Amrit Sarovar Yojana | अमृत सरोवर योजना: जाने किसे मिलेगा फायदा? (2023)

Amrit Sarovar Yojana :- हम सभी ने तो बचपन में पढ़ा ही है की जल के बिना जीवन संभव नहीं है, अर्थात जीवन के लिए जल का होना अति आवश्यक है। पृथ्वी पर रह रहे सभी जीव-जंतु, मनुष्य, पशु-पक्षी, पेड़ पौधे आदि के जीवन के लिए जल का होना बेहद ही महत्वपूर्ण है। हमारे देश में ग्रीष्म ऋतू के समय में बहुत ही भीषण गर्मी पड़ती है, कई जगह तो पानी की इतनी भयंकर समस्या रहती है की लोगों को दूर दूर से पानी लाना पड़ता है। हमारा देश एक कृषि प्रदान देश है, कृषि कार्यों तथा सिंचाई करने के लिए जल का होना बहुत ही आवश्यक है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

हमारे देश के वर्तमान प्रधानमंत्री जी के द्वारा देश के राज्यों के सभी जिलों में 75 तालाब के निर्माण का लक्ष्य रखा है, जिससे की सभी जिलों में जल स्तर में वृद्धि हो पाए और लोगों को जल की समस्या से छुटकारा प्राप्त हो सके। अगर आप भी जानना चाहते हैं की आपको अमृत सरोवर योजना का लाभ कैसे मिलेगा तो यह आर्टिकल केवल आपके लिए ही है। क्योंकि आज हम आपको अपने आर्टिकल की मदद से बताने जा रहे हैं की Amrit Sarovar Yojana 2023 Kya hai ? अमृत सरोवर योजना का लाभ कैसे मिलेगा ? अमृत सरोवर योजना में आवेदन कैसे करें ? इन सभी विषयों पर आज हम विस्तृत तरीके से चर्चा करेंगे इसलिए हमारे आर्टिकल को अंत तक पढ़ें।

Amrit Sarovar Yojana | अमृत सरोवर योजना: जाने किसे मिलेगा फायदा? (2023)
Amrit Sarovar Yojana | अमृत सरोवर योजना: जाने किसे मिलेगा फायदा? (2023)

Amrit Sarovar Yojana 2023

सबसे महत्वपूर्ण प्राकृतिक संसाधनों में से एक पानी है, यह समस्त मानव जाति एवं जिव जंतुओं के लिए एक उपहार है। पृथ्वी का दो तिहाई भाग पानी से ही ढका हुआ है लेकिन इस पानी में से भी केवल 2 से 3 प्रतिशत पानी पीने योग्य है। आज वर्तमान में भारत देश के साथ साथ विषय के कई सारे देश भीषण जल संकट का सामना कर रहे हैं। इस समस्या को देखते हुए देश के वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा सभी राज्यों के प्रत्येक जिलों में 75 अमृत सरोवरों का निर्माण करने के लिए आह्वान किया गया है। 14.12.2022 तक लगभग 53,050 स्थलों पर तालाब का निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना – 2023

Amrit Sarovar सतही एवं भूमिगत दोनों जगह जल की उपलब्धता को बढ़ाने में मदद करता है। अमृत सरोवर का विकास भी रचनात्मक कार्यों का उपयुक्त प्रतीक है जो की आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर समर्पित है या हम कह सकते हैं की औपनिवेशिक शासन से आजादी के 75 वर्ष का प्रतीक है। अमृत सरोवर मिशन ने शुरू में 15 अगस्त 2023 तक पूरे भारत में लगभग 50,000 अमृत सरोवर तालाबों के निर्माण करने का लक्ष्य की योजना बनाई थी लेकिन अब अतिरिक्त 50,000 अमृत सरोवर तालाबों का निर्माण 15 अगस्त 2023 तक किया जाएगा। इसके लिए राज्य सरकारों ने जगहों को चिन्हित कर लिया है।

