विवाद से विश्वास योजना क्या है | Vivad Se Vishwas Scheme 2023 Details

विवाद से विश्वास योजना क्या है :- जैसा की हम सभी जानते है की भारत का वह प्रत्येक व्यक्ति जो आयकर्ता है उसे प्रत्येक माह सरकार को टैक्स जमा करना पड़ता है। सरकार टैक्स से प्राप्त राशि को भारत के विकास कार्यो में सम्मलित करती है जैसे- सड़को, सरकारी योजना, सीवर लाइन इत्यादि का निर्माण करने में लेकिन ऐसे भी व्यक्ति है जो आयदाता है लेकिन कर जमा नहीं करते है। ऐसे लोगो के ऊपर प्रत्येक माह की दर से टैक्स जमा हो जाता है टैक्स जमा ना करने पर सरकार द्वारा आयदाता से ब्याज के साथ भुगतान करवाया जाता है लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। क्योकि सरकार ने Vivad Se Vishwas Scheme को संचालित किया है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

इस स्कीम के माध्यम से सरकार देश के आयकर दाता को एक अवसर प्रदान कर रही है जिसमें वह अपने पुराने भुगतान को बिना किसी ब्याज और जुर्माने के चुकता कर सकते है अगर आप भी इस का स्कीम का मुख्य उद्देश्य, लाभ, पात्रता एवं आवेदन की प्रक्रिया जानना चाहते है एवं योजना के माध्यम से अपना बकाया टैक्स जमा करना चाहते है तो हमारे इस आर्टिकल को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़े।

विवाद से विश्वास योजना क्या है | Vivad Se Vishwas Scheme  Details
विवाद से विश्वास योजना क्या है | Vivad Se Vishwas Scheme Details

विवाद से विश्वास योजना क्या है

विवाद से विश्वास योजना की घोषणा भारत की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1 फ़रवरी 2020 के दिन बजट प्रस्तुत करते समय की थी। उन्होंने इन टैक्स विवादों के मुद्दों पर गंभीरता से विचार करके यह सुझाव निकाला की देश का जितना भी बकाया टैक्स है उसे विवाद से नहीं बल्कि लोगो को विश्वास दिलाकर उनसे प्राप्त करना है योजना के तहत करदाता का कितना भी अधिक टैक्स हो वह उसका भुगतान कर दे और सरकार टैक्स बकाया रखने पर करदाताओं पर कोई भी धारा नहीं लगाएगी। इससे सरकारी बकाया टैक्स में गिरावट आएगी और पिछले टैक्स के भुगतान से नागरिको को भी राहत प्राप्त होगी।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

इस स्कीम की शुरुआत मुख्यतः covid के समय छोटे उद्योगपतियों पर बकाया टैक्स के बोझ को कम करने के लिए की गई थी जिससे की वह टैक्स समय पर जमा कर दें और उन्हें अन्य ब्याज के भुगतान से छुटकारा मिल सकें।

Vivad Se Vishwas Scheme Key Points

आर्टिकल विवाद से विश्वास योजना क्या है |
Vivad Se Vishwas Scheme 2023 Details
योजना विवाद से विश्वास योजना
प्रारम्भिक तिथि 17 अप्रैल 2020
योजना का आरम्भ वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के द्वारा
उद्देश्य बकाया टैक्स का भुगतान करवाना
लाभार्थी राष्ट्र का कर दाता
वर्ष 2023
आवेदन प्रक्रिया ऑफलाइन
आधिकारिक वेबसाइट eportal.incometax.gov.in

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना

विवाद से विश्वास योजना का उद्देश्य

देश की वित्तमंत्री मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा शुरू की गई यह विवाद से विश्वास योजना भारत के करदाताओं के लिए अत्यंत लाभकारी है। योजना के माध्यम से देश के न्यायालयों में चल रहे टैक्स विवादित मुद्दों की योजना के अंतर्गत रोकथाम की जाएगी ,क्योंकि बहुत से ऐसे करदाता है जो अपना टैक्स समय पर जमा नहीं करते है जिस कारण उनका टैक्स बकाया हो जाता है। भारत में बढ़ते टैक्स के मुद्दे अत्यधिक चर्चा में है इसलिए वित्त मंत्री ने VSVS यह स्कीम निकाली है स्कीम के माध्यम से करदाता बिना किसी ब्याज और विवाद के एक निर्धारित समयवधि के भीतर अपना बकाया टैक्स जमा कर सकते है।

