Bihar scheme

बिहार में कितनी नदियां हैं और उनकी लम्बाई क्या है

बिहार राज्य के धरातलीय स्रोत 15 नदियों के प्रवाह प्रदेश में विभाजित है।

बिहार में कितनी नदियां हैं – आज के इस लेख में हम आपसे बिहार में बहने वाली नदियों और उन नदियों की लम्बाई के विषय में जानकारी देने जा रहें है। जानकारी के लिए बता दें बिहार राज्य में अनेकों नदियाँ बहती है और कुछ नदियों में से उपनदियाँ भी निकलती है। हालांकि बिहार में बहने वाली नदियों में से गंगा नदी प्रमुख नदी है। इस लेख में हम आपको बताएंगे बिहार राज्य में कितनी नदियां है और उनकी लम्बाई क्या है? इन सभी के विषय में हम आपको विस्तारपूर्वक जानकारी देंगे। Bihar me Kitni Nadi Hai or inki Lambai Kitni Hai, से जुडी अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लेख को ध्यानपूर्वक अंत तक पढ़िए –

बिहार में कितनी नदियां हैं
बिहार में कितनी नदियां हैं

बिहार भूमि, भूलेख नक्शा, जमाबंदी, खसरा संख्या

बिहार में कितनी नदियां हैं ? (How many rivers in Bihar)

बिहार राज्य में विभिन्न प्रकार की नदियां बहती है। इन नदियों को दो भागों में बांटा गया है। यहाँ हम आपको बिहार में बहने वाली नदियों को किन दो भागों में बांटा गया है इसके बारे में जानकारी देने जा रहें है। ये जानकारी निम्न प्रकार है। जैसे –

  • उत्तरी बिहार की नदियां
  • दक्षिण बिहार की नदिया

उत्तरी बिहार की नदियां

  • बूढी गंडक नदी
  • कोसी नदी
  • गंगा नदी
  • बागमती नदी
  • कमला नदी
  • घाघरा (सरयू नदी)
  • महानंदा नदी
  • गंडक नदी

दक्षिण बिहार की नदियां

  • चानन नदी
  • कर्मनासा नदी
  • अजय नदी
  • पुनपुन नदी
  • सोन नदी
  • फल्गू नदी
  • किऊल नदी

नदियों की लम्बाई से जुडी जानकारी

जैसा कि आप सभी जानते है और हमने आपको ऊपर दी गई जानकारी में बताया है कि बिहार में बूढी गंडक नीद, कोशी नदी, गंगा नदी, बागमती नदी, कमला नदी, घाघरा (सरयू नदी), महानंदा नदी, गंडक नदी, आदि नदियां बहती है। यहाँ हम आपको इन नदियों की सम्पूर्ण जानकारी के साथ-साथ इन नदियों की लम्बाई (Length Of River) के बारे में जानकारी देने जा रहे है। ये जानकारी निम्न प्रकार है –

बूढी गंडक नदी (Burhi Gandak River)

बिहार में बहने वाली गंगा नदी में से एक उपनदी निकलती है जिसे Burhi Gandak River (बूढी गंडक नदी) के नाम से जाना जाता है। जोकि गंडकी नदी से पूर्व दिशा में उसके समान बहती है। हालांकि बूढी गण्डक नदी पश्चिमी चम्पारण जिले से शुरू होती है और पूर्वी चम्पारण, मुजफ्फरनगर, समस्तीपुर और बेगूसराय जिलों से होकर बहती है और आखिर में खगड़िया जिले के खगड़िया शहर के पास गंगा नदी में मिल जाती है। बूढी गण्डक नदी की लम्बाई 320 किलोमीटर है यानी 200 मील। इस नदी का जलसम्भर आकार 10,150 कि॰मी2 (3,920 वर्ग मील) है।

बूढी गंडक नदी
बूढी गंडक नदी

कोशी नदी (Koshi River)

कोशी नदी नेपाल में हिमालय से होकर बिहार में भीम नगर के रास्ते से भारत प्रज्वल में प्रवेश करती है। इस नदी को बिहार का श्राप (बिहार का शोक) कहा जाता है। इसे नदी के कारण ही बिहार में बाढ़ से काफी नुकसान होता है। जानकारी के लिए बता दें इस नदी का पिछले 20 सालों में 120 किलोमीटर तक विस्तार हो चुका है। हालांकि इस नदी पानी के बहाव में हिमालय से अलग-अलग प्रकार के अवसाद बहकर आते है और इसी कारण इस नदी का विस्तार और अधिक बढ़ता जा रहा है।

