अटल भूजल योजना 2022: जानें इसकी विशेषताएं, उद्देश्य व कार्यान्वयन प्रक्रिया

अटल भूजल योजना 2022– की शुरुआत केंद्र सरकार के द्वारा की गयी है। इस योजना के अंतर्गत देश भूजल प्रबंधन में सुधार किया जायेगा। देश में कई सारे स्थान है ऐसे है जहाँ लोगो को पानी की समस्या से जूझना पड़ता है। भूजल से संबंधी सभी समस्याओं को दूर करने के लिए केंद्र एवं राज्य सरकार की ओर से विभिन्न प्रकार की योजनाएं संचालित की जाती है। भूजल से संबंधी समस्याओं का निराकरण करने के लिए केंद्र सरकार के द्वारा Atal Bhujal Yojana की शुरुआत की गयी है। केंद्र सरकार की इस योजना के अंतर्गत भूजल के स्तर को बढ़ाया जायेगा। आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से अटल भूजल योजना 2022: जानें इसकी विशेषताएं, उद्देश्य व कार्यान्वयन प्रक्रिया से जुड़ी जानकारी को साझा करने जा रहे है। अतः इस योजना से संबंधी सभी महत्वपूर्ण जानकारी के लिए आप हमारे इस लेख को अंत तक पढ़े।

अटल भूजल योजना 2022

Atal Bhujal Yojana– के अंतर्गत केंद्र सरकार के द्वारा देश में ऐसे सात स्थानों को चिन्हित किया गया है जहाँ लोग पानी की समस्या से जूझ रहे है। केंद्र सरकार की यह योजना ऐसे क्षेत्रों की स्थाई भूजल प्रबंधन के लिए सामुदायिक भागीदारी और मांग हस्तक्षेप पर विशेष ध्यान दिया जायेगा। अटल भूजल योजना के अंतर्गत जल जीवन मिशन के लिए बेहतर स्रोत स्थिरता ,किसान भाइयों की आय को दोगुना करने के लक्ष्य में सकारात्मक योगदान वा जल उपयोग की सुविधा के लिए समुदाय के व्यवहार में बदलाव लाने की परिकल्पना की गयी है।

केंद्र सरकार की ओर से अटल भूजल योजना 2022 के संचालन हेतु 6000 करोड़ रूपये की राशि खर्च की जाएगी। इस परियोजना के कार्यान्वयन के लिए 50 प्रतिशत पैसा विश्व बैंक से ऋण के रूप में लिया जायेगा एवं 50 प्रतिशत तक की राशि भारत सरकार की ओर से खर्च की जाएगी।

Atal Bhujal Yojana 2022

योजना का नामअटल भूजल योजना
योजना आरम्भ की गयी केंद्र सरकार के अंतर्गत
वर्ष 2022
योजना का मुख्य उद्देश्यदेश के उन क्षेत्रों में भूजल स्तर को बढ़ाना जहाँ
पानी की समस्या है
लाभ उन सभी क्षेत्रों में पानी की समस्या के लिए
निराकरण जहाँ पानी की सुविधा उपलब्ध नहीं है
योजना से जुड़े लाभार्थीभारत देश के नागरिक
योजना श्रेणी केंद्र स्तरीय सरकारी योजना
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन
आधिकारिक वेबसाइटataljal.mowr.gov.in

अटल भूजल योजना 2022 के उद्देश्य

Atal Bhujal Yojana 2022– का मुख्य उद्देश्य है देश के उन सभी क्षेत्रों में जल संकटग्रस्त क्षेत्रों में भूजल संसाधनों के प्रबंधन में सुधार करना है जो योजना में मुख्य रूप से चिह्नित किये गए है। विभिन्न तरह की चल रही नई केंद्रीय और राज्य योजनाओं के अभिसरण के माध्यम से समुदाय के नेतृत्व में उचित निवेश प्रबंधन कार्यों को लागू करके प्राप्त किया जायेगा। केंद्र सरकार के द्वारा इस योजना से जल व्यवस्था में सुधार किया जायेगा। इस प्रक्रिया के आधार पर सामाजिक लाभ पैदा होंगे जिससे विशेष रूप से इसका एक सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। बाढ़ एवं सूखेग्रस्त से त्रस्त जनसँख्या विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले गरीब लोगो को इसका लाभ मिलेगा। अटल भूजल योजना 2022 भूजल प्रबंधन के लिए केंद्र एवं राज्य सरकार की एजेंसियों के द्वारा कार्यान्वयन किया जायेगा।

Atal Bhujal Yojana 2022 परियोजना कार्यान्वयन

भारत सरकार के द्वारा शुरू की गयी इस योजना के अंतर्गत परियोजना कार्यान्वयन केंद्रीय स्तर एवं राज्य स्तर पर नीचे दी गयी संबंधित एजेंसियों के द्वारा किया जायेगा।

