ECS और NACH क्या है ? Full Form and meaning in Hindi

ECS का पूरा नाम Electronic Clearing Service है। ईसीएस एक इलेक्ट्रॉनिक सर्विस होती है जोकि पेमेंट सिस्टम का एक हिस्सा होती है। ईसीएस तब मदद करता है जब एक बैंक अकाउंट से कई बैंक अकाउंट में पैसा ट्रांसफर होता है। NACH की फुल फॉर्म National Automated Clearing House होती है। इसे हिंदी में राष्ट्रीय ऑटोमेटेड समाशोधन गृह कहा जाता है। एनएसीएच सुविधा एनपीसीआई (National Payments Corporation of India) के द्वारा तैयार की गई है।

ECS और NACH क्या है ? आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपको ECS और NACH के बारे में बताने जा रहें है। क्या आप सभी जानते है कंपनियों द्वारा अपने कर्मचारियों की सैलरी एक ही समय पर कैसे उनके खाते के माध्यम से भेजी जाती है ? कंपनियां, बड़े संस्थान अपने हजारो कर्मचारियों को एक ही समय पर वेतन भेजने के लिए ECS और NACH की मदद लेनी पड़ती है। यह एक भुगतान प्रणाली है।

यहाँ हम आपको बतायेंगे ECS क्या है ? NACH क्या है ? ECS और NACH की Full Form क्या है ? और इनका हिंदी में क्या अर्थ है? इन सभी के विषय में हम आपको विस्तारपूर्वक जानकारी देंगे। ECS और NACH Full Form and meaning in Hindi से सम्बंधित अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लेख को ध्यानपूर्वक अंत तक पढ़िए –

ECS और NACH Full Form ECS और NACH क्या है ?
ECS और NACH क्या है ? Full Form and meaning in Hindi

ECS क्या है ? (ECS और NACH क्या है ?)

जानकारी के लिए बता दें ECS का पूरा नाम Electronic Clearing Service है। ईसीएस एक इलेक्ट्रॉनिक सर्विस होती है जोकि पेमेंट सिस्टम का एक हिस्सा होती है। ईसीएस तब मदद करता है जब एक बैंक अकाउंट से कई बैंक अकाउंट में पैसा ट्रांसफर होता है। उदाहरण के लिए – कंपनी (जैसे कि एक कंपनी को हर महीने अपने कर्मचारियों के खाते में सैलरी का भुगतान करना होता है)। इस तरह से कह सकते है ECS एक ऐसी प्रणाली है जिसका इस्तेमाल ऐसी स्थिति में किया जाता है जब हमे बहुत सारा लेनदेन करना होता है। ईसीएस दो प्रकार के होते है -ECS डेबिट और ECS क्रेडिट।

NACH क्या है ? (ECS और NACH क्या है ?)

सामान्य तौर पर NACH की फुल फॉर्म National Automated Clearing House होती है। इसे हिंदी में राष्ट्रीय ऑटोमेटेड समाशोधन गृह कहा जाता है। एनएसीएच सुविधा एनपीसीआई (National Payments Corporation of India) के द्वारा तैयार की गई है। यह एक इंफ्रास्ट्रक्चर है जोकि वेब आधारित पेमेंट को हैंडल करता है। जैसे कि ऐसे बहुत से संस्थान, कंपनियां और बड़ी कंपनियां होते है जिनको बल्क में और हर महीने कुछ पेमेंट बहुत सारे लाभार्थियों के खाते में ट्रांसफर करना होता है जैसे सैलरी आदि।

इसी तरह ऐसे बहुत सारे संस्थान होते है जिन्हें बहुत सारे लाभार्थियों से पेमेंट रिसीव भी करना होता है। उदाहरण के लिए – म्यूच्यूअल फण्ड कंपनी (जैसे की इस कंपनी को बहुत सारे इन्वेस्टर SIP के माध्यम से पेमेंट करते है) को इन्वेस्टरों के खाते से पेमेंट रिसीव करना होता है। ऐसी बहुत सारी कंपनियां जो लोन की सेवाएं उपलब्ध कराती है उन्हें अपने ग्राहकों के खाते से हर महीने क़िस्त लेनी होती है।

ECS और NACH Full Form 2023 Highlights ECS और NACH क्या है ?

