Article

न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) क्या है और इसके भारत को फायदे

Nuclear Suppliers Group

न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) क्या है– यह एक परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह एनएसजी 48 देशों का एक ऐसा समूह है जिसमें लक्ष्य परमाणु सामग्री और तकनीक एवं उपकरणों के निर्यात को नियंत्रित किया जाता है। Nuclear Suppliers Group परमाणु हथियार बनाने के लिए उपयोग किये जाने वाली सामग्री की आपूर्ति से लेकर नियंत्रण तक सभी इसी चक्र में शामिल है। नुक्लेअर सप्लायर्स ग्रुप नुक्लेअर टेक्नोलॉजी और हथियारों के ग्लोबल एक्सपोर्ट पर नियंत्रण रखने में सहयोग करता है।

ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके की Nuclear Energy का इस्तेमाल केवल बिना आवाज के उद्देश्यों के लिए पूरा किया जाए ,यानी की शांतिपूर्ण तरीके से इसका प्रयोग किया जाए। वर्ष 1974 में भारत के परमाणु परीक्षण के मलिनता के रूप में इसका गठन किया गया, मौजूदा समय में इसके 48 देश राष्ट्र सदस्य है।

यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्या है, लिस्ट

न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) क्या है
न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) क्या है?

Nuclear Suppliers Group की मांग भारत में

वर्ष 2008 में भारत द्वारा न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) सदस्यता की मांग की गयी। लेकिन इसके एप्लीकेशन के मामले में कोई विचार नहीं लिया गया। इसका प्रमुख कारण एनपीटी या अन्य परमाणु अप्रयोग पर परिक्षण करने पर हस्ताक्षर करने संबंधी आवश्यकता है। हालाँकि भारत को सभी परमाणु निर्यातकों (nuclear exporters) के साथ न्यूक्लियर व्यवसाय करने के लिए एक विशेष छूट प्राप्त है। जिसके कारण अभी तक भारत की Nuclear Suppliers Group NSG में सदस्य्ता के विषय में कोई विचार नहीं लिया जा रहा है।

यदि भारत को एनएसजी समूह में मेम्बरशिप मिलती है तो इससे भारत देश को अनेकों फायदे होंगे। भारत ने रूस के अतरिक्त फ़्रांस एवं अमेरिका के साथ में भी असैन्य परमाणु समझौता किया है। जिस कारण से उन्हें न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) की सदस्यता की आवश्यकता है। एनएसजी की सदस्यता हासिल करने के बाद भारत इन सयंत्रो से परमाणु तकनीक और यूरेनियम बिना किसी भी समझौते के प्राप्त कर सकते है।

एनएसजी समूह के सदस्य देशों के नाम की सूची

Nuclear suppliers group members countries name list आप नीचे दी गयी सूची के अंतर्गत देख सकते है। जिन देशों के नाम इस सूची में शामिल है वह NSG समूह के सदस्य है।

अर्जेंटीनास्लोवेनियालाटविया
स्लोवाकियासाउथ अफ्रीकास्पेन
ऑस्ट्रेलियाएस्टोनियालिथुआनिया
डेनमार्कसाउथ कोरियास्वीडन
ऑस्ट्रियाफ़िनलैंडमाल्टा
मैक्सिकोजर्मनीन्यूज़ीलैण्ड
बेलारूसफ़्रांसनॉर्वे
नीदरलैंडहंगरीपोलैंड
बेल्जियमबुल्गारियाटर्की
ब्राजीलग्रीसस्विट्ज़रलैंड
यूक्रेनयूएसलक्सेम्बर्ग
कैनेडाआइसलैंडयूके
चाइनाआयरलैंडपुर्तगाल
सर्वियाजापानरूस
क्रोअटियाइटलीरूमानिया
सायप्रसकजाखस्तानसीजेक
न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG)

न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) की आवश्यकता भारत को क्यों है ?

Nuclear Suppliers Group NSG – की आवश्यकता भारत को इसलिए है क्युकी न्यूक्लियर रिएक्टर संचालित करने के लिए समुचित राशि के रूप में यूरेनियम उपलब्ध नहीं है। nuclear reactor में वृद्धि करने के लिए ही देश में हमे नियमित रूप से यूरेनियम का आयात समाग्री चाहिए। मौजूदा समय में न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) का सदस्य न होने के कारण भारत देश बहुत से उत्पादों का आयात करने में असमर्थ है।

वर्तमान समय में यह अधिकार केवल कनाडा और ऑस्ट्रेलिया के पास है की वह uranium nsg member से अलग दूसरे देशों को भी दे सकते है। आगामी पीढ़ी के लिए रिएक्टरों के टेक्नोलॉजी के लिए यूरेनियम अधिक मात्रा में होनी चाहिए। इस संबंधी में फ्रांस, रसिया देशों से भी बातचीत की गयी है। लेकिन भारत को uranium nsg member होने के लिए यह अधिकार एनएसजी ग्रुप के द्वारा नहीं दिया गया।