केंद्रीय स्तर – केंद्रीय स्तर पर MoWR, RD&GR के तहत CGWB संस्थागत सुदृढ़ीकरण एवं क्षमता निर्माण के साथ-साथ प्रोत्साहन घटक दोनों के संबंध में राष्ट्रीय और राज्य ,जिला स्तर पर अटल भूजल योजना परियोजना का संचालन किया जायेगा। इसका मुख्य लक्ष्य टैक्नोलॉजी का विकास और प्रसार और भूजल संसाधनों के वैज्ञानिक और सतत विकास के लिए राष्ट्रीय नीतियों की निगरानी और कार्यान्वयन किया जायेगा। इसमें मुख्य रूप से खोज मूल्यांकन संरक्षण वृद्धि और वितरण से संबंधी सुरक्षा को शामिल किया गया है।

राज्य स्तर -state level पर इस योजना का कार्यान्वयन एजेंसी (एसपीआईए) और तकनीकी सहायता एजेंसी/नोडल एजेंसियां ​​जैसे जल संसाधन विभाग, कृषि विभाग, सार्वजनिक स्वास्थ्य और इंजीनियरिंग विभाग, पंचायती राज विभाग आदि के द्वारा किया जायेगा। वे मुख्य रूप से भूजल संसाधन आकलन और निगरानी समीक्षा और राज्य कार्य योजनाओं अंतर् विभागीय समन्वय पर ध्यान केंद्रित करते है। जल जीवन मिशन के तहत हस्तक्षेप सहित अन्य चल रही केंद्रीय एवं राज्य क्षेत्र की योजनाओं से धन का बिंदु सुनश्चित किया जायेगा।

संबंधित राज्यों की भूजल एजेंसियां ​​इस प्रकार हैं

  •  गुजरात- जल संसाधन विभाग के अंतर्गत गुजरात जल संसाधन विकास निगम लिमिटेड
  • हरियाणा- कृषि विभाग के अंतर्गत भूजल प्रकोष्ठ
  • कर्नाटक – जल संसाधन विभाग के अधीन राज्य भूजल निदेशालय
  • मध्य प्रदेश – राज्य जल संसाधन विभाग के तहत भूजल मंडल
  • महाराष्ट्र – भूजल सर्वेक्षण और विकास एजेंसी
  • राजस्थान – लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अधीन भूजल निदेशालय

योजना के तहत संबंधित संभावित क्षेत्रों को वित्तीय आवंटन

देश के इन सभी राज्यों में अटल भू जल योजना के अंतर्गत भारत सरकार की और से अपने जिलों में होने वाली जल समस्या के समाधान हेतु वित्तीय सहायता राशि प्रदान की जाएगी। इन सभी राज्यों एवं जिलों का विवरण नीचे सूची में अंकित किया गया है।

राज्यजिलाब्लॉकग्राम पंचायत
उत्तर प्रदेश102650
मध्य प्रदेश55678
महाराष्ट्र13351339
गुजरात6241816
कर्नाटका14411199
हरियाणा13261895
राजस्थान1722876
कुल781938353

अटल भूजल योजना स्कीम के भाग

Atal Bhujal Yojana 2022 में मुख्य रूप से दो घटक शामिल किये गए है। इन दोनों घटकों के लिए अलग-अलग रूप में राशि को खर्च किया जायेगा।

संस्थागत सिद्धि करण और क्षमता निर्माण घटक-योजना के इस अंग के माध्यम से भाग लेने वाले सभी राज्यों को स्थाई भूजल प्रबंधन करने हेतु सक्षम बनाया जायेगा। इसके लिए scientific approach मजबूत डेटाबेस वा सामुदायिक भागीदारी जैसे घटकों का इस्तेमाल किया जायेगा। इसके अतरिक्त सरकार के द्वारा इस घटक के लिए 1400 करोड़ रूपये की राशि का खर्च किया जायेगा।

प्रोत्साहन घटक- योजना के इस घटक के माध्यम से राज्य सरकार की चल रही योजनाओं के बीच सामुदायिक भागीदारी अभिसरण ,डिमांड प्रबंधन वा भूजल के स्तर को बढ़ाने के लिए विशेष रूप से जोर दिया जायेगा। इस कॉम्पोनमेंट के सञ्चालन हेतु सरकार के द्वारा 4 हजार 600 करोड़ रूपये की राशि खर्च की जाएगी।

पीएम किसान FPO योजना 2022: ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन लिंक | एप्लीकेशन फॉर्म