उम्मीदवार ध्यान दें यहाँ हम आपको ECS और NACH क्या है ? और इससे जुडी कुछ विशेष जानकारी देने जा रहें है। इन जानकारियों को आप नीचे दी गई सारणी के माध्यम से प्राप्त कर सकते है। ये सारणी निम्न प्रकार है –

आर्टिकल का नामECS और NACH क्या है ? फुल फॉर्म
साल 2023
कैटेगरी फुल फॉर्म
फुल फॉर्म ECS और NACH

ARMY Full form in Hindi, ARMY की फुल फॉर्म क्या होती है?

ECS के प्रकार (Types of ECS)

जानकारी के लिए बता दें ECS दो प्रकार के होते है। ECS Credit और ECS Debit -जिनके बारे में हम आपको नीचे दी गयी जानकारी में विस्तारपूर्वक समझाने जा रहें है। इन जानकारियों को पढ़कर आप ईसीएस के प्रकार के बारे में अच्छी तरह से जानकारी प्राप्त कर सकते है। जानिए क्या है पूरी जानकारी –

ECS Credit

ईसीएस क्रेडिट उस भुगतान प्रणाली को कहा जाता है जब किसी कंपनी या संस्था को एक साथ बहुत सारे कर्मचारियों के खाते में वेतन की राशि क्रेडिट करनी होती है। इसके अलावा जैसे लाभांश, ब्याज, पेंशन आदि का पैसा जब ग्राहकों को देना होता है, तब ईसीएस क्रेडिट सुविधा का इस्तेमाल किया जाता है।

ECS Debit

ईसीएस डेबिट एक ऐसा पेमेंट सिस्टम है जिसको कोई बैंक या फाइनैंशियल इंस्टीटूशन तब यूज करता है जब उन्हें अपने ग्राहकों के खाते से एक बड़ी संख्या में पैसे निकालने होते है। जैसे – टेलीफोन बिल, बिजली का बिल, लोन की किस्त, म्यूच्यूअल फण्ड की ट्रांसक्शन आदि। इस प्रक्रिया को ईसीएस डेबिट कहा जाता है।

Full Form of ECS and NACH in Hindi (ECS और NACH क्या है ?)

उम्मीदवार ध्यान दें यहाँ हम आपको ECS और NACH की फुल फॉर्म क्या है ? इसके बारे में हिंदी में जानकारी देने जा रहें है। जिनके बारे में आप नीचे दी गई सारणी के माध्यम से जानकारी प्राप्त कर सकते है। ये सारणी निम्न प्रकार है –

शब्द फुल फॉर्म हिंदी अर्थ
ECS Electronic Clearing Service इलेक्ट्रॉनिक समाशोधन सेवा
NACH National Automated Clearing House राष्ट्रीय ऑटोमेटेड समाशोधन गृह

ECS और NACH क्या है ?

ECS के फायदे

यहाँ हम नागरिकों को ECS Payment System से क्या बेनिफिट है ? आपको इसके बारे में जानकारी देने जा रहें है। हमारे द्वारा नीचे दिए गए पॉइंट्स को पढ़कर आप ईसीएस के फायदों के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है। ECS के फायदे आप निम्न पॉइंट्स को पढ़कर जान सकते है। ये पॉइंट्स इस प्रकार है –

