ नोट के पिछले हिस्से पर छपी होती हैं, जिसमें भारतीय रुपये का मूल्य विभिन्न भाषाओं में लिखा होता है। इस प्रकार, भारतीय मुद्रा न केवल आर्थिक मूल्य का प्रतिनिधित्व करती है बल्कि यह देश की भाषाई और सांस्कृतिक विविधता को भी समेटे हुए है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

इन भाषाओं को लिखने का कारण

भारतीय मुद्रा पर विभिन्न भाषाओं को शामिल करने का मुख्य कारण भारत की विशाल भाषाई विविधता और सांस्कृतिक समृद्धि को सम्मान और पहचान देना है। भारत में अनेक भाषाएँ बोली जाती हैं, और संविधान में अनेक भाषाओं को आधिकारिक दर्जा दिया गया है।

इन भाषाओं को मुद्रा पर अंकित करके, सरकार ने सभी भारतीय नागरिकों के साथ समानता और समावेशिता का संदेश दिया है। यह प्रत्येक नागरिक को यह महसूस कराने का एक तरीका है कि उनकी भाषा और संस्कृति को राष्ट्रीय स्तर पर महत्व दिया जाता है।

Leave a Comment