साइकिल का आविष्कार किसने किया था और कब हुआ?

साइकिल का आविष्कार किसने किया था दोस्तों जैसा की हम सभी जानते है। साइकिल आज के समय में एक बहुत अच्छा यातायात का साधन है। पुरी दुनियाँ में साइकिल प्रत्येक व्यक्ति के जीवन का एक हिस्सा बन गई है। छोटे बच्चों से लेकर बड़े बूढ़े भी इसका इस्तेमाल सरलता से कर लेते है। एवं यह सबसे सस्ता ट्रांसपोर्ट व्हीकल है। इसका प्रयोग करने के लिए ना तो डीजल लगता है और ना ही PETROL और ना ही बिजली इस्तेमाल होती है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

वैसे तो आज के समय में बहुत से अलग-अलग उपकरण आ गए है जैसे की बाइक ,कार ,स्कूटी आदि , इन सभी का निर्माण साइकिल के रूप को देखकर ही हुआ हैं। परन्तु इन सभी से वायु में बहुत प्रदूषण फैलता है जो हमारे पर्यावरण के लिए हानिकारक है। आज के समय में लोगों को कम समय में अधिक काम करने वाले वस्तुए ही पसंद आती है जिससे वह साइकिल का प्रयोग ज्यादा न करके अन्य उपकरणों का प्रयोग करते है।

साइकिल का आविष्कार किसने किया था और कब हुआ?
साइकिल का आविष्कार किसने किया था और कब हुआ?

साइकिल परिचय

साइकिल एक अंग्रेजी नाम है, इसे हिंदी में चक्र वाहिनी कहते है। लेकिन साइकिल को हमेशा से ही साइकिल नहीं बोला जाता था। सबसे पहले इसका नाम Karl Von Drais ने Laufmaschine रखा था इसका हिंदी अनुवाद है, दौड़ने वाली मशीन। विश्व की सबसे पहली साइकिल का वजन 23 किलो था यह पूरी लकड़ी की बनी हुई थी पहियों से लेकर हेंडल तक सब लकड़ी का ही था।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

साइकिल का आविष्कार किसने किया था

आर्टिकल साइकिल का आविष्कार किसने किया था और कब हुआ?
साईकिल की अविष्कारकर्त्ता Karl Von Drais
अविष्कार किया गया 12 जून 1817
मटीरियल पूरी CYCLE लकड़ी से बनी हुई थीं।

Cycle का अविष्कार किसने किया

साइकिल का अविष्कार जर्मन के एक वन अधिकारी ने किया था। आज से 200 साल पहले साइकिल का अविष्कार हुआ था, यानी की 1817 में। Karl Von Drais यूरोप के बाइडेर्मियर काल के एक मशहूर आविष्कारक थे उन्होंने Cycle के अलावा भी कई चीजों का आविष्कार किया है।

 Karl Von Drais उपलब्धि

कार्ल वॉन डरिस द्वारा साईकिल के आलावा भी अन्य आविष्कार भी किये गए है जो की इस प्रकार से निम्नवत है।

  • सन् 1821 में कीबोर्ड वाला शुरूआती टाइपराइटर।
  • 1817 में सामान ले जाने के लिए साइकिल।
  • सन् 1827 में 16 अक्षरों वाली स्टेनोग्राफ मशीन और दुनिया की पहली मीट ग्राइंडर यानी कीमा बनाने की मशीन बनाने का श्रेय भी कार्ल वाॅन ड्रैस को जाता है।
  • सन् 1812 में कागज पर पियानो संगीत रिकॉर्ड करने वाला एक उपकरण।

Cycle का अविष्कार कैसे हुआ

साल 1815 में जब इण्डोनेशिया में स्थित माउंट टैम्बोरा ज्वालामुखी में विस्फोट हुआ था। जिससे राख के काले बादल बन कर पूरी दुनिया में फैल गए इससे तापमान में गिरावट देखी गई। इसका सबसे अधिक प्रभाव उत्तरी गोलार्ध के देशों में हुआ जहाँ की पूरी फसलें ख़राब हो गयी थी।

फसले ख़राब हुई तो लोगो के बीच भुखमरी की एक बड़ी समस्या आगे आ गई व्यक्ति अपने लिए भी भोजन का इंतजाम नहीं कर पा रहा था वही पशुओ के लिए भोजन का इंतजाम करना न मुमकिन सा हो गया था। जिससे कई किसानो की फसले ख़राब भी हो गई और उनके पशु भी मरने लगे।