  • ईसीएस पेमेंट सिस्टम के माध्यम से इसी भी बिल का भुगतान समय से हो जाता है।
  • ग्राहकों को पैसा जमा करने या निकालने के लिए डिटेल्स सम्बंधित फोर्मलिटी नहीं नहीं पड़ती है।
  • ईसीएस में पैसा भेजने के लिए ECS Credit की सुविधा मिलती है और पैसा लेने के लिए ECS Debit की सुविधा मिलती है।
  • ईसीएस का लाभ केवल उन्हीं संस्थानों या कंपनियों को मिलता है जो इसका इस्तेमाल करते है।
  • यह प्रणाली बहुत ही लोचदार है। इस प्रणाली को आसानी से शुरू करने के साथ-साथ आसानी से बंद भी किया जा सकता है।
  • ईसीएस पेमेंट सिस्टम से बैंकिंग सुविधाओं में तेजी आयी है।
  • ग्राहकों को ईसीएस पेमेंट सिस्टम में पैसा निकालने या जमा करने पर किसी प्रकार का कोई शुल्क नहीं देना पड़ता है।
  • ईसीएस के माध्यम से ग्राहक अपने डेली यूसेज के बिल जैसे- मोबाइल बिल, बिजली का बिल,इंटरनेट का बिल, पानी का बिल आदि का भुगतान आसानी से कर सकते है।
  • ईसीएस के माध्यम से किसी भी बिल का भूटान करने में बहुत कम समय लगता है।
  • ECS पेमेंट पूरी तरह से पेपरलेस होती है।
  • सरकार द्वारा संचालित समस्त सरकारी योजनाओं का पैसा सीधे लाभार्थियों के बैंक खातों में आएगा।
  • इसमें रिजेक्शन का अनुपात अधिक होता है।
  • इसके अंतर्गत पंजीकरण करने में लगभग 30 दिन का समय लगता है।

NACH के लाभ

यहाँ हम नागरिकों को NACH Payment System से क्या बेनिफिट है ? आपको इसके बारे में जानकारी देने जा रहें है। हमारे द्वारा नीचे दिए गए पॉइंट्स को पढ़कर आप NACH के फायदों के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है। एनएसीएच के फायदे आप निम्न पॉइंट्स को पढ़कर जान सकते है। ये पॉइंट्स इस प्रकार है –

  • एनएसीएच के लिए मैन्युअल प्रोसेस की जरूरत नहीं पड़ती है।
  • एनएसीएच के अंतर्गत समय पर पेंशन, सैलरी, लाभांश आदि प्राप्त हो जाता है।
  • इसके माध्यम से कम समय में एक साथ बहुत सारे लोगो को स्कॉलरशिप, सब्सिडी, अलाउंस आदि प्राप्त हो जाता है।
  • NACH में ऑटो डेबिट की सुविधा उपलब्ध है जिससे काफी सारे लोगो का भुगतान एक साथ और समय से अपने आप हो जाता है।
  • एनएसीएच से भुगतान करने में बहुत ही कम समय लगता है।
  • इसके माध्यम से म्यूच्यूअल फण्ड, SIP या शेयर्स में इन्वेस्ट किया जा सकता है।
  • इसमें रिजेक्शन का अनुपात बहुत कम होता है।
  • इसमें दो पक्षों में विवाद का निपटारा करने के लिए डिस्प्यूट मैनेजमेंट सिस्टम बनाया गया है।
  • इसके अंतर्गत मात्र 15 दिनों में अंतर्गत रजिस्ट्रेशन हो जाता है।

ईसीएस स्कीम के लिए आवेदन कैसे करे ?

उम्मीदवार ध्यान दें वे इच्छुक वेतनभोगी व्यक्ति या कर्मचारी जो ECS सुविधा का लाभ लेना चाहते है उन्हें ECS Scheme के लिए अप्लाई करना होगा। इसके लिए आवेदन करने हेतु उम्मीदवार का किसी भी बैंक में बचत खाता होना चाहिए। यहाँ हम आपको बताएंगे ईसीएस स्कीम के लिए आवेदन कैसे करे ? इसकी पूरी प्रक्रिया हम आपको स्टेप बाय स्टेप बताने जा रहें है। जानिए क्या है ईसीएस स्कीम के लिए आवेदन करने की पूरी प्रक्रिया –