उत्तर बिहार के मैदानी क्षेत्रों को कोशी नदी पूर्ण रूप से उपजाऊ क्षेत्र बनाती है। साथ ही जानकारी के लिए बता दें भारत और नेपाल देश कोशी नदी पर बाँध बना चुके है। पर्यावरण की जानकारी रखने वाले विभाग ने इस नदी से भारी हानि की संभावना जताई है। बात करें कोशी नदी की लम्बाई की तो इसकी लम्बाई 729 किलोमीटर (453 मील) है। इस नदी का जलसंभर आकार 74,500 कि॰मी2 (8.02×1011 वर्ग फुट) है। इस नदी की प्रवाह गति 2,500 m3/s (88,000 घन फुट/सेकंड) है।

कोशी नदी बिहार
कोशी नदी बिहार

गंगा नदी (Ganga River)

जैसा कि आप सभी जानते है गंगा नदी सभी नदियों में प्रमुख नदी है। गंगा नदी भारत से बांग्लादेश देश तक 2525 किलोमीटर की दूरी तय करती है। इस प्रकार गंगा नदी की लम्बाई 2,525 कि.मी. (1,569 मील) है। न केवल प्राकृतिक सम्पदा बल्कि गंगा नदी से सम्पूर्ण देशवासियो की भावना भी जुडी हुई है। गंगा नदी से लाखो लोगो की आस्था जुडी है। 2,071 किलोमीटर भारत तथा उसके बाद बांग्लादेश में अपनी लंबी यात्रा करते हुए गंगा नदी सहायक नदियों के साथ दस लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल के अति विशाल उपजाऊ मैदान की रचना करती है। इस नदी की गहराई 100 फीट (31 मी॰) से अधिक है।
गंगा नदी की उपनदियां जैसे –

बाएँमहाकाली, करनाली, कोसी, गंडक, सरयू
दाएँयमुना, सोन नदी, महानंदा

गंगा नदी में अगल-अलग प्रजातियों के सांप और मछलियाँ पाई जाती है। इस नदी में डॉलफिन भी पाए जाते है। साल 2009 में भारत सरकार ने डॉलफिन जीव को जलीय जीव के रूप में मान्यता प्रदान की गई थी। गंगा नदी के जल को सबसे उत्तम जल माना जाता है।

गंगा नदी बिहार
गंगा नदी बिहार

बागमती नदी (Bagmati River)

Bagmati River (बागमती नदी) नेपाल और भारत देश में बहती है। बागमती नदी काठमाण्डू घाटी से गुजरती है और मध्य प्रदेश से होकर भारत देश के बिहार राज्य में पहुँचती है और कोशी नदी में मिल जाती है। यह नदी बौद्ध धर्म और हिन्दू धर्म के लोगो के लिए एक पवित्र नदी है। साथ ही जानकारी के लिए बता दें बागमती नदी के किनारे हिन्दू मंदिर भी है। पशुपतिनाथ मंदिर जोकि नेपाल का सबसे प्रमुख तीर्थ स्थल है वह भी बागमती नदी के किनारे स्थित है। मंदिर की पवित्रता के कारण ही हिन्दू धर्म के लोग इस नदी के किनारे अंतिम संस्कार करते है।

बागमती नदी
बागमती नदी

हालांकि जानकारी के लिए बता दें बागमती नदी के तट की पहाड़ियों पर ही किरात समुदाय की समाधियां बनाई जाती है। Bagmati River बलौर गाँव से निकलती है। इस नदी की अधिकतम प्रवाह गति 16,000 m3/s (570,000 घन फुट/सेकंड) है। अगर बागमती नदी की लम्बाई की बात करें तो बता दें इसकी लम्बाई 586.3 किलोमीटर (364.3 मील) है और ऊंचाई 2,740 मी॰ (8,990 फीट) है। इस नदी की उपनदियां निम्न प्रकार है –