इसके लिए सरकार उसे कोई दंड नहीं देगी और उन्हें अपने बकाया टैक्स के बोझ से राहत मिल सकेगी। यह योजना covid के समय छोटे उद्योग जैसे दूकान, छोटी कम्पनिया इत्यादि के लिए संचालित की गई थी। भारत में लॉकडाउन लगने की वजह से सभी छोटे उधोगपतियों पर कर अत्यधिक बढ़ता जा रहा था। जिससे उधोगपतियों को राहत पहुंचाने के लिए योजना के माध्यम से टैक्स पर ब्याज को हटा दिया गया है। यही इस योजना का मुख्य उद्देश्य है।

Vivad Se Vishwas Scheme benefits

विवाद से विश्वास योजना से संबंधित सभी लाभ नीचे दिए गए है जो की इस प्रकार से निम्नवत है।

  • स्कीम में एक समय सीमा दी जाएगी जिसके अंतर्गत अगर करदाता कर्ज जमा कर देता है तो उसे जुर्माना एवं ब्याज का भुगतान नहीं करना पड़ेगा।
  • स्कीम के अंतर्गत उच्च एवं उच्चतर विवदित मुद्दों को एवं विभिन्न स्तर के 4,83,000 मुद्दों को भी हल किया जायेगा।
  • बकाया टैक्स होने के कारण करदाताओं पर सरकार द्वारा जुर्माना लगाया जाता है यह केस बहुत अधिक बढ़ते जा रहे है केसों की रोकथाम की जाएगी।
  • करदाताओं से संबंधित विवादों को कम किया जायेगा। केवल जितना टैक्स जमा हुआ है उसी का भुगतान करना पड़ेगा।
  • सभी करो को समय पर पूरा किया जायेगा जिससे विवाद कम हो जायेंगे।
  • covid समयकाल में एकत्रित हुए बकाया टैक्स पर ब्याज हटाकर लोगो को वित्तीय राहत पहुंचाई गई है।
  • योजना के अंतर्गत सीमा इसलिए तय की गई है जिससे करदाता समय सीमा के अंतर्गत ही अपना बकाया भुगतान कर दे।
  • स्कीम में निर्धारित समय सीमा से अधिक समय हो जाने करदाता से टैक्स, टैक्स का ब्याज और 10 प्रतिशत अधिक अर्थ दंड भी लिया जायेगा।

विवाद से विश्वास योजना के पात्रता

  • टैक्स एक निश्चित समयावधि के भीतर ही जमा किया जायेगा।
  • टैक्स जमा करने की निचित समयावधि 15 दिन है।
  • योजना के माध्यम से सभी पिछले टैक्स जमा करने पर करदाता से कोई ब्याज नहीं लिया जायेगा।
  • करदाता का अपना ही कोई छोटा उद्दोग हो नौकरी करने वाला व्यक्ति इस योजना का लाभ प्राप्त नहीं कर सकता है।
  • जिन्होंने अपनी आय का सही प्रकार से विवरण किया है केवल वही इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकते है।
  • जितनी आय है उतनी ही सम्पति का विवरण प्रदान करना है काम विवरण देने पर अन्य बची सम्पति आपका कला धन मानी जाएगी।
  • कीम का लाभ केवल वही व्यक्ति प्राप्त कर सकते है जो असंवैधानिक संपत्ति के मामले में दोषी न पाए गए हो।
  • वह व्यक्ति जिनकी तलाशी और जब्ती की कार्यवाही की रिपोर्ट पाई जाएगी वह इस योजना का लभ प्राप्त नहीं कर सकेंगे।
  • व्यक्ति के कोर्ट में विदेशी सम्पति और आय से समन्धित मामले न दर्ज हो।
  • यदि CID द्वारा करदाता के कर मांग में बढ़ोत्तरी होगी तो वह व्यक्ति भी योजना का पात्र नहीं माना जायेगा।
  • आवेदक पर कोई भी विदेशी तस्करी के आरोप न लगे हो।
  • वेदक पर कोई भी विदेशी तस्करी का केस न चल रहा हो।