अमृत सरोवर योजना 2023 के बारे में कुछ तथ्य

योजनाअमृत सरोवर योजना 2023
(Amrit Sarovar Yojana 2023)
योजना का प्रकार केंद्र सरकार
किसके द्वारा शुरू की गयी माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी
उद्देश्यभूमिगत जल स्तर को बढ़ाना
लाभलोगों को पेयजल तथा सिंचाई की समस्या से छुटकारा मिलेगा
घोषणा कब की गयी 24th April 2022
योजना पूरा करने की तिथि15 अगस्त 2023
तालाबों का निर्माणदेश के प्रत्येक राज्य के हर जिले में 75 सरोवरों को बना कर तैयार करना है
आधिकारिक वेबसाइट amritsarovar.gov.in
Amrit Sarovar Yojana 2023

अमृत सरोवर योजना का उद्देश्य

अमृत सरोवर योजना का मुख्य उद्देश्य देश के हर जिले में कम से कम 75 अमृत सरोवरों का निर्माण करना है। इसमें प्रत्येक तालाब का क्षेत्रफल न्यूनतम 1 एकड़ का होगा, जिसमे की लगभग 10,000 घन मीटर की जल धारण क्षमता होगी। भारत देश के सभी जिलों में लगभग 75 तालाबों का निर्माण 15 अगस्त 2023 से पहले किया जाएगा जिसमे से की जिन साइटों पर तालाब का निर्माण कार्य जल्द शुरू होगा, वे 38,503 हैं। सरकार के द्वारा इस योजना के कार्यान्वयन की रिपोर्ट के लिए एक पोर्टल को भी लॉन्च किया है जिसके माध्यम से आप इसकी रिपोर्ट को घर बैठे आराम से देख सकते हैं।

Amrit Sarovar Yojana 2023 की अवधि

प्रधानमंत्री मोदी जी के द्वारा 24 अप्रैल 2022 को राष्ट्रीय पंचायत दिवस के मोके पर अमृत सरोवर योजना का शुभारम्भ किया था। पहले सरकार के द्वारा Amrit Sarovar Yojana को पूर्ण करने की अवधि को 15 अगस्त 2022 को रखी गयी थी लेकिन बाद में इसे बढाकर 15 अगस्त 2023 तक कर दी गयी। प्राकृतिक करने की वजह से इन समय सीमा में काम करना बहुत ही मुश्किल हो जाता है लेकिन सरकार के द्वारा यह विशेष तौर पर ध्यान दिया जा रहा है की यह कार्य 15 अगस्त 2023 से पहले पूरा हो जाए।

मिशन अमृत सरोवर के लिए सरकार द्वारा किसी भी प्रकार का अलग से कोई वित्तीय आवंटन नहीं है, मिशन अमृत सरोवर राज्यों और जिलों के माध्यम से महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (महात्मा गांधी एनआरईजीएस), प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना, 15वें वित्त आयोग अनुदान तथा छोटी योजनाओं जैसे वाटरशेड विकास घटक, हर खेत को पानी जैसी विभिन्न चल रही योजनाओं से अभिसरण के साथ मिलकर काम करता है।

Amrit Sarovar Yojana में प्रतिभागी मंत्रालय/विभाग/संगठन

यह योजना केंद्र सरकार तथा राज्य सरकारों के समन्वय के साथ साझा मिलकर संचालन किया जाएगा इसलिए इसमें अलग अलग विभाग, मंत्रालय तथा संगठनों का आपस में समन्वय होगा। इसके लिए सरकार ने कुछ विभागों का चयन किया है जिनका नाम अग्रलिखित है।

  • ग्रामीण विकास मंत्रालय
  • जल शक्ति मंत्रालय
  • संस्कृति मंत्रालय
  • पंचायती राज मंत्रालय
  • पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय
  • भास्कराचार्य राष्ट्रिय अंतरिक्ष अनुप्रयोग और भू-सूचना विज्ञान संस्थान

