फरवरी से बनेंगे आयुष्मान कार्ड, 5 लाख तक का निशुल्क इलाज, जानें कैसे करें ऑनलाइन आवेदन

आयुष्मान भारत योजना, जिसे प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (पीएमजेएवाई) भी कहा जाता है, अब तीसरे चरण में है, जिससे लोगों के लिए आयुष्मान कार्ड के लिए आवेदन करना और प्राप्त करना बेहद आसान हो गया है। भारत सरकार की इस पहल का उद्देश्य सभी नागरिकों को स्वास्थ्य सेवा पहुंचाना है, खासकर जिन्हें इसकी आवश्यकता है। प्रक्रिया को सरल बनाया गया है, जिसमें भौतिक दौरा करने की आवश्यकता को समाप्त किया गया है, और अब आप एक सामान्य स्मार्टफोन ऐप्लिकेशन का उपयोग करके अपने घर से ही इस प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
फरवरी से बनेंगे आयुष्मान कार्ड, 5 लाख तक का निशुल्क इलाज, जानें कैसे करें ऑनलाइन आवेदन
फरवरी से बनेंगे आयुष्मान कार्ड, 5 लाख तक का निशुल्क इलाज, जानें कैसे करें ऑनलाइन आवेदन

आयुष्मान कार्ड क्या है?

आयुष्मान कार्ड केंद्र सरकार की आयुष्मान भारत योजना का हिस्सा है, जिसे अक्सर “गोल्डन कार्ड” प्रोग्राम के रूप में जाना जाता है। इस योजना के तहत पात्र व्यक्तियों को एक स्वास्थ्य कार्ड प्राप्त होता है, जिससे उन्हें सरकारी और निजी अस्पतालों में ₹5 लाख तक का मुफ्त चिकित्सा उपचार मिलता है। इस पहल का उद्देश्य सभी के लिए गुणवत्ता स्वास्थ्य सेवा सुनिश्चित करने के रूप में काम करना है।

2022 में आयुष्मान 2.0 का शुभारंभ

अगस्त 2022 में, “आयुष्मान-आपके द्वारा वर्जन 2.0” कैंपेन को पुनर्लॉन्च किया गया। इस चरण में, आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए आईटी आधारित मोबाइल ऐप्लिकेशनों का उपयोग और स्थानीय कार्यकर्ताओं (FLWs) की भागीदारी का ध्यान रखा गया। वित्त वर्ष 2022-23 के दौरान, 10 करोड़ से अधिक आयुष्मान कार्ड जारी किए गए, इस प्रोग्राम की विस्तार और पहुंच का प्रमाण देते हुए।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

आयुष्मान कार्ड के लाभ

आयुष्मान भारत योजना नागरिकों को स्वास्थ्य कार्ड प्रदान करती है, जिसे आयुष्मान कार्ड के रूप में जाना जाता है, जिससे उन्हें अस्पतालों में ₹5 लाख तक का मुफ्त चिकित्सा उपचार करवाने की सुविधा मिलती है। यह योजना गरीब और आवश्यकता मंद लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्वास्थ्य पहल है। आयुष्मान कार्ड के माध्यम से, आपातकालीन स्थितियों में किसी के सामने पैसे नहीं बढ़ते हैं, और आप सरकारी और निजी अस्पतालों से ₹5 लाख तक का मुफ्त उपचार करवा सकते हैं।

आयुष्मान कार्ड के लिए योग्यता

आयुष्मान कार्ड को निराश्रित या आदिवासी वर्ग के लोग बना सकते हैं। साथ ही, यदि कोई व्यक्ति भूमिहीन है या उनके परिवार में कोई दिव्यांग सदस्य है, तो भी वे आयुष्मान कार्ड के लिए पात्र हैं। ऑनलाइन आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए, व्यक्ति के पास आधार कार्ड के साथ-साथ आधार कार्ड से जुड़े मोबाइल नंबर होना चाहिए।

ऑनलाइन ऐप से आयुष्मान कार्ड कैसे बनाएं

सरकार ने आयुष्मान सूची जारी कर दी है, लेकिन यदि आपका नाम सूची में नहीं है, तो भी आप अपना आयुष्मान कार्ड बनवा सकते हैं। इसके लिए दो विचार उपलब्ध हैं: पहला, ऑनलाइन वेबसाइट के माध्यम से और दूसरा, मोबाइल ऐप्लिकेशन के माध्यम से।

प्ले स्टोर पर “आयुष्मान” ऐप इंस्टॉल करने की सुविधा दी गई है। एप्लीकेशन इंस्टॉल करने के बाद, मोबाइल नंबर की मदद से अपने विवरणों का पंजीकरण कराना होगा, और दिए गए सभी चरणों को सावधानी से फॉलो करना होगा। अपने मोबाइल से आवश्यक दस्तावेजों की डिजिटल कॉपी को स्कैन करके अपलोड करना होगा, और इस तरीके से आप आयुष्मान 3.0 के तहत अपना आयुष्मान कार्ड प्राप्त कर सकते हैं।

आयुष्मान कार्ड की खासियत

आयुष्मान कार्ड से न केवल लाभार्थी के हाथ में अधिकार और सशक्तिकरण आता है, बल्कि यह एक सामान्य पहचान बनाने में भी मदद करता है जिससे भारत भर में योजना को प्रसारित करने में मदद मिलती है।

आयुष्मान 3.0

करोड़ों आयुष्मान कार्ड बनवाने के बावजूद, बहुत से लोग ऐसे थे जिनका आयुष्मान कार्ड नहीं बन पाया था। इसलिए, भारत सरकार ने 17 सितंबर 2023 को “आयुष्मान आपके द्वारा वर्जन 3.0” का शुभारंभ किया, जिसमें लाभार्थियों को खुद ऑनलाइन पंजीकरण की सुविधा दी गई है। सेल्फ रजिस्ट्रेशन मोड में, आइरिस और फिंगर प्रिंट के साथ-साथ ओटीपी और फेस आधारित वेरिफिकेशन की सुविधा दी जाएगी

निष्कर्षण

आयुष्मान कार्ड के माध्यम से स्वास्थ्य सेवा प्राप्त करना बेहद आसान हो गया है। इस पहल का उद्देश्य सभी नागरिकों को स्वास्थ्य सेवा की सामान्य पहचान और पहुंच प्रदान करना है, खासकर उन लोगों के लिए जिनकी आर्थिक स्थिति दुर्बल है। ऑनलाइन आवेदन करने के लिए आपको सिर्फ एक स्मार्टफोन और आधार कार्ड की आवश्यकता है, जो आपके लिए आपके स्वास्थ्य की देखभाल को सरल और सुगम बना देता है।

Leave a Comment