Digital Economy: 2 साल में डिजिटल इकोनॉमी में होगा नौकरी का धमाका! जानिए कितने लोगों को मिलेगा रोजगार

Digital Economy :  देश की डिजिटल इकोनॉमी से जुड़ी अच्छी खबर सामने आ रही है। केंद्र की मोदी सरकार ने डिजिटल इकोनॉमी में 2 साल के अंदर हज़ारों लोगों को नौकरी देने का टारगेट बनाया गया है। इस बारे में सूचना प्रौद्योगिकी और संचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि सरकार ने डिजिटल अर्थव्यवस्था के 3 क्षेत्रों यानि इलेक्ट्रॉनिक्स, स्टार्टअप और आईटी तथा आईटी संबद्ध सेवाओं में अगले 2 साल में रोजगार का आंकड़ा 1 करोड़ के पार ले जाने का टारगेट रखा है। ये सेक्टर आने वाले समय में काफी मजबूत रोजगार के अवसर पैदा करेगा।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मंत्री वैष्णव ने स्टार्टअप के लिये एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि डिजिटल अर्थव्यवस्था के 3 बड़े स्तंभ इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग, आईटी तथा आईटी संबद्ध क्षेत्र और स्टार्टअप हैं। इन क्षेत्रों ने 88-90 लाख नौकरियां दी हैं। वैष्णव ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने रोजगार को लेकर एक लक्ष्य रखा है। अगले 2 साल में इन क्षेत्रों में रोजगार का आंकड़ा 1 करोड़ के पार पहुंच जाना चाहिए।

Digital Economy: 2 साल में डिजिटल इकोनॉमी में होगा नौकरी का धमाका! जानिए कितने लोगों को मिलेगा रोजगार
Digital Economy: 2 साल में डिजिटल इकोनॉमी में होगा नौकरी का धमाका! जानिए कितने लोगों को मिलेगा रोजगार

गांवों में बढ़े स्टार्टअप
मंत्री वैष्णव ने बताया कि आने वाले समय में स्टार्टअप का केंद्र गांव होंगे और अगले कुछ बड़े स्टार्टअप ग्रामीण इलाकों से उद्भवित होंगे। उन्होंने इसका उल्लेख किया कि पहले स्टार्टअप के लिए कुछ शहरों का जिक्र होता था, लेकिन अब गांवों में भी युवाओं में स्टार्टअप करने की चाहत बढ़ी है। इसका अर्थ है कि भारत अब प्रौद्योगिकी उपभोक्ता से प्रौद्योगिकी का जनक बन रहा है। सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ इंडिया (STPI) स्टार्टअप को मंच प्रदान करने के लिए कई सुविधाएं तैयार कर रहा है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

इंफ्रास्ट्रक्चर हो रहें तैयार 
सूत्रों के अनुसार, स्टार्टअप के लिए 64 मझोले और छोटे शहरों (टियर दो और टियर तीन) में हर प्रकार की सुविधाओं से युक्त इंफ्रास्ट्रक्चर (प्लग-एंड-प्ले) उपलब्ध है। स्टार्टअप को 5 से 10 लाख रुपये की शुरुआती पूंजी लोन के तहत मिलती है। 2025 तक 300 स्टार्टअप को फंड देने का लक्ष्य रखा गया है।

Leave a Comment