पंचवर्षीय योजना क्या है | Panchwarsiya Yojana

अमृत सरोवर योजना की कुछ मुख्य विशेषताएं

  • मिशन अमृत सरोवर जल शक्ति मंत्रालय, ग्रामीण विकास मंत्रालय, पंचायती राज मंत्रालय, संस्कृति मंत्रालय, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, पर्यावरण और तकनीकी संगठनों की भागीदारी के साथ “संपूर्ण सरकार” की सोच पर आधारित है।
  • सभी अमृत सरोवर तालाब में लगभग 10,000 घन मीटर की जल धारण क्षमता के साथ कम से कम 1 एकड़ का तालाब क्षेत्र निर्धारित होगा।
  • Amrit Sarovar Yojana के तहत देश के सभी राज्यों के जिलों में कम से कम 75 तालाबों का निर्माण किया जाएगा।
  • सभी अमृत सरोवर तालाब नीम, बरगद और पीपल के पेड़ों से घिरा हुआ होगा।
  • सभी अमृत सरोवर तालाब सिंचाई, बत्तख पालन, मत्स्य पालन, जल पर्यटन, सिंघाड़े की खेती और अन्य गतिविधियों जैसे अनेक प्रकार के उद्देश्यों के लिए पानी का उपयोग करके आजीविका सृजन का स्रोत बनेगा। अमृत ​​सरोवर तालाब उस इलाके में एक सामाजिक सभा स्थल के रूप में भी कार्य करेगा।
  • Amrit Sarovar Yojana को आजादी का अमृत महोत्सव के दौरान कार्रवाई की एक स्पष्ट अभिव्यक्ति के तौर पर देखा जा सकता है।
  • इस योजना में कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी और क्राउड फंडिंग जैसे सार्वजनिक योगदान को भी काम के लिए अनुमति है।
  • सभी अमृत सरोवर तालाब में ध्वजा रोहण की व्यवस्था कराई जाएगी जिसमे की हर स्वतंत्रता दिवस के मोके पर ध्वजा रोहण किया जाएगा, तथा इस मोके पर स्वतंत्रता सेनानी या उनके परिवार के सदस्य, शहीदों के परिवार के सदस्य या पद्म पुरस्कार विजेता एक मुख्य अतिथि के तौर पर बुलाए जाएंगे।
  • Amrit Sarovar Yojana राज्यों और जिलों के माध्यम से महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (महात्मा गांधी एनआरईजीएस), प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना, 15वें वित्त आयोग अनुदान तथा छोटी योजनाओं जैसे वाटरशेड विकास घटक, हर खेत को पानी जैसी विभिन्न चल रही योजनाओं से अभिसरण के साथ मिलकर काम करता है।
  • Amrit Sarovar Yojana के तहत तालाबों से निकाली गई मिट्टी/सिल्ट के उपयोग के उद्देश्य से रेल मंत्रालय, राजमार्ग मंत्रालय और सड़क परिवहन तथा अन्य प्रकार की सार्वजनिक एजेंसियां ​​भी इस मिशन में लगी हुई हैं।

Amrit Sarovar Yojana के तहत (FAQ)

Amrit Sarovar Yojana Kya Hai ?

अमृत सरोवर योजना के तहत हमारे देश के वर्तमान प्रधानमंत्री जी के द्वारा देश के राज्यों के सभी जिलों में 75 तालाब के निर्माण का लक्ष्य रखा है, जिससे की सभी जिलों में जल स्तर में वृद्धि हो पाए और लोगों को जल की समस्या से छुटकारा प्राप्त हो सके।

अमृत सरोवर योजना कब से शुरू हुई ?

अमृत सरोवर योजना 24 अप्रैल 2022 को शुरू हुई।

अमृत सरोवर योजना के तहत तालाबों के निर्माण कब तक किया जाना है?

अमृत सरोवर योजना के तहत तालाबों के निर्माण 15 अगस्त 2023 तक क्या जाना है।

अमृत सरोवर योजना का उद्देश्य क्या है?

अमृत सरोवर योजना का मुख्य उद्देश्य देश के हर जिले में कम से कम 75 अमृत सरोवरों का निर्माण करना है। इसमें प्रत्येक तालाब का क्षेत्रफल न्यूनतम 1 एकड़ का होगा, जिसमे की लगभग 10,000 घन मीटर की जल धारण क्षमता होगी।

हेल्पलाइन नंबर

अमृत सरोवर योजना के तहत किसी भी प्रकार की जानकारी के लिए आप योजना के निदेशक से बात कर सकते हैं।

श्री रोहित कुमार
संयुक्त सचिव (RE), एवं मिशन निदेशक
ग्रामीण विकास विभाग
कृषि भवन, नई दिल्ली

ईमेल:- [email protected]
दूरभाष:- 011-23383553

Leave a Comment