Education Loan लेते वक्त ये टिप्स अपनाएं, कर्ज चुकाना होगा आसान

जैसे-जैसे उच्च शिक्षा की लागत में इज़ाफा हो रहा है, एजुकेशन लोन ने कई सपनों को साकार करने का एक माध्यम प्रदान किया है। विशेषकर, मध्यमवर्गीय परिवारों के लिए, जहाँ एकमुश्त राशि जोड़ना कठिन हो सकता है, एजुकेशन लोन एक वरदान सिद्ध हो रहा है। हालांकि, इस प्रक्रिया के दौरान थोड़ी सावधानी और सोच-विचार आपके भविष्य को और भी सुरक्षित बना सकती है। आइए उन महत्वपूर्ण बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा करें जिन्हें एजुकेशन लोन लेते समय ध्यान में रखना चाहिए।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
Education Loan लेते वक्त ये टिप्स अपनाएं, कर्ज चुकाना होगा आसान
Education Loan लेते वक्त ये टिप्स अपनाएं, कर्ज चुकाना होगा आसान

सही राशि का चुनाव

एजुकेशन लोन लेने से पहले, आपको यह तय करना होगा कि आपको कितनी राशि की आवश्यकता है। यह फीस, हॉस्टल का खर्च, किताबों, और अन्य शैक्षिक सामग्री की लागत को शामिल करता है। इन सभी खर्चों की एक सूची बनाकर, आप उस राशि का सही अनुमान लगा सकते हैं जो आपको लोन के रूप में चाहिए होगी। इससे आप अधिक या कम लोन लेने की स्थिति से बच सकते हैं।

चुकाने की अवधि का निर्धारण

एजुकेशन लोन पर चुकाने की अवधि बहुत महत्वपूर्ण होती है। ज्यादातर बैंक आपको कोर्स की अवधि प्लस एक अतिरिक्त वर्ष (मोरेटोरियम पीरियड) देते हैं, जिसमें आपको EMI नहीं देनी होती। इसके बाद, आपको 15 साल तक का समय मिल सकता है ऋण चुकाने के लिए। यह सुनिश्चित करें कि आप इस अवधि को अपनी वित्तीय स्थिति के अनुसार चुनें।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

ब्याज दरों पर ध्यान दें

एजुकेशन लोन पर ब्याज दर विभिन्न बैंकों में भिन्न होती है। इसलिए, विभिन्न बैंकों की ब्याज दरों की तुलना करें और सबसे कम दर वाले विकल्प का चुनाव करें। इससे आपकी लंबी अवधि में काफी बचत हो सकती है।

भविष्य की आय पर विचार

जिस कोर्स के लिए आप लोन ले रहे हैं, उसकी नौकरी की संभावनाओं और वेतन का अनुमान लगाएं। इससे आपको यह समझने में मदद मिलेगी कि आप ऋण चुकाने की कितनी राशि वहन कर सकते हैं।

एजुकेशन लोन लेना आपके शैक्षिक और व्यावसायिक जीवन की एक महत्वपूर्ण शुरुआत हो सकती है। इन सभी टिप्स को ध्यान में रखकर, आप बिना किसी वित्तीय तनाव के अपने शैक्षिक सपनों को साकार कर सकते हैं।

Leave a Comment