e nam पोर्टल: ई-नाम ऑनलाइन किसान रजिस्ट्रेशन, enam.gov.in Portal

e nam पोर्टल के माध्यम से सरकार ने किसानों की फसलों के खराब होने व उनके बिकने की समस्याओं से किसानों को निजात दिलाने के लिए इसकी शुरुआत की है। इस पोर्टल के माध्यम से सभी किसान घर बैठे ही अपनी फसल ऑनलाइन माध्यम से बेच सकेंगे। यही नहीं उनकी फसल के लिए किये गए भुगतान भी उन्हें ऑनलाइन ही मिल जाते हैं।

e nam पोर्टल -देश में किसानों को फसलों से जुडी विभिन्न समस्याओं से बचाने के लिए सरकार समय समय पर अनेकों योजनाएं लाती रहती है। ऐसे ही एक अन्य सुविधा केंद्र सरकार द्वारा e nam पोर्टल के जरिये प्रदान की जाएगी। ये एक ऐसा पोर्टल (पैन-इंडिया इलेक्ट्रॉनिक व्यापार पोर्टल) है जिसे राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना के अंतर्गत लांच किया गया है। इस पोर्टल की शुरुआत राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना के अंतर्गत किसानों को फसलों की बिक्री के लिए एक एकल बाजार के रूप में की गयी है। इस पोर्टल के जरिये सभी किसान अपनी फसलों को बिना देरी किये ऑनलाइन पोर्टल की मदद से ही बेच सकेंगे। जिसे उनकी फसल बर्बाद नहीं होगी।

e nam पोर्टल
e nam पोर्टल: ई-नाम ऑनलाइन किसान रजिस्ट्रेशन

आज इस लेख के माध्यम से हम आप को e nam पोर्टल के बारे में बताएंगे। साथ ही आप इस लेख में ये भी जान सकेंगे की कैसे पोर्टल पर ई-नाम ऑनलाइन किसान रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी करेंगे। साथ ही इस योजना के तहत पोर्टल पर पंजीकरण और सुविधा के बारे में सभी संबंधित जानकारी भी आप को उपलब्ध कराएंगे।

ई-नाम पोर्टल – enam.gov.in

ई – नाम पोर्टल के माध्यम से सरकार ने किसानों की फसलों के खराब होने व उनके बिकने की समस्याओं से किसानों को निजात दिलाने के लिए इसकी शुरुआत की है। इस पोर्टल के माध्यम से सभी किसान घर बैठे ही अपनी फसल ऑनलाइन माध्यम से बेच सकेंगे। यही नहीं उनकी फसल के लिए किये गए भुगतान भी उन्हें ऑनलाइन ही मिल जाते हैं। इसके लिए सभी किसानों को अपना बैंक खाता विवरण पोर्टल पर पंजीकरण करते समय उपलब्ध कराना होगा। जिससे उन के द्वारा दिए गए बैंक खाते में ही फसल बिकने पर भुगतान राशि ट्रांसफर कर दी जाएगी।

इस पोर्टल पर ऑनलाइन फसल बेचने का सबसे बड़ा फायदा ये है कि किसान बिना समय गंवाए ही अपनी फसल तैयार होने पर बेच सकेंगे। और अच्छी फसल के अच्छे पैसे भी उन्हें मिल जाएंगे। यह एक तरह का बाजार की मंडियों का एकीकृत राष्ट्रीय बाजार है। इससे फसल बेचने के लिए ग्राहकों और किसानों के बीच से बिचौलियों का कार्य खत्म हो जाएगा और साथ ही किसानों को पूरा लाभ मिलेगा। पोर्टल के जरिये सभी मौजूद मंडियों को ऑनलाइन नेटवर्क से जोड़ा जायेगा , जिससे किसान अपनी फसल बेचने के अधिक अवसर मिले।

Highlights Of e nam पोर्टल

आर्टिकल का नाम e nam पोर्टल: ई-नाम ऑनलाइन किसान रजिस्ट्रेशन
योजना का नाम राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना
पोर्टल का नाम ई नाम पोर्टल / E-NAM Portal
उद्देश्य देश के किसानों को पोर्टल के जरिये ऑनलाइन
अपनी फसल को बेचने की सुविधा मिलेगी
ई नाम लॉन्च करने की तिथि 14 जुलाई 2022
लाभार्थी देश के किसान
पंजीकरण प्रक्रिया ऑनलाइन मोड
वर्तमान वर्ष 2022
लाभ किसानों को सीधे अपनी फसल बेचने व लाभ
का पूरा प्रतिशत अपने बैंक खातों में प्राप्त करने की सुविधा
आधिकारिक वेबसाइट enam.gov.in
e nam पोर्टल