  बाएँ मरिन खोला, मनोहरा, लखनदेई नदी, अधवारा, कमला नदी
 दाएँविष्णुमति नदी, लालबकैया नदी

कमला नदी (Kamla River)

कमला नदी नेपाल से शुरू होती है भारत के बिहार राज्य से होकर गुजरती है। इस नदी को गंगा नदी के बाद मिथियांचल की सबसे मुख्य पुण्यदायिनी और महत्वपूर्ण उर्वरा-शक्ति युक्त मानी जाती है। जानकारी के लिए बता दें कमला नदी की कुल लम्बाई 328 किलोमीटर है। और इसके अलावा बिहार में कमला नदी की लम्बाई 120 किलोमीटर है। बिहार में कमला नदी का जलग्रहण देखें तो बिहार में इस नदी का जलग्रहण जलग्रहण क्षेत्र 4488 किलोमीटर है। इस नदी की सहायक नदियां सोनी, ढोरी, भूतही, बलान इत्यादि है।

कमला नदी
कमला नदी

घाघरा (सरयू नदी)

घाघरा नदी भी बिहार में बहने वाली नदी है। जानकारी के लिए बता दें घागरा नदी की सरयू नदी के नाम से भी जाना जाता है। यह नदी उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और बिहार में बहती है। और सरयू नदी गंगा की सहायक नदियों में से प्रमुख नदी है। सरयू नदी दक्षिणी तिब्बत हिमालयो से निकलती है और वहां इसे कर्णाली नदी के नाम से जाना जाता है। उसके बाद यह नेपाल से गुजरती हुई भारत के उत्तर प्रदेश के बलिया और छपरा के बीच मिल जाती है। अगर घागरा नदी की बात करें तो इस नदी की कुल लम्बाई 1080 किलोमीटर है। और इस नदी का जलग्रहण है 127950 वर्ग किलोमीटर है। घागरा नदी को अन्य कई नामो से जाना जाता है। जैसे – सरयू, कर्णाली, सूरज, गोगरा आदि। हांलकि घाघरा नदी तीन देशों से होकर बहती है जैसे – तिब्बत (चीन), नेपाल और भारत। इसके अलावा भारत राज्य में यह नदी दो राज्यों में बहती है उत्तर प्रदेश और बिहार राज्य।

सरयू नदी
सरयू नदी

महानंदा नदी (Mahananda River)

महानंदा नदी भारत के पश्चिम बंगाल, बिहार राज्य और इसके अतिरिक्त बांग्लादेश में होकर बहती है। अगर महानंदा नदी की लम्बाई की बात करें तो बता दें इस नदी की कुल लम्बाई 360 किलोमीटर है। महानंदा नदी 324 किलोमीटर भारत देश बहती है और शेष 36 किलोमीटर नदी बांग्ला देश में बहती है। इस नदी का जलसम्भर आकार 20,600 कि॰मी2 (8,000 वर्ग मील) है। महानंदा नदी की उपनदियां निम्न प्रकार है –

उपनदियाँ 
बाएँटांगोन नदी, नागर नदी
 दाएँमेची नदी, कन्काई नदी, बालासोन नदी, कालिन्द्री नदी




महानंदा नदी

गंडक नदी (Gandak River)

गंडक नदी नेपाल और भारत के बिहार राज्य के अंतर्गत बहने वाली सदानीरा नदी है। गंडक नदी अन्य कई नामों ने जानी जाती है जैसे नेपाल में सालिग्रामी या सालग्रामी और मैदानों में नारायणी और सप्तगण्डकी नामों से प्रख्यात है। भारत में गंडक नदी को कुछ अन्य प्रमुख नामों से जाना जाता है जैसे – गंडकी, बड़ी गंडक नदी।गंडकी नदी हिमालय से निकलकर दक्षिण-पश्चिम होते हुए भारत देश में प्रवेश करती है। यह गंगा नदी की सहायक नदी है। गंडक नदी नेपाल के मुस्तांग जिले में 6268 मीटर की ऊंचाई पर स्थित नुबिन हिमल ग्लेशियर से निकलती है।

गंडक नदी
गंडक नदी

चानन नदी (Chanan River)