  • उम्मीदवार ईसीएस के लिए आवेदन करने के लिए सबसे पहले अपने बैंक शाखा की में जाएँ।
  • उसके बाद आपको वहां जाकर ईसीएस रजिस्ट्रेशन करने हो कहना होगा।
  • इसके बाद बैंक द्वारा ईसीएस सेवा शुरू करने के लिए आपको ECS Mandate Form (आज्ञापत्र) दिया जाएगा।
  • इसके माध्यम से आप ECS Credit/Debit का Mandate दे सकते है।
  • उसके बाद आपको फॉर्म में पूछी गई जानकारी ध्यानपूर्वक दर्ज करनी होगी।
  • इसके बाद आपको खाते में पैसा जमा होने या निकालने की अपडेट आपके मोबाइल नंबर पर एसएमएस के माध्यम से दे जाएगी।
  • इस प्रकार आपकी ईसीएस स्कीम आवेदन करने की प्रक्रिया पूरी हो जाती है और आप इस सुविधा का लाभ ले सकते है।

ECS से संबंधित प्रचलित शब्द और उनका मतलब

उम्मीदवार ध्यान दें यहाँ हम आपको ईसीएस से सम्बंधित आपको कुछ शब्द और उनके मतलब के विषय में बताने जा रहें है। इन जानकारियों को आप नीचे दिए गए पॉइंट्स के माध्यम से प्राप्त कर सकते है। जानिए क्या है पूरी जानकारी –

ECS userऐसी कंपनियां या संस्थाएं जो ईसीएस पेमेंट सिस्टम का इस्तेमाल करते है वे सभी ECS user कहलाते है।
Beneficiaryईसीएस पेमेंट सिस्टम के अंतर्गत ग्राहकों या सदस्यों को पैसे डेबिट या क्रेडिट किये जाते है वे ग्राहक या सदस्य ECS Beneficiary कहलाते है।
ECS mandateECS mandate एक तरह का आज्ञापत्र होता है। जिसका इस्तेमाल ईसीएस की सर्विस का लाभ लेने के लिए आवेदन करने के लिए किया जाता है। इस आज्ञापत्र में कंपनी या संस्था अपने बैंक खाते से पैसा काटने की सहमति दी जाती है।
Destination bankऐसे ग्राहक या सदस्य जो ईसीएस सर्विस का लाभ ले रहें है उनके बैंक खाते को Destination bank कहते है।
Destination account holderDestination account holder या ECS beneficiary account holder उन ग्राहकों या सदस्यों को कहा जाता है जिनका पैसा ईसीएस के माध्यम से डेबिट या क्रेडिट किया जाता है।

ECS और NACH क्या है ?

ECS और NACH Full Form and meaning in Hindi संबंधित प्रश्न/उत्तर

ECS की फुल फॉर्म क्या है ?

ECS की फुल फॉर्म Electronic Clearing Service होती है। इसका हिंदी अर्थ इलेक्ट्रॉनिक समाशोधन सेवा होता है।

NACH की फुल फॉर्म का है ?

NACH की फुल फॉर्म National Automated Clearing House होती है। इसका हिंदी अर्थ  राष्ट्रीय ऑटोमेटेड समाशोधन गृह है।

NPCI की फुल फॉर्म क्या है ?

NPCI की फुल फॉर्म National Payments Corporation of India है।

एनएसीएच की शुरुआत किसने की थी ?

एनएसीएच की शुरुआत NPCI ने की थी।

ECS Mandate Form क्या है ?

ECS Mandate Form एक प्रकार का आज्ञापत्र होता है जो किसी वेतनभोगी या कर्मचारी द्वारा ईसीएस का लाभ लेने के लिए अपनी बैंक शाखा को भरकर देना होता है और अपने खाते से पैसे काटने की सहमति दी जाती है।

जैसे कि इस लेख में हमने आपसे ECS और NACH Full Form and meaning in Hindi और इससे जुडी जानकारी साझा की है। अगर आपको इसके अलावा कोई अन्य जानकारी चाहिए तो आप नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में जाकर मैसेज करके पूछ सकते है। आपके सभी प्रश्नों के उत्तर अवश्य दिए जाएंगे। आशा करते है आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी से सहायता मिलेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Join Telegram