स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना 2022: ऑनलाइन आवेदन फॉर्म, पात्रता

Swarna Jayanti Gram Swarozgar Yojana : देश में विभिन्न वर्ग हैं जिनके विकास के लिए सरकार आवश्यकता के अनुसार अलग अलग योजनाओं की शुरुआत करती रहती है। आज ऐसी ही एक योजना के बारे में हम इस लेख में बात करेंगे। इस योजना का नाम Swarna Jayanti Gram Swarozgar Yojana 2022 है। स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना की शुरुआत देश के गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन कर रहे लोगों को ध्यान में रखकर की गयी है। इन लोगों की आर्थिक स्थिति और जीवन स्तर को और बेहतर बनाने के लिए योजना का संचालन किया जाएगा। आज इस लेख में हम आप को स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना 2022 से जुड़े सभी तथ्यों के बारे में जानकारी देंगे। जैसे की –  स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना एप्लीकेशन फॉर्म , योजना की कार्यान्वयन प्रक्रिया , पात्रता , लाभ और विशेषताएं आदि।

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना 2022

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना ग्रामीण अंचलों के लिए शुरू की गयी है। इस योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार के अवसरों को बढ़ावा देना है जिससे न सिर्फ बेरोजगारी कम होगी बल्कि सबकी आय भी बढ़ेगी और जीवनस्तर भी बेहतर होगा। सरकार द्वारा इस योजना के जरिये ग्रामीण क्षेत्रों में नए घरेलु उद्योगों की शुरआत करने हेतु प्रोत्साहित करेगी। इस के लिए केंद्र सरकार द्वारा वित्तीय सहायता भी प्रदान की जाएगी। जिससे स्वरोजगार शुरू करने के इच्छुक लोगों को इस योजना के माध्यम से जोड़ा जा सके और वित्तीय सहायता देकर उन्हें ग्रामीण क्षेत्रों में रहकर ही रोजगार उपलब्ध कराया जा सके।

Swarna Jayanti Gram Swarozgar Yojana (SGSY) में ग्रामीण क्षेत्रों में स्वयं सहायता समूह संगठन (Self-help group organizations) का गठन किया जाएगा। जिसमें 10 से अधिक सदस्यों का ग्रुप/ समूह का निर्माण होगा। इससे घरेलु /लघु उद्योगों को बढ़ाने में मदद मिलेगी। इस के साथ ही सरकार द्वारा वित्तीय सहायता भी प्रदान की जाएगी। आप को बता दें की इस योजना (Swarna Jayanti Gram Swarozgar Yojana) में सरकार स्वयं सहायता समूह संगठन को अपना रोजगार शुरू करने हेतु ऋण प्रदान करेगी। इसमें केंद्र सरकार 75 % प्रतिशत और राज्य सरकार बाकी के 25 % प्रतिशत तक की अनुदान राशि प्रदान की जाएगी ।

Highlights Of Swarna Jayanti Gram Swarozgar Yojana

आर्टिकल का नाम स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना 2022
शुरुआत की गयी केंद्र सरकार द्वारा
लाभार्थी गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले परिवार
योजना का प्रकार केंद्र सरकार द्वारा प्रायोजित
वर्तमान वर्ष 2022
उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों का सम्पूर्ण विकास और स्वरोजगार को बढ़ावा

SGSY का उद्देश्य

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना 2022 का उद्देश्य देश के ग्रामीण क्षेत्रों में विकास करना है। जिसके लिए वहाँ स्वरोजगार हेतु स्वयं सहयता संगठन का गठन करना है। इन संगठनों को अनुदान और ऋण में सब्सिडी देकर स्वरोजगार को स्थापित करने में इन संगठनों की सहायता करेगी। इससे न ग्रामीण क्षेत्रों का विकास होगा बलिकी बेरोजगारी भी खत्म होगी। सभी ग्रामीण क्षेत्र आत्मनिर्भर बनेंगे। उनकी आय बढ़ेगी और सभी रोजगार के अवसर अपने गाँव में ही मिल जाएंगे। इसका लाभ मुख्य रूप से गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले परिवारों को मिलेगा। स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के माध्यम से इन परिवारों को इस रेखा से ऊपर लाने का प्रयास किया जाएगा।

