संज्ञा की परिभाषा, संज्ञा के भेद व उदाहरण | Noun in Hindi

दुनिया में सभी का कोई न कोई नाम अवश्य होता है। क्योंकि नाम से ही किसी की भी पहचान होती है। नाम से ही हम एक दूसरे को पहचानते हैं। नाम ही हमें एक-दूसरे से भिन्न पहचान देता है। नाम को ही संज्ञा कहते हैं। यहाँ हम आपको बतायेंगे संज्ञा की परिभाषा क्या है ? संज्ञा के कितने भेद होते हैं ? संज्ञा के उदाहरण क्या है ? इन सभी के विषय में हम आपको विस्तारपूर्वक जानकारी देंगे। Noun in Hindi सम्बन्धित अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लेख को ध्यानपूर्वक अंत तक पढ़िए –

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
संज्ञा की परिभाषा
संज्ञा की परिभाषा, संज्ञा के भेद व उदाहरण | Noun in Hindi

संज्ञा की परिभाषा

संज्ञा की परिभाषा – किसी व्यक्ति वस्तु, प्राणी, स्थान या भाव का बोध कराने वाले शब्दों को संज्ञा कहते हैं। आप संज्ञा को उदाहरण के माध्यम से समझ सकते हैं जैसे – राम, टेबल, दिल्ली, आगरा।

Noun in Hindi 2023 Highlights

उम्मीदवार ध्यान दें यहाँ हम आपको संज्ञा की परिभाषा, संज्ञा के भेद व उदाहरण से जुडी कुछ विशेष जानकारी देने जा रहें हैं। इन जानकारियों को आप नीचे दी गई सारणी के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं। ये सारणी निम्न प्रकार हैं –

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
आर्टिकल का नाम संज्ञा की परिभाषा, संज्ञा के भेद व उदाहरण
साल 2023
टॉपिक Noun
भाषा हिंदी

यह भी पढ़े -: फीचर लेखन किसे कहते हैं | what is feature writing.

संज्ञा के भेद

यहाँ हम आपको संज्ञा के भेद व उदाहरण के बारे में जानकारी देने जा रहें हैं। अगर आप भी संज्ञा के भेद और उदाहरण के बारे में जानना चाहते है तो आप नीचे दी गई जानकारी को पढ़ सकते हैं। जानिए क्या है पूरी जानकारी –

  • व्यक्तिवाचक संज्ञा – वह शब्द जो किसी एक व्यक्ति, वस्तु या स्थान का बोध कराता है उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं। जैसे -राम, नई दिल्ली, होली, इत्यादि।
  • जातिवाचक संज्ञा – जो शब्द किसी जाति का बोध करवाता है उसे जातिवाचक संज्ञा कहते हैं। जैसे – शहर, कुर्सी, टेबल, मोबाइल, स्कूल, इत्यादि।
  • भाववाचक संज्ञा – जिन संज्ञा शब्दों से पदार्थो की अवस्था, गुण-दोष धर्म, आदि का बोध हो वह भाववाचक संज्ञा कहलाती है। जैसे – ईमानदारी,सच्चाई, ख़ुशी, प्यार, इत्यादि।
  • द्रव्यवाचक संज्ञा – जिन noun से किसी द्रव्य/पदार्थ का बोध होता है जिसे हमलोग गईं नहीं सकते सिर्फ तौल या माप सकते हैं। ऐसे संज्ञा को द्रव्यवाचक संज्ञा कहते हैं। जैसे – तेल, पेट्रोल, पानी, सोना, चाँदी, कागज, इत्यादि।
  • समूहवाचक संज्ञा – जिन शब्दों से व्यक्तियों या वस्तुओ के समूह का बोध होता है उन्हें समूहवाचक संज्ञा कहा जाता है। जैसे – वर्ग, भीड़, गुच्छा, दल, झुण्ड, इत्यादि।

संज्ञा के उदाहरण

अब यहाँ हम आपको संज्ञा के उदाहरण के बारे में जानकारी देने जा रहें हैं। अगर आप भी संज्ञा के उदाहरण के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप नीचे दी गई जानकारी को पढ़ सकते हैं। संज्ञा के उदाहरण निम्न प्रकार हैं –

