Alcohol : सुबह उठते ही गिलास में जहर? जानिए सुबह-सुबह शराब पीने के खतरनाक असर

Alcohol in Morning : सुबह शराब पीने वाले लोगों को सपोर्ट करने के बाद, इनकी काफी चर्चा हो रही है।इसके अलावा, ये भी जानने की कोशिश करते हैं कि आखिर जो लोग सुबह के वक्त शराब पीते हैं, उनके शरीर पर शराब किस तरह से असर डालती है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
Alcohol : सुबह उठते ही गिलास में जहर? जानिए सुबह-सुबह शराब पीने के खतरनाक असर
Alcohol : सुबह उठते ही गिलास में जहर? जानिए सुबह-सुबह शराब पीने के खतरनाक असर

तमिलनाडु के आबकारी मंत्री एस मुथुसामी के एक बयान ने “सुबह शराब” को चर्चा का विषय बना दिया है। उन्होंने कहा कि जो लोग सुबह शराब पीते हैं, उन्हें जज नहीं करना चाहिए। इस बयान के बाद, सुबह शराब पीने के समर्थन और विरोध में बहस छिड़ गई है। कुछ लोग मानते हैं कि सुबह शराब पीने से तनाव कम होता है और काम करने की क्षमता बढ़ती है, जबकि अन्य लोग इसे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक मानते हैं।

तमिलनाडु के आबकारी मंत्री एस मुथुसामी ने सुबह शराब पीने वालों को लेकर एक विवादास्पद बयान दिया है। उन्होंने कहा कि “जो लोग सुबह शराब पीते हैं, उन्हें जज नहीं करना चाहिए।”

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

क्या था मंत्री जी का बयान?

उनकी दृष्टि में, सुबह शराब पीने वालों के प्रति नकारात्मक भाषा का उपयोग नहीं करना चाहिए, और उन्हें ‘शराबी’ बोलना उचित नहीं है। उन्होंने यह विचार रखा कि जो लोग सुबह शराब पीते हैं, उनकी स्थिति अलग है और उनकी बातें विभिन्न होती हैं। उन्होंने यह भी बताया कि वे लोग, जो शरीर से कठिन परिश्रम करने के लिए निकलते हैं, वे शराब पी रहे हैं और हमें इसे समझना चाहिए। इस बयान के बाद, उनकी इस दृष्टि पर विस्तृत चर्चा हो रही है।

सुबह की शराब शरीर पर कैसे असर डालती है?

शराब को दिनभर किसी भी समय पीना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है, लेकिन जिस सुबह की शराब पीने की सिफारिश की जा रही है, वह शरीर के लिए विशेष रूप से नुकसानकारी हो सकती है। कई विशेषज्ञों का मानना ​​है कि ब्रेकफास्ट के साथ कभी भी शराब पीना उचित नहीं है। इस सातत्यिक अध्ययन से पता चलता है कि सुबह शराब पीने से लिवर, किडनी, और इंटेस्टाइन पर हानिकारक प्रभाव हो सकता है।

एक डॉक्टर के अनुसार, नाश्ते में शराब पीने वालों के लिए यह बहुत खतरनाक हो सकता है, क्योंकि इससे उनके लिवर में तकलीफ हो सकती है और यह एल्कोहॉलिक डिमेंशिया का खतरा बढ़ा सकता है। यह किडनी के काम की प्रक्रिया पर भी असर कर सकता है और इससे खून को सही तरीके से फिल्टर करने में कठिनाई हो सकती है। शराब कई अंगों को प्रभावित करके हार्मोनों को बाधित कर सकती है और किडनी पर अत्यधिक दबाव डाल सकती है।

Leave a Comment