Swarna Jayanti Gram Swarozgar Yojana की विशेषताएं और लाभ

  • स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना 2022 से ग्रामीण क्षेत्रों में निर्धनता और गरीबी दूर होगी।
  • स्वयं सहायता समूह के गठन से ग्रामीण क्षेत्रों से पलायन भी कम होगा। उन्हें अपने ही घर पर रोजगार प्राप्त हो जाएगा।
  • स्वरोजगार और घरेलु उद्योगों में बढ़ोतरी होने से गाँव का विकास होगा।
  • गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले परिवारों के कम से कम 10 लोग या फिर 20 लोग भी साथ मिलकर संगठन का निर्माण करेंगे।
  • Swarna Jayanti Gram Swarozgar Yojana का उद्देश्य गरीबी रेखा से नीचे वाले परिवारों को गरीबी रक्षा से ऊपर लाना है और उनके जीवनस्तर को बेहतर बनाना है।
  • इसमें स्वयं सहायता समूह की मदद करने और उनके स्वरोजगार को स्थापित करने के लिए सरकार वित्तीय सहायता प्रदान करेगी।
  • साथ ही बैंक द्वारा ऋण पर सब्सिडी प्रदान करने की भी व्यवस्था की जाएगी।
  • ऋण को निर्धारित समय सीमा में लौटाया जा सकेगा।
  • Swarna Jayanti Gram Swarozgar Yojana के जरिये सरकार विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार के अवसर उपलब्ध करेगी।
  • योजना के अंतर्गत विभिन्न कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रमों का भी आयोजन भी किया जाएगा। जिससे लाभार्थियों का कौशल विकास हो सके।
  • सरकार द्वारा इस योजना की शुरुआत से ग्रामीण क्षेत्र में विकास होगा।
  • विभिन्न घरेलु / लघु उद्योगों की शुरुआत से ग्रामीण क्षेत्रों में वित्तीय निर्भरता आएगी।

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य

  1. इस योजना (Swarna Jayanti Gram Swarozgar Yojana) में ग्रामीण क्षेत्रों में स्वयं सहायता समूह का निर्माण किया जायगा।
  2. इन समूहों में सिर्फ गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले परिवारों के सदस्य ही जोड़े जाएंगे।
  3. इनकी कुल संख्या 10 से लेकर 20 व्यक्तियों तक ही होगी।
  4. स्वयं सहायता समूह में महिला सदस्यों को भी शामिल किये जाने का प्रयास किया जाएगा।
  5. स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना 2022 में इस बात का भी प्रावधान किया जाएगा कि हर ब्लॉक में अलग से महिलाओं के लिए 50% स्वयं सहायता समूह बनाएं जाएंगे।
  6. कोई व्यक्ति एक ही स्वयं सहायता समूह का सदस्य हो सकता है। एक से अधिक नहीं।
  7. कुछ सहायता समूहों में सदस्यों की संख्या 5 से 20 भी हो सकती है। जैसे की –
    • विकलांग व्यक्तियों का समूह
    • लघु सिंचाई योजनाओं एवं दुर्गम क्षेत्रों जैसे पहाड़ी, मरुभूमि और बिखरी आबादी वाले क्षेत्रों में।
  8. स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना 2022 में ये प्रावधान भी है कि आवश्यकता पड़ने पर 20% और विशिष्ट मामलों में 30% तक के गरीबी रेखा से ऊपर के सदस्य एक समूह में जोड़े जा सकते हैं।
  9. स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना में सरकार कौशल विकास कार्यक्रम के लिए प्रत्येक लाभार्थी पर 5000 रूपए की धनराशि भी खर्च की जाएगी।

दिल्ली रोजगार बाजार पोर्टल 2022- ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन फॉर्म, आवश्यक दस्तावेज, लाभ

यहाँ जानिये योजना में मिलने वाली वित्तीय सहायता

जैसे की लेख में आप ने जाना कि सरकार ग्रामीण क्षेत्रों के लिए चलाई गयी इस योजना में लोन पर सब्सिडी प्रदान करती है। इसके साथ ही आप यहाँ देख सकते है कि सरकार द्वारा ये वित्तीय सहायता किस किस क्षेत्रों में दी जाती है।