Atal Bhujal Yojana 2022 के लाभ एवं विशेषताएं
  • केंद्र सरकार के अंतर्गत अटल भूजल योजना की शुरुआत की गयी है।
  • इस योजना के अंतर्गत देश के ऐसे क्षेत्रों में भूजल प्रबंधन की व्यवस्था को प्रदर्शित किया जायेगा जहाँ पानी की कमी से लोग जूझ रहे है।
  • इसके लिए सरकार के माध्यम से देश के 7 क्षेत्रों को चिह्नित किया गया है। जिसमें मुख्य रूप से है ,उत्तर प्रदेश ,कर्नाटक ,महाराष्ट्र ,राजस्थान ,गुजरात मध्य प्रदेश एवं हरियाणा।
  • इस योजना के अंतर्गत ग्रामीण स्तर पर जो लोग सूखेग्रस्त से परेशान है उन्हें विशेष तौर पर लाभ प्राप्त होगा।
  • भूजल प्रबंधन हेतु केंद्र एवं राज्य सरकार की एजेंसियों के द्वारा काम किया जायेगा।
  • लगभग 8 हजार 353 जल संकट ग्रस्त पंचायतों में योजना का कार्यान्वयन शुरू किया गया है।
  • Atal Bhujal Yojana 2022 के अंतर्गत चिह्नित किये गए उन सभी स्थानों पर राज्यों को योजना के अंतर्गत सहायता राशि अनुदान के रूप में प्रदान की जाएगी।
  • सरकार के माध्यम से योजना के कार्यान्वयन हेतु 6 हजार करोड़ रूपये की राशि खर्च की जाएगी।
  • भूजल प्रबंधन के लिए सरकार के तहत अटल भूजल योजना के अंतर्गत सामुदायिक भागीदारी पर दिया जायेगा।
  • इस योजना हेतु 50 प्रतिशत राशि विश्व बैंक से ऋण लिया जायेगा और 50 प्रतिशत पैसा भारत सरकार के अंतर्गत खर्च किया जायेगा।

अटल भूजल मोबाइल ऐप डाउनलोड ऐसे करें

  •  Atal Jal APP Apk Download करने के लिए ataljal.mowr.gov.in की आधिकारिक वेबसाइट में जाएँ।
  • वेबसाइट के होम पेज में Atal Jal APP Apk Download का विकल्प दिखाई देगा।
  • इस विकल्प में क्लिक करें।
  • क्लिक करते ही यह एप्लीकेशन डाउनलोड हो जाएगी।
  • मोबाइल एप्लीकेशन डाउनलोड होते ही यह मोबाइल एप्लीकेशन अपने डिवाइस में इंस्टाल करें।
  • इस तरह से अटल भूजल मोबाईल ऍप डाउनलोड करने की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

इंदिरा गांधी शहरी रोजगार गारंटी योजना 2022: Apply ऑनलाइन आवेदन, पात्रता व लाभार्थी सूची

Atal Bhujal Yojana 2022 संबंधित प्रश्न उत्तर

अटल भूजल योजना क्या है ?

यह केंद्र सरकार के अंतर्गत पानी की कमी से जूझ रहे क्षेत्रों में भूजल प्रबंधन करने के लिए शुरू की गयी एक योजना है। इस योजना के तहत स्थायी भूजल प्रबंधन पर लक्षित करने के लिए 7 ऐसे स्थानों को चयनित किया गया है जहाँ पानी के संकट से लोगो को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

Atal Bhujal Yojana के कार्यान्वयन हेतु कितनी बजट राशि निर्धारित की गयी है ?

भूजल प्रबंधन हेतु Atal Bhujal Yojana हेतु सरकार के माध्यम से 6 हजार करोड़ रूपये की राशि निर्धारित की गयी है। जिसमें 50 प्रतिशत राशि विश्व बैंक से लोन लिया जायेगा और 50 प्रतिशत के रूप में केंद्र सरकार के द्वारा राशि का वहन किया जायेगा।

अटल भूजल योजना के अंतर्गत कौन कौन से राज्य चिह्नित किये गए है ?

उत्तर प्रदेश ,गुजरात ,महाराष्ट्र ,कर्नाटक ,राजस्थान ,मध्य प्रदेश ,हरियाणा राज्य को अटल भूजल योजना के अंतर्गत चिन्हित किया गया है।

अटल भूजल योजना के अंतर्गत क्या फायदें होंगे ?

अटल जल के प्राप्तकर्ता अर्थव्यवस्थाएं, व्यवसाय और सामाजिक व्यवस्थाएं हैं जो विकास और भलाई के लिए भूजल संपत्तियों पर निर्भर हैं ,विशेष रूप से इसमें सामाजिक लाभ पैदा होंगे जिसका लाभ उन सभी लोगो को मिलेगा जो सूखे ग्रस्त से परेशान है।

Leave a Comment