BPO क्या होता है? बीपीओ कितने प्रकार के होते हैं एवं इसके लाभ और हानि – BPO Full Form in Hindi

अक्सर आपने बीपीओ का नाम तो सुना ही होगा लेकिन क्या आप जानते है की BPO का संक्षिप्त रूप क्या है यह कितने प्रकार का होता है। यदि नहीं तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको BPO से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी को साझा करने जा रहे है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
BPO क्या होता है? बीपीओ कितने प्रकार के होते हैं एवं इसके लाभ और हानि BPO Full Form in Hindi
BPO क्या होता है?

BPO क्या होता है? (what is bpo in hindi)

बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग (BPO) एक विशिष्ट व्यवसायिक कार्य का अनुबंध है। जैसे कि -मानव संसाधन और ग्राहक सेवा, तीसरे पक्ष के सेवा प्रदाताओं को।

इससे कंपनियां अपनी मुख्य व्यावसायिक प्रक्रियाओं पर ध्यान केंद्रित कर सकते है। जानकारी के लिए बता दें बीपीओ को उन कार्यो के लिए लागत बचत उपाय रूप में कार्यान्वित किया जाता है जिनकी आवश्यकता कंपनी को होती है। कंपनियां अपने मुख्य काम पर फोकस करती है और ग्राहकों की शिकायत या समस्या के लिए अन्य कंपनियों को नियुक्त कर लेती है जिन्हें बीपीओ कहा जाता है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

जो कंपनी इस काम को करती है उन्हें बीपीओ कंपनी कहा जाता है। यहाँ हम आपको इस उदाहरण के माध्यम से बीपीओ कंपनी के बारे में बताने जा रहें है। जानने के लिए उदाहरण देखिये –

AMAZON कंपनी का आप सभी ने सुना ही होगा। यह एक भारतीय ई-कॉमर्स कंपनी है। जानकारी के लिए बता दें इस कंपनी विभिन्न प्रकार के समान बेचे जाते है। हालांकि बहुत से ग्राहकों को सामान को लेकर बहुत सी शिकायत या समस्या होती है।

इसके अलावा ग्राहकों के बहुत से प्रश्न भी होते है। ग्राहकों की इन समस्याओ का समाधान करने के लिए अमाजॉन कंपनी किसी अन्य कंपनी को हायर करती है जो ग्राहकों की सभी समस्याओ को हल करते है। ऐसी कंपनियों को बीपीओ कंपनी कहा जाता है।

BPO Full Form in Hindi 2023 Highlights

उम्मीदवार ध्यान दें यहाँ हम आपको BPO क्या होता है? और इससे सम्बंधित कुछ विशेष जानकारी देने जा रहें है। इन जानकारियों को आप नीचे दी गई सारणी में उपलब्ध सूचनाओं को पढ़कर प्राप्त कर सकते है। ये सारणी निम्न प्रकार है –

आर्टिकल का नाम BPO क्या होता है?
साल 2023
फुल फॉर्म Business Process Outsourcing
बीपीओ के प्रकार दो

बीपीओ कितने प्रकार के होते हैं ?

क्या आप जानते है BPO कितने प्रकार के होते है ? जानकारी के लिए बता दें बीपीओ दो प्रकार के होते है और दोनों ही एक दुसरे से भिन्न होते है। आइये जानते है बीपीओ के प्रकार के बारे में –

  • Domestic BPO
  • Multinational BPO

उम्मीदवार ध्यान दें यहाँ हम आपको बीपीओ के प्रकार के बारे में संक्षिप्त जानकारी देने जा रहें है। इन जानकारियों को आप नीचे दिए गए पॉइंट्स के माध्यम से प्राप्त कर सकते है। जानिए क्या है पूरी जानकारी –

  1. डोमेस्टिक बीपीओ – जानकारी के लिए बता दें डोमेस्टिक बीपीओ (Domestic BPO) भारतीय कंपनी के भारतीय नागरिको को सेवाएं प्रदान करते है। उदाहरण के लिए – रिलायन्स कंपनी, एयरटेल कंपनी। डोमेस्टिक बीपीओ विदेशी कंपनियों के भारतीय कस्टमर को भी सेवाएं प्रदान करते है।
  2. मल्टीनेशनल बीपीओ – जानकारी के लिए बता दें मल्टीनेशनल कंपनी में किसी एक कंपनी के क्लाइंट्स नहीं होते है बल्कि ऐसी कंपनियों के क्लाइंट्स इंटरनेशनल होते है। जैसे – गूगल, YAHOO, MICROSOFT आदि। इसके अलावा आपको बता दें मल्टीनेशनल बीपीओ की सैलरी डोमेस्टिक बीपीओ की सैलरी की तुलना में अधिक होती है।

बीपीओ में काम करने हेतु योग्यता

उम्मीदवार ध्यान दें अगर आप भी बीपीओ में जॉब करना चाहते है तो आपको बीपीओ में काम करने हेतु तय की गयी योग्यता पूरी करनी होगी। इन योग्यताओ को पूरा करने वाले उम्मीदवार ही बीपीओ में जॉब करने के लिए पात्र होंगे। जानिए क्या है योग्यता –

  • बीपीओ में काम करने के लिए आपकी communication skills अच्छी होनी चाहिए।
  • आवेदक को अंग्रेजी भाषा का ज्ञान होना चाहिए और अच्छे से बोलनी आती हो।
  • आवेदकों को कंप्यूटर का सामान्य ज्ञान होना चाहिए और टाइपिंग स्पीड अच्छी होनी चाहिए।

BPO के लाभ एवं हानि क्या है ?