  1. व्यक्तिवाचक संज्ञा के उदाहरण
    • सचिन तेंदुलकर को भारत रत्न मिला।
    • “मधुशाला” हरिवंशराय बच्चन की प्रसिद्ध रचना है।
    • दिल्ली, मुंबई, कोलकाता एवं चेन्नई भारत के चार महानगर हैं।
  2. जातिवाचक संज्ञा के उदाहरण –
    • कुत्ता एक वफादार जानवर है।
    • लड़के फुटबॉल खेल रहे हैं।
    • छात्र प्रदर्शनी लगा रहे है।
  3. भाववाचक संज्ञा के उदाहरण –
    • यहाँ चारों ओर हरियाली थी।
    • बुढ़ापें में स्वास्थ्य खराब होने लगता हैं।
    • हमने सादगी से जीवन जीना चाहिए।

कुछ विद्वान अंग्रेजी भाषा से प्रभावित होकर जातिवाचक संज्ञा के हो अन्य भेद भी स्वीकारते हैं। जैसे – द्रव्यवाचक संज्ञा, समूहवाचक संज्ञा।

द्रव्यवाचक संज्ञा

यहाँ हम आपको द्रव्यवाचक संज्ञा को उदाहरण के माध्यम से समझाने जा रहें हैं। आप नीचे दिए गए पॉइंट्स को पढ़कर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। द्रव्यवाचक संज्ञा के उदाहरण निम्न प्रकार हैं –

  1. सुनार सोने से गहने बना रहा है।
  2. दूध से खीर बना दो।
  3. लोहे के दरवाजे मजबूत होते हैं।
  4. सरिता ने चांदी की पायल बनवाई।

समूहवाचक संज्ञा

यहाँ हम आपको समूहवाचक संज्ञा को उदाहरण के माध्यम से समझाने जा रहें हैं। आप नीचे दिए गए पॉइंट्स को पढ़कर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। समूहवाचक संज्ञा के उदाहरण निम्न प्रकार हैं –

  1. कक्षा में सभी छात्र उपस्थित है।
  2. हमारा परिवार मिल-जुलकर रहता है।
  3. सड़क पर बहुत भीड़ लगी है।
  4. सेना हमारी रक्षा करती है।

जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा बनाना

यहाँ हम आपको कुछ जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा बनाने के विषय में बताने जा रहें हैं। अगर आप भी कुछ उदाहरणों के माध्यम से जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा बनाना समझना चाहते हैं तो आप नीचे दी गई सारणी के माध्यम से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। ये सारणी निम्न प्रकार हैं –

जातिवाचक संज्ञाभाववाचक संज्ञााजातिवाचक संज्ञाभाववाचक संज्ञाा
पशुपशुताबच्चाबचपन
पात्रपात्रताबूढाबुढ़ापा
मनुष्यमनुष्यतापुरुषपुरुषत्व, पौरुष
शास्त्रशास्त्रीयताजातिजातीयता
स्त्रीस्त्रीत्वभाईभाईचारा
लड़कालड़कपनदनुजदनुजता
मित्रमित्रतानारीनारीत्व
सेवकसेवाअध्यापकअध्यापन
दासदासत्वपण्डितपण्डिताई

विशेषण से भाववाचक संज्ञा बनाना

यहाँ हम आपको कुछ विशेषण से भाववाचक संज्ञा बनाने के विषय में बताने जा रहें हैं। अगर आप भी कुछ उदाहरणों के माध्यम से विशेषण से भाववाचक संज्ञा बनाना समझना चाहते हैं तो आप नीचे दी गई सारणी के माध्यम से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। ये सारणी निम्न प्रकार हैं –