यह भी देखें :- प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना

ई नाम ऑनलाइन किसान रजिस्ट्रेशन का उद्देश्य

राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) योजना -देश में आज भी ऐसे बहुत से किसान हैं जिन्हे अपनी फसल उत्पादन के बाद उसे बेचने की समस्या से गुजरना पड़ता है। उन्हें नहीं पता होता कि वो अपनी फसल किसे बेचेंगे। इसके लिए उन्हें कई बार बिचौलिए की मदद लेनी होती है। जिससे फसल तो बिक जाती है लेकिन उससे होने वाला मुनाफा कुछ प्रतिशत बँट जाता है। जिससे किसानों को बहुत लाभ नहीं होता। ऐसा भी तब होता है जब उनकी फसल समय पर बिक जाती है ।

वहीँ बहुत बार देखने को मिलता है की काफी समय तक किसानों की फसल नहीं बिकती है जिससे उनकी फसल खराब होने लगती है। ऐसे में उन्हें किसी भी तरह औने- पौने दामों में अपनी फसल को बेचना होता है। ऐसे में उन्हें कई बार लाभ की बजाए हानि भी हो जाती है। यदि फसल बिक भी जाए तो उन्हें इतना लाभ भी नहीं मिलता कि वो उससे अगली फसल तक अपना गुजर बसर आसानी से कर सके।

तारबंदी योजना 48 हजार की सब्सिडी

e nam पोर्टल: ई-नाम
e nam पोर्टल

ई नाम पोर्टल पर किसान पंजीकरण से लाभ व इसकी विशेषतायें

  • देश के किसान घर बैठे राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) योजना के माध्यम से अपनी फसल बेच सकेंगे।
  • ऑनलाइन पंजीकरण कराने पर किसान को ग्राहक आसानी से मिल जाएंगे।
  • दलालों या बिचौलियों के हस्तक्षेप के बिना कृषि उत्पादों को बेच सकते है जिससे उन्हें पूरा लाभ प्राप्त होगा।
  • केंद्र सरकार द्वारा इसके लिए मोबाइल एप्लीकेशन भी लांच की गयी है। जिससे किसानों को आसानी से इन सुविधाओं का लाभ मिल सके।
  • किसान राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) योजना के माध्यम से एक राष्ट्रीय स्तर के बाजार तक पहुँच सकेंगे।
  • पोर्टल के माध्यम से व्यापारियों की संख्या में भी बढ़ोतरी होगी। और किसानों को फसल बेचने के लिए ग्राहकों को नहीं ढूंढना होगा।
  • व्यापारियों के बीच प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी जिससे किसानों को फसल के अच्छे पैसे मिल जाएंगे।
  • e nam पोर्टल के जरिये किसानों को कृषि उत्पादों की सभी विवरणों को पारदर्शी रूप में उपलब्ध कराएगा।
  • पोर्टक के माध्यम से वस्तुओ की गुणवक्ता की जानकारी भी नागरिकों तक पहुंचेगी

e nam पोर्टल में पंजीकरण हेतु पात्रता

जो भी किसान अपनी फसल को ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से बेचना चाहते हैं उन्हें सबसे पहले अपना पंजीकरण ई नाम पोर्टल पर करवाना होगा। जिस के लिए उन्हें पहले कुछ योग्यता मानदंडों को पूरा करना होगा। यहाँ जानिये –

  • e nam पोर्टल पर सिर्फ किसान ही आवेदन कर सकते हैं।
  • भारतीय नागरिक हो जिसके पास स्थायी / मूल निवास का प्रमाण पत्र हो।
  • जिस किसान के पस सभी आवश्यक दस्तावेज उपलब्ध हों वही अपना पंजीकरण पूरा कर सकेंगे।

(पंजीकरण) कृषि इनपुट अनुदान योजना 2022

ई नाम पोर्टल पंजीकरण हेतु महत्वपूर्ण दस्तावेज

राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना 2022 में लाभार्थी बनने के लिए सभी किसानों को ई नाम पोर्टल (e nam पोर्टल) पर आवेदन करना होगा। इसके लिए आप के पास कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज होने जरुरी है। आगे आप की सुविधा के लिए इन आवश्यक दस्तावेजों की एक सूची उपलब्ध करा रहे हैं –

  • आवेदक किसान का आधार कार्ड
  • फोटो पहचान पत्र (वोटर आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस)
  • किसान का मूल निवास प्रमाण पत्र
  • पंजीकृत मोबाइल नम्बर
  • बैंक पासबुक
  • ईमेल आईडी
  • किसान का पासपोर्ट साइज फोटो