  1. रिवोल्विंग फण्ड (Revolving Fund ) : योजना में रिवॉल्विंग फण्ड में मिलने वाली कुल राशि लगभग 25 हजार रूपए है। जिसमें से अनुदान की राशि 10 हजार प्रदान की जाएगी।
  2. आधारभूत संरचना (Infrastructure) : योजना के अंतर्गत विभिन्न मेलों और बाज़ारों का आयोजन किये जाने का भी प्रावधान किया गया है। जिस से स्वरोजगार शुरू करने वाले समूह को अपने बनाये गए उत्पादों या सेवाओं को वितरित करने अथवा प्रदान करने हेतु बाजार मिल सके।
  3. ऋण सब्सिडी (Loan Subsidy) : इस योजना में परियोजना लागत के 30% की एक समान दर से सब्सिडी दिया जाएगा । ये राशि अधिकतम ₹7500 हो सकती है।
  4. आरक्षित वर्ग और दिव्यांगजनों से संबंधित समूहों को 50 प्रतिशत तक की सब्सिडी प्रदान की जाएगी। ये धनराशि अधिकतम 10 हजार रूपए तक की हो सकती है।
  5. इसके अतिरिक्त भी अन्य समूहों को परियोजना लागत की 50 प्रतिशत सब्सिडी मिलेगी। इसमें भी अधिकतम प्रति व्यक्ति 10 हजार या एक लाख (जो भी कम हो) प्रदान करने का प्रावधान है।

Employment Generation Program: बड़ी ख़बर! रोजगार जनरेशन प्रोग्राम (PMEGP) को 5 साल के लिए बढ़ाया गया

Swarna Jayanti Gram Swarozgar Yojana में ऐसे करें आवेदन

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना में आवेदन करने के लिए अलग अलग राज्यों में अलग अलग आवेदन पत्र हैं। जिन्हे आप अपने राज्य के संबंधित सरकारी कार्यालय या फिर आधिकारिक वेबसाइट से प्राप्त कर सकते हैं।

  • सबसे पहले आप को आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन पत्र प्राप्त करना होगा।
  • आप चाहें तो संबंधित कार्यालय में जाकर भी योजना से जुड़ा आवेदन फॉर्म प्राप्त कर सकते हैं।
  • अब आप को आवेदन पत्र में पूछी गयी सभी जानकारी भरनी होगी।
  • इसके बाद महत्वपूर्ण दस्तावेजों को भी साथ में संलग्न करें।
  • अब आप इसकी फिर से जांच करने के बाद संबंधित कार्यालय में जमा कर दें।

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना से संबंधित प्रश्न – उत्तर

Swarna Jayanti Gram Swarozgar Yojana किस राज्य में चलाई गयी है ?

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना पूरे देश के लिए है।

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना (SGSY) का लाभ कौन कौन ले सकता है ?

इस योजना का लाभ देश के ग्रामीण क्षेत्र के नागरिक ले सकते हैं। वो नागरिक जो गरीबी रक्षा से नीचे के परिवार से आते है।

Swarna Jayanti Gram Swarozgar Yojana को क्यों शुरू किया गया है ?

इस योजना की शुरुआत ग्रामीण क्षेत्रों के उन नागरिकों के लिए की गयी है जो गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करते हैं।

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना क्या है ?

इस योजना में ग्रामीण इलाकों में गरीब परिवारों के सदस्यों द्वारा एक स्वयं सहायता समूह का गठन किया जाएगा। इस समूह द्वारा स्वरोजगार हेतु कोई लघु याघरेलु उद्योगों की शुरुआत की जाएगी। जिसके लिए सरकार उन्हें ऋण पर सब्सिडी प्रदान कराएगी। साथ ही अनुदान भी प्रदान करेगी , जिससे वो अपना स्वरोजगार स्थापित कर सकें।

Swarna Jayanti Gram Swarozgar Yojana में एक समूह में कितने सदस्य रह सकते है ?

एक स्वयं सहायता समूह में कम से कम 10 व्यक्ति से एकर 20 सदस्य हो सकते हैं। हालाँकि कुछ समूह में सदस्यों की संख्या 5 से 20 भी हो सकती है। जैसे की – विकलांग व्यक्तियों का समूह और
लघु सिंचाई योजनाओं एवं दुर्गम क्षेत्रों जैसे पहाड़ी, मरुभूमि और बिखरी आबादी वाले क्षेत्रो के व्यक्ति।

SGSY का उद्देश्य क्या है ?

इस योजना का उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों का विकास है और वहां रह रहे गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले लोगों का उत्थान करना। स्वर्ण जयंती स्वरोजगार योजना के माध्यम से रोजगार के अवसरों में भी वृद्धि करना कर साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों का विकास भी इस योजना का उद्देश्य है।

आज इस लेख के माध्यम से हमने आप को Swarna Jayanti Gram Swarozgar Yojana 2022 के बारे में जानकारी प्रदान की है। उम्मीद है आप को ये जानकारी उपयोगी लगी होगी। यदि आप को इस योजना के संबंध में अधिक जानकरी चाहिए हो या आप कुछ पूछना चाहते तो नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूछ सकते हैं।

Leave a Comment