न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) सदस्यता के भारत को फायदे (Benefits to India of Nuclear Suppliers Group (NSG) membership)

एनएसजी सदस्यता के बाद भारत को इसके अनेकों फायदें होंगे, NSG मेम्बरशिप के लाभ इस प्रकार निम्नवत है।

  • NSG मेंबरशिप के बाद जिस मेथड का उपयोग दवाई बनाने में होता है भारत इसका उपयोग अब न्यूक्लियर पॉवर प्लांट बनाने में कर सकेगा।
  • एनएसजी का हिस्सा बन जाने के बाद भारत अन्य देशों के जैसे ही अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी (state of the art technology) से सिखने के लिए मिलेगा। इस प्रक्रिया के आधार पर भारत की टैक्नोलॉजी विकसित होगी।
  • Nuclear Suppliers Group (NSG) membership मिलने के बाद भारत में परमाणु केंद्र के द्वारा बिजली का उत्पादन सरलता से एवं अधिक परिमाण में होगा, जिसके बाद से बहरत को यह सुनिश्चित करना होगा की वह इस ऊर्जा का उपयोग अच्छे एवं स्वच्छ स्रोत के लिए करेगा।
  • एनएसजी सदस्यता के बाद से यूरेनियम का रेगुलर रूप में आयात होने लगेगा।
  • Nuclear Suppliers Group (NSG) membership मिलने के बाद भारत न्यूक्लियर रिएक्टर एक्सपोर्ट कर सकते है। नई नई टैक्नोलॉजी के उपयोग के साथ, भारत परमाणु ऊर्जा (Nuclear Energy) डिवाइस के साथ प्रोडक्शन का व्यवसायीकरण (commercialization) कर पायेगा। जिससे भारत को आर्थिक एवं रणनीतिक तौर पर लाभ मिलेगा, उदहारण के तौर पर जैसे अभी भारत श्रीलंका को न्यूक्लियर एनर्जी के बारे में ट्रेनिंग देता है। एवं इससे संबंधित उत्पाद का निर्यात करता है
  • न्यूक्लियर पॉवर के लिए एडवांस टेक्नोलॉजी यदि भारत को मिल जाती है तो इसके बाद नए न्यूक्लियर विकसित होंगे। इसके बाद भारत देश इसे श्रीलंका बांग्लादेश आदि को विक्रय कर सकते है। वर्तमान समय में विद्युत उत्पादन के लिए बांग्लादेश रुसी रियक्टर खरीदने का विचार कर रहा है।
  • न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) सदस्यता के बाद भारत का अपना एक खुद का पवार प्लांट होगा ,जहाँ पर व्यवसाय और टैक्नोलॉजी संबंधित विकास संभव हो पायेगा। इसके मेक इन इंडिया को एक बहुत बड़ा लाभ मिलेगा।
  • Nuclear Suppliers Group (NSG) membership से मिसाइल उपग्रह का निर्माण आसान हो जायेगा साथ ही भारत खुद इसे संस्थापित करके अंतरिक्ष में छोड़ भी सकता है। भारत के पास अभी भी उपग्रह छोड़ने की आजादी नहीं है।
  • NSG membership मिलने के बाद भारत को न्यूक्लियर टेस्ट की आजादी मिल जाएगी।
  • यदि भारत को यह मेंबरशिप मिलती है तो इसके बाद पाकिस्तान का इस समूह में शामिल होना मुश्किल हो जायेगा। यही कारण है की चीन इसलिए भारत की जगह पाकिस्तान के समर्थन में उसके साथ खड़ा है।
  • चीन का कहना है की भारत ने एनपीटी में साइन नहीं किया है जिसके कारण वह NSG ग्रुप का मेंबर बनने के लायक नहीं है। चीन पूर्ण तरीके से एक पॉवर गेम खेल रहा है उसका मुख्य उद्देश्य यही है की भारत इस ग्रुप से बाहर रहे।
  • वह इसलिए क्योंकी भारत विकसित टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करना सीख जायेगा।

न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) से संबंधित प्रश्न उत्तर

Nuclear Suppliers Group (NSG) में कितने राष्ट्र शामिल है ?

Nuclear Suppliers Group (NSG) में 48 राष्ट्र शामिल है।

एनएसजी सदस्यता के लिए भारत का समर्थन कौन से देश कर रहे है ?

अमेरिका ,मैक्सिको ,स्विट्जरलैंड देश एनएसजी सदस्यता के लिए भारत का समर्थन करते है।

भारत द्वारा न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) में शामिल होने की मांग कब उठायी गयी ?

वर्ष 2008 में भारत द्वारा न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) में शामिल होने की मांग उठायी गयी। लेकिन इसके बावजूद में इस संबंध कोई निर्णय नहीं लिया गया।

Nuclear Suppliers Group (NSG) का गठन कब किया गया ?

भारत के पहले परमाणु परीक्षण के बाद वर्ष 1974 में Nuclear Suppliers Group (NSG) का गठन किया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button