पशु ही उस समय लोगो के पास एकमात्र सहारा थे उनका सामान ढोह कर ले जाने का परन्तु अब वह भी खत्म होता दिखाई दे रहा था। इन सभी समस्याओ से निवारण के लिए Karl Von Drais ने दुनिया की पहली CYCLE बनाई। जिसके ऊपर किसान अपना सामान रखकर एक स्थान से दूसरे स्थान तक ल जा सकते थे।

दुनिया की सबसे पहली साइकिल पूरी लकड़ी की बनी थी जिसमे कोई भी पैडल नहीं था, बस दो पहियों से जुड़ा एक हैंडल था। जिसे धक्का देकर चलाया जाता था एवं साइकिल को मार्गदर्शन देने के लिए हेंडल का प्रयोग करना पड़ता था। लकड़ी की साइकिल का वजन 23 किलोग्राम था। 12 जून 1817 को जर्मनी के दो शहर मैनहेम और रिनाउ के बीच चलाकर लोगों के सामने अपने अविष्कार को प्रदर्शित किया था। इस दौरान उन्हें 7 किलोमीटर की दूरी तय करने पर लगभग एक घंटे से अधिक का समय लगा था।

QR Code Kya hai Aur Kaise Banate hai |

साइकिल का अविष्कार कब हुआ

वैसे तो सबसे पहली साइकिल का आविष्कार 1815 में हुआ था। वह साइकिल पूरी लकड़ी की थी और उसमे कोई भी पैडल नहीं था। उसे चलाना थोड़ा कठिन होता था। इसलिए 1863 में फ्रांस के मैकेनिक  Pierre Lallement ने दुनिया की पहली पैडल वाली CYCLE बनाई थी। जिन्होंने उसके आगे वाले पहिये में पैडल लगाए थे।साइकिल का आविष्कार किसने किया था और कब हुआ

वर्तमान में साइकिल के पैडल बीच में देखे जाते है। यह बहुत प्रयासों के बाद ही सम्भव हो पाया है। जाॅन केम्प ने ही साल 1885 में पहली बार पहली बार ऐसी साइकिल बनाई थी जिसके पैडल बीच में थे।

भारत में साईकिल का निर्माण साल 1942 में हुआ था भारत की पहली साइकिल बनाने वाली कम्पनी Hind Cycle थी, जोकि मुंबई में स्थापित की गई थी। क्योकि भारत देश बहुत सालो तक अंग्रेजो के अधीन रहा था। इसी कारण वश भारत के नागरिको को विकास करने का अवसर ही नहीं मिला। इसलिए साइकिल का निर्माण भारत में कई वर्षो बाद हुआ था।

साईकिल अविष्कार से संबंधित कुछ प्रश्न-उत्तर

Cycle का अविष्कारक का नाम क्या है ?

Cycle का अविष्कारक का नाम Karl Von Drais है।

साइकिल का अविष्कार कब हुआ था ?

साइकिल का अविष्कार 12 जून 1817 में हुआ था।

दुनिया की सबसे पहली साइकिल किस धातु से बानी थी।

दुनिया की सबसे पहली साइकिल किसी धातु से नहीं बल्कि पूरी CYCLE लकड़ी से बनी हुई थीं।

Cycle के लाभ क्या है ?

Cycle के बहुत से लाभ है :- साइकिल से वायु प्रदूषण नहीं होता है। शरीर की कसरत होती है कम समय में दूर तक का सफर तय किया जा सकता है ,साइकिल से होने वाली दुर्घटना में जान का खतरा नहीं होता है।

भारत में साइकिल का आविष्कार कब हुआ था ?

भारत में cycle का आविष्कार वर्ष 1942 में हिन्द साइकिल नाम की कम्पनी द्वारा किया गया यह कम्पनी मुंबई में स्थित थी।

मेरा सुझाव

जैसा की सरकार सभी नागरिकों से कहती है की कम से कम आस-पास जाने के लिए केवल साइकिल का उपयोग करे इससे प्रदूषण कम होगा। और यह सही भी है इससे सभी लोग शारीरिक तौर पर भी स्वस्थ रह सकते है। साइकिल से ही और वाहनों का आविष्कार हुआ है लेकिन साइकिल आज भी यातयात के लिए सबसे अच्छा साधन है।

Leave a Comment