उम्मीदवार ध्यान दें अगर आप भी बीपीओ में काम करते है या काम करना चाहते है तो आपको इसके लाभ एवं हानि के बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है। यहाँ हम आपको बीपीओ के लाभ एवं हानि के बारे में बताने जा रहें है। जानिए नीचे दिए गए पॉइंट्स के माध्यम से –

लाभ

  • इस क्षेत्र में आपको नौकरी के अलग-अलग प्रकार के बहुत से विकल्प मिल जाते है।
  • इसके माध्यम से कंपनी के प्रोडक्ट की मांग अधिक बढ़ती है।
  • बीपीओ कम लागत में अधिक सेवाएं प्रदान करता है।
  • यहाँ तक कि बीपीओ अपने कस्टमर को 24/7 सेवाएं प्रदान करता है।

हानि

  • बीपीओ का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि इसमें डाटा लीक होने का डर रहता है।
  • इसके अंतर्गत कंपनी अन्य पर डिपेंड होती है।
  • बीपीओ चलाने वाली कंपनी किसी अन्य कंपनी को उस कंपनी का डाटा बेच सकती है, जिससे कंपनी को अधिक मात्रा में हानि उठानी पड़ सकती है।
  • कभी कभी कांटेक्ट करने में समस्याओ का सामना करना पड़ता है।

BPO Full Form in Hindi

उम्मीदवार ध्यान दें यहाँ हम आपको BPO Full Form in Hindi में बताने जा रहें है। दोस्तों,BPO का पूरा नाम या यूँ कहें BPO की फुल फॉर्म Business Process Outsourcing होती है। जिसका अर्थ हिंदी में व्यापार प्रक्रिया बाहरी स्रोत से सेवाएं प्राप्त करना होता है।

बीपीओ के कार्य

जानकारी के लिए बता दें बीपीओ द्वारा अपने क्लाइंट्स के लिए बहुत से कार्य किये जाते है। जिनके बारे में हम आपको नीचे दिए गए पॉइंट्स के माध्यम से जानकारी देने जा रहें है। ने दिए गए पॉइंट्स के माध्यम से जानिये बीपीओ के कार्य क्या है –

  • कस्टमर केयर
  • डाटा एंट्री
  • चैट सपोर्ट
  • सोशल मीडिया हैंडलिंग
  • कॉल सेंटर
  • टेक्निकल सपोर्ट
  • सेल्स एंड मार्केटिंग
  • बैक एंड फ्रंट ऑफिस वर्क

बीपीओ में काम करने के क्या फायदे है ?

यहाँ हम आपको बीपीओ में काम करने के फायदे बताने जा रहें है। अगर आप भी बीपीओ में काम करते है तो आपको निम्न फायदे मिलेंगे। जानिए बीपीओ में काम करने के क्या फायदे है ? आप नीचे दिए गए पॉइंट्स के माध्यम से जानकारी प्राप्त कर सकते है –

  • बीपीओ में काम करने का सबसे अच्छा फ़ायदा यह है कि केवल 12 पास युवा भी बीपीओ में काम कर सकते है।
  • बीपीओ में काम करने के लिए बहुत से ऑप्शन है आप किसी भी क्षेत्र में काम कर सकते है।
  • बीपीओ में काम करने के लिए आपको काम करने का वातावरण मिलता है जिसमे आप आसानी से और बहुत ही आराम से काम कर सकते है।
  • बीपीओ में काम करने का सबसे अच्छा फ़ायदा यह भी है कि आप हिंदी और अंग्रेजी किसी भाषा में नौकरी कर सकते है।
  • इंटरनेशनल बीपीओ कंपनी में आपको अच्छी सैलरी मिल जाती है।
  • जैसा कि आप सभी जानते ही है बीपीओ में बोलने का ही काम अधिक होता है इससे आपकी कम्युनिकेशन स्किल अच्छी होती है।
  • आपको बोलने का सही तरीका पता होना चाहिए और आपको किसी बातचीत के दौरान किसी भी व्यक्ति को असभ्य शब्द नहीं बोलने चाहिए।

BPO Kya Hota Hai 2023 सम्बंधित कुछ (FAQ)

BPO की फुल फॉर्म क्या है ?

BPO की फुल फॉर्म Business Process Outsourcing है।

बीपीओ कितने प्रकार के होते है ?

बीपीओ दो प्रकार के होते है – 1 – डोमेस्टिक बीपीओ 2 – मल्टीनेशनल बीपीओ

डोमेस्टिक बीपीओ क्या है ?

डोमेस्टिक बीपीओ केवल अपने लोकल क्लाइंट्स को ही सेवाएं प्रदान करते है। कहने का अर्थ है इंडियन डोमेस्टिक बीपीओ केवल इंडियन क्लाइंट्स को ही सेवा प्रदान करेगा।

what is bpo in hindi ?

बीपीओ अर्थात बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग, अनेक कंपनियां अपने व्यवसाय से सम्बंधित विशिष्ट कार्य या जिम्मेदारी किसी तीसरी पार्टी को करार पर सौंप देती है। यह प्रक्रिया बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग (बीपीओ) कहलाती है।

जैसे कि इस लेख में हमने आपसे BPO Kya Hota Hai 2023 और इससे जुडी अन्य बहुत सी जानकारी साझा की है। अगर आपको हमारे द्वारा दी गई इन जानकारियों के अलावा अन्य कोई भी जानकारी चाहिए तो आप नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में जाकर अपना मैसेज छोड़ सकते है। हमारी टीम द्वारा आपके प्रश्न का उत्तर अवश्य दिया जाएगा। आशा करते है आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी अच्छी लगी होगी और आपको इन जानकारियों से सहायता मिलेगी।

Leave a Comment