विवाद से विश्वास योजना ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया

  • सर्वथाम आपको विवाद से विश्वास योजना की आधिकारिक वेबसाइट eportal.incometax.gov.in को ओपन करना है। विवाद से विश्वास योजना क्या है | Vivad Se Vishwas Scheme  Details
  • अब आप आधिकारिक वेबसाइट पर अपना आईडी और पासवर्ड से लॉगिन कर लीजिये।
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको “e-File” का विकल्प दिखाई देगा उसे क्लिक कर दीजिये।
  • अब आपके सामने एक नया पेज ओपन हो जायेगा उसमे आपको “Click Respond to Outstanding Demand” का लिंक दिखाई देगा उसे क्लिक कर दीजिये।
  • अब आपके सामने अगले पेज पर आयकर विभाग की तरफ से 15 दिनों का समय दिया जायेगा जिसके अंदर आपको टैक्स जमा करना होगा। उसमे आपकी कुल देय राशि भी दिखाई जाएगी।
  • अब आपको फॉर्म के साथ ही टैक्स से संम्बन्धित जानकारी एक तय प्रपत्र में ही विभाग को प्रदान करनी है।
  • इसके बाद करदाता को आयकर विभाग द्वारा भुगतान से सम्बंधित आदेश प्राप्त होंगे
  • इस प्रकार आपका Vivad Se Vishwas Scheme का ऑनलाइन आवेदन पूरा हो जायेगा।

विवाद से विश्वास योजना ऑफलाइन आवेदन प्रक्रिया

  • सर्प्रथम आपको अपने नजदीकी आयकर विभाग से संपर्क करना होगा।
  • उसके बाद वह आपको बकाया टैक्स भुगतान करने क लिए एक फॉर्म देंगे। विवाद से विश्वास योजना क्या है | Vivad Se Vishwas Scheme  Details
  • अब आपको आवेदन में मांगी गई सभी जानकारी को ध्यानपूर्वक दर्ज कर दीजिये
  • अब उसे पुनः आयकर विभाग में जमा कर दीजिये और साथ ही वह आपको 15 दिन का समय देंगे जिसके बितर आपको भुगतान की राशि जमा करनी है।
  • इसके बाद आपकी विवाद से विश्वास योजना ऑफलाइन आवेदन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

राजस्थान अम्बेडकर DBT Voucher योजना

Vivad Se Vishwas Scheme related FAQ

Vivad Se Vishwas Scheme की आधिकारिक वेबसाइट क्या है ?

Vivad Se Vishwas Scheme की आधिकारिक वेबसाइट eportal.incometax.gov.in है आप योजना का आवेदन ऑफलाइन माध्यम से भी कर सकते है। इसके लिए आपको अपने नजदीकी आयकर विभाग से सम्पर्क करना होगा।

विवाद से विश्वास योजना का उद्देश्य क्या है ?

विवाद से विश्वास योजना का उद्देश्य करदाताओं से बकाया टैक्स का भुगतान करवाना ही योजना का मुख्य उद्देश्य है। अर्थात कोर्ट में उपस्थित सभी कर विवादित मुद्दों को काम किया जायेगा और प्रत्येक करदाता अपना पिछले टैक्स जमा करने में सक्षम हो सकेगा।

Vivad Se Vishwas Scheme की शुरुआत किसने की थी ?

Vivad Se Vishwas Scheme की शुरुआत की शुरुआत राष्ट्र की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा 1 फ़रवरी 2020 को की गई थी। राष्ट्र विधान में 20219 -2020 का बजट प्रस्तुत करते हुए की थी।

विवाद से विश्वास योजना से प्राप्त लाभ क्या है ?

विवाद से विश्वास योजना में करदाताओं को बकाया कर से राहत मिलेगी और न्यायालयों में बढ़ते टैक्स संबंधित मामले कम होंगे। एवं कोविड के दौरान उत्त्पन्न हुई वित्तीय समस्या के कारण जो टैक्स बकाया रह गया था उनका भी भुगतान हो सकेगा और करदाताओं को टैक्स पर लगने वाले ब्याज का भुगतान भी नहीं करना होगा।

Vivad Se Vishwas Scheme के अंतर्गत समय सिमा कितनी है ?

Vivad Se Vishwas Scheme के अंतर्गत समय सिमा 15 दिन है अगर करदाता समय पर अपना टैक्स जमा कर देगा तो उसे कोई भी ब्याज जमा नहीं करना पड़ेगा, लेकिन यदि करदाता समय सीमा समाप्त हो जाने पर करदाताओं से टैक्स, टैक्स का ब्याज और 10 प्रतिशत अधिक अर्थ दंड भी लिया जायेगा।

Leave a Comment