High Court Decision : पत्नी ने संबंध बनाने से किया इनकार, तो पति को मिल सकता है तलाक? जानिए हाईकोर्ट का फैसला

High Court Decision : पति-पत्नी के रिश्ते में अंतरंगता, चाहे वो शारीरिक हो या भावनात्मक, रिश्ते की मजबूती और प्यार के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। यह ना केवल प्यार जताने का एक तरीका है, बल्कि यह रिश्ते में विश्वास, समझ और लगाव को भी बढ़ाता है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
High Court Decision : पत्नी ने संबंध बनाने से किया इनकार, तो पति को मिल सकता है तलाक? जानिए हाईकोर्ट का फैसला
High Court Decision : पत्नी ने संबंध बनाने से किया इनकार, तो पति को मिल सकता है तलाक? जानिए हाईकोर्ट का फैसला

हाल ही में मध्य प्रदेश हाईकोर्ट में एक अहम फैसला सुनाया गया। एक व्यक्ति ने याचिका दायर की थी कि शादी के बाद उसकी पत्नी ने उसके साथ संबंध बनाने से इनकार कर दिया है। हाईकोर्ट ने इस याचिका पर फैसला सुनाते हुए कहा कि पत्नी का लगातार संबंध बनाने से इनकार करना मानसिक क्रूरता के समान है और यह पति को तलाक के लिए आधार दे सकता है।यह फैसला एक महत्वपूर्ण कदम है, क्योंकि यह पति-पत्नी के बीच अंतरंगता के महत्व को दर्शाता है। यह फैसला उन महिलाओं को भी सचेत करता है जो शादी के बाद अपने पति से संबंध बनाने से इनकार करती हैं।

मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए टिप्पणी की कि पत्नी द्वारा पति के साथ संबंध न बनाने पर आरोप लगाना क्रूरता है और इस आधार पर पति की तलाक की मांग को वैध ठहराया। इस ट्रायल कोर्ट द्वारा दिए गए फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई की गई थी, जिसमें अपीलकर्ता ने दायर आवेदन को खारिज करने की याचिका दर्ज कराई थी।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

शादी के बाद पत्नी ने पति के साथ संबंध न बनाने का इंकार किया था, जिसके कारण पति ने उस पर तलाक की मांग की थी। पति ने कोर्ट को बताया कि उसकी पत्नी ने ई-मेल के माध्यम से धमकी दी थी कि वह आत्महत्या करेगी और उसके साथ-साथ माता-पिता के खिलाफ भी झूठा मुकदमा दर्ज कराया था। ट्रायल कोर्ट ने पत्नी की याचिका को समन जारी किया, लेकिन वह कोर्ट में अनुपस्थित रही।

इसके बाद ट्रायल कोर्ट ने प्रतिवादी के खिलाफ एकपक्षीय कार्यवाही की और आक्षेपिक निर्णय पारित किया, जिसमें अपीलकर्ता द्वारा दायर आवेदन को खारिज कर दिया गया कि अपीलकर्ता तलाक की मांग करने के लिए उपलब्ध किसी भी आधार को साबित नहीं कर सका।

हाईकोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि पत्नी द्वारा सार्वजनिक रूप से सार्वजनिक संबंध से इनकार करने पर पति द्वारा लगाया गया आरोप मानसिक क्रूरता का समर्थन करता है और ट्रायल कोर्ट को फैसला सुनाते समय इस बिंदु पर ध्यान देना चाहिए था।

Leave a Comment