हरियाणा भावांतर भरपाई योजना 2022

e nam पोर्टल पर पंजीकरण ऐसे करें

यदि आप भी सरकार द्वारा शुरू की गयी इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो आप को ई – नाम पोर्टल पर अपना पंजीकरण करवाना होगा।

  1. किसानों को सबसे पहले e nam Portal Registration करने के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  2. इसके बाद आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
  3. होम पेज पर आप को Registration के ऑप्शन पर क्लिक करना है।
e nam पोर्टल
  1. क्लिक करने पर आप के स्क्रीन पर अगला पेज खुलेगा।
  2. यहाँ आप को रजिस्ट्रेशन फॉर्म दिखेगा। इसमें किसानों को पूछी गयी सभी जानकारी भरनी होगी।
  3. जैसे कि – किसान पंजीकरण प्रकार, नाम, जन्म तिथि, स्तर, आधार संख्या, बैंक विवरण आदि दर्ज कर दें।
e nam पोर्टल: ई-नाम ऑनलाइन किसान रजिस्ट्रेशन
  1. सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आप को कैंसिल चेक या पासबुक की कॉपी और आईडी प्रूफ की स्कैन की गयी कॉपी भी अपलोड करनी होगी।
e nam पोर्टल
  1. अंत में अपना रजिस्ट्रेशन फॉर्म में दर्ज सभी जानकारियों को जांच लें। त्रुटि होने पर सही करें और सब्मिट के बटन पर क्लिक कर दें।
  2. और अपने भरे हुए आवेदन पत्र का प्रिंटआउट निकाल लें।
  3. इस प्रकार आप की पंजीकरण की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

यह भी देखें :- पीएम किसान योजना में कैसे अपडेट करें KYC

e nam पोर्टल से संबंधित प्रश्न उत्तर

e nam पोर्टल क्या है ?

ई नाम पोर्टल केंद्र सरकार द्वारा शुरू किया गया ऐसा पोर्टल है , जिसके माध्यम से सभी पंजीकृत किसान अपनी फसल ऑनलाइन ही बेच सकेंगे। इससे उनकी फसल समय पर बिक जाएगी और उन्हें लाभ का पूरा प्रतिशत प्राप्त होगी।

ई नाम पोर्टल पर अपनी फसल कैसे बेचे ?

इसके लिए किसानों को इस पोर्टल पर अपना पंजीकरण करवाना पड़ेगा। पंजीकरण के बाद आप अपनी फसल को ऑनलाइन ही बेच सकते हैं। ई-नाम ऑनलाइन किसान रजिस्ट्रेशन की पूरी प्रक्रिया आप इस लेख में पढ़ सकते हैं।

e nam पोर्टल पर फसल बेचने से क्या फायदा होगा ?

यदि किसान अपनी फसल ई नाम पोर्टल के माध्यम से बेचते हैं तो उन्हें समय पर घर बैठे ही अपनी फसल बेचने का अवसर मिलेगा। यही नहीं उन्हें इससे मिलने वाले पूरे पैसे भी बैंक खाते में प्राप्त हो जाएंगे। इस रकम का कोई भी प्रतिशत बिचौलियों को देने की आवश्यकता नहीं होगी। साथ ही समय पर फसल बिकने पर फसल खराब भी नहीं होगी।

ई नाम पोर्टल पर फसल बेचने हेतु किसान पंजीकरण के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज कौन से हैं ?

किसान पंजीकरण के लिए आप को आवेदक किसान का आधार कार्ड , फोटो पहचान पत्र ( वोटर आईडी , ड्राइविंग लाइसेंस ), किसान का मूल निवास प्रमाण पत्र , पजीकृत मोबाइल नम्बर , बैंक पासबुक
ईमेल आईडी , किसान का पासपोर्ट साइज फोटो , आदि दस्तावेजों की जरुरत होगी।

e nam पोर्टल पर कौन कौन आवेदन कर सकता है ?

सभी वर्ग के किसान नागरिकों को e nam पोर्टल में पंजीकरण करने के लिए शामिल किया गया है। ताकि वह आसानी से अपनी फसलों का विक्रय कर सके।

आज इस लेख के माध्यम से आप को e nam पोर्टल के संबंध में आवश्यक जानकारी प्रदान की है। उम्मीद करते हैं की आप को ये जानकारी उपयोगी लगी होगी। यदि आप ऐसी ही अन्य योजनाओं के बारे में उपयोगी जानकारी के बारे में पढ़ना चाहते हैं तो आप हमारी इस वेबसाइट – www.mcpanchkula.org को बुकमार्क कर सकते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button