विशेषणभाववाचक संज्ञाविशेषणभाववाचक संज्ञा
एक-एकता, एकत्वचालाक-चालाकी
गरीबगरीबीनवाबनवाबी
खट्टा-खटाईलघुलघुता, लघुत्व, लाघव
गँवार-गँवारपनपागल-पागलपन
बूढा-बुढ़ापामोटा-मोटापा
वीरवीरता, वीरत्वढीठढिठाई
आवश्यकताआवश्यकतादीन-दीनता, दैन्य
बड़ा-बड़ाईसुंदर-सौंदर्य, सुंदरता
भला-भलाईबुरा-बुराई
गंभीरगंभीरता, गांभीर्यचौड़ा-चौड़ाई
सरल-सरलता, सारल्यमूर्खमूर्खता
परिश्रमी-परिश्रमअच्छा-अच्छाई
बेईमानबेईमानीसभ्य-सभ्यता
स्पष्ट-स्पष्टताभावुक-भावुकता
अधिक-अधिकता, आधिक्यगर्म-गर्मी
सर्द-सर्दीकठोर-कठोरता
मीठा-मिठासलाललाली, लालिमा
सफेद-सफेदीश्रेष्ठ-श्रेष्ठता
चतुरचतुराईराष्ट्रीयराष्ट्रीयता

 क्रिया से भाववाचक संज्ञा बनाना

उम्मीदवार ध्यान दें यहाँ हम आपको क्रिया से भाववाचक संज्ञा बनाना उदाहरण के माध्यम से बताने जा रहें हैं। इन उदाहरणो को आप नीचे दी गई सारणी के माध्यम से समझाने जा रहें हैं।  क्रिया से भाववाचक संज्ञा कैसे बनाए इससे सम्बंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। ये सारणी निम्न प्रकार हैं –

क्रियाभाववाचक संज्ञाक्रियाभाववाचक संज्ञा
जीतना-जीतरोना-रुलाई
सीनासिलाईपड़नापड़ाव
लड़ना-लड़ाईपढ़ना-पढ़ाई
चलना-चाल, चलनपीटना-पिटाई
खोजनाखोजघटनाघटाव
देखना-दिखावा, दिखावटसमझना-समझ
सींचना-सिंचाईबढ़नाबाढ़
पहनना-पहनावाकूदनाकूद
लूटना-लूटजोड़ना-जोड़
चमकनाचमकनाचना-नाच
बोलना-बोलपूजना-पूजन
झूलना-झूलाजोतना-जुताई
कमाना-कमाईबचना-बचाव
रुकना-रुकावटबनना-बनावट
मिलना-मिलावटबुलाना-बुलावा
भूलना-भूलछापना-छापा, छपाई
बैठना-बैठक, बैठकीरँगनारँगाई, रंगत
घेरना-घेराछींकना-छींक
फिसलना-फिसलनखपना-खपत
बहनाबहावमुसकाना-मुसकान
उड़ना-उड़ानघबराना-घबराहट
मुड़ना-मोड़सजाना-सजावट
चढ़ना-चढाईगिरनागिरावट
मारना-मारदौड़नादौड़

Noun in Hindi सम्बन्धित कुछ प्रश्न और उत्तर

संज्ञा के कितने भेद होते हैं ?

संज्ञा के तीन भेद होते हैं। जैसे – व्यक्तिवाचक, जातिवाचक, भाववाचक।

जातिवाचक संज्ञा के दो भेद कौन से हैं ?

कुछ विद्वान जातिवाचक संज्ञा के दो अन्य भेद माने जाते हैं – द्रव्यवाचक संज्ञा और समूहवाचक संज्ञा।

संज्ञा किसे कहते हैं ?

किसी व्यक्ति, वास्तु, स्थान या भाव के नाम को संज्ञा कहते हैं। इस संसार में प्रत्येक सजीव व निर्जीव व्यक्ति, स्थान, वस्तु का कुछ-न-कुछ नाम अवश्य होता हैं। यह नाम ही संज्ञा कहलाता हैं। व्याकरण में संज्ञा का अर्थ है नाम। अर्थात किसी भी नाम को संज्ञा कहा जाता है।

इस लेख में हम आपको संज्ञा की परिभाषा, संज्ञा के भेद व उदाहरण और इससे सम्बंधित समस्त जानकारी प्रदान की है। अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी के अलावा अन्य कोई भी जानकारी चाहिए तो आप नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में जाकर मैसेज करके पूछ सकते हैं। हमारी टीम द्वारा आपके सभी प्रश्नों के उत्तर अवश्य दिए जाएंगे। आशा करते हैं आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी से सहायता मिलेगी।

Leave a Comment