जानकारी के लिए बता दें चानन नदी झारखण्ड राज्य में बहने वाली नदी है। इस नदी पंचाने नदी भी कहा जाता है। हालांकि इस नदी का वास्तविक नाम पंचानन है जो अब चानन नदी बन गया है। चानन नदी 5 जल धाराओं के मिलने से विकसित हुई है। चानन नदी की प्रमुख धाराएं धरांजे, महाने, पैमार, तिलैया आदि छोटानागपुर पठार से होकर निकलता है। चानन नदी की लम्बाई 474 किलोमीटर है।

चानन नदी
चानन नदी

सोन नदी

सोन नदी भारत के मध्य भाग में बहने वाली नदी है। यह एमपी के बघेलखण्ड की प्रमुख नदी है। रीवा रियासत जोकि बघेल राजाओं की राजधानी है वह सोन नदी के किनारे पर ही स्थित है। सोन नदी सदानीरा नदी है। यह पलामू की उत्तरी सीमा बनाते हुए प्रवाहित होती है। सोन नदी की लम्बाई की बात करें तो इसकी लम्बाई 784 किलोमीटर है। इस नदी का कुल जलग्रहण क्षेत्र 70055 वर्ग किलोमीटर है। सोन नदी पांच राज्यों में बहती है जैसे – बिहार, उत्तर प्रदेश, झारखण्ड, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश। सोन नदी की सहायक नदियां बनास, रिहन्द, गोपद, घाघर, कोयल, जोहिला और छोटी महानदी है। सोन नदी के अन्य नाम सोनभद्र, सोहर, स्वर्ण नदी और हिरयाणवाह आदि है।

सोन नदी
सोन नदी

फल्गू नदी

फल्गू नदी बिहार राज्य में प्रवाहित होने वाली नदी है। यह नदी गया से होकर गुजरती है और इस नदी से हिन्दू और बौद्ध धर्म की आस्था जुडी हुई है। भगवान् विष्णु का विष्णुपाद मंदिर इस नदी के किनारे स्थित है। अंत में फल्गू नदी की धाराएं पुनपुन नदी में जाकर विलय हो जाती है। हालांकि की पुनपुन नदी भी गंगा की उपनदी है। फल्गू नदी की लम्बाई की बात करें तो बता दें इस नदी की लम्बाई 135 किलोमीटर है।

फल्गू नदी बिहार
फल्गू नदी बिहार

पुनपुन नदी (Punpun River)

जानकारी के लिए बता दें पुनपुन नदी भारत के बिहार राज्य में बहने वाली गंगा नदी की एक सहायक नदियों में से एक है। पुनपुन नदी झारखंड के छोटेनागपुर के पठार से निकलती है। यह नदी पलामू जिले से निकलती हुई पटना के नजदीक फतुहा में गंगा में आकर मिलती है। इस नदी को अभूत पवित्र नदी माना जाता है इस नदी के किनारे तीर्थ यात्री अपना सिर मुंडवते है और साथ-साथ स्नान भी करते है। हिन्दू धर्म के लोगो के लिए पुनपुन नदी अत्यधिक महत्व रखती है। पुनपुन नई की लम्बाई
200 कि॰मी॰ (120 मील) है और इस नदी की ऊंचाई की बात करें तो बता दें इसकी ऊंचाई 300 मीटर (980 फ़ीट) है। इस नदी का जलसम्भर आकार8,530 कि॰मी2 (3,290 वर्ग मील) है। पुनपुन नदी

अजय नदी

अजय नदी बिहार , झारखण्ड और बंगाल राज्य से होकर बहने वाली नदी है। अजय नदी की कुल लम्बाई 288 किलोमीटर है। यह नदी सबसे अधिक बंगाल में बहती है बंगाल में यह नदी 152 किलोमीटर तक बहती है। यह देवघर, जामताड़ा, बोलपुर,  काटोया नगरों से होकर गुजरती है यह हुगली नदी की एक उपनदी है। इस नदी की उपनदियां निम्न प्रकार है –

उपनदियाँ 
  बाएँहिंग्लो नदी
 दाएँझारखण्ड में पथरो और जयंती नदी, पश्चिम बंगाल में तुमुनी और कुनुर नदी
अजय नदी
अजय नदी

कर्मनासा नदी

कर्मनासा भारत देश के बिहार और उत्तर प्रदेश राज्य में बहने वाली नदी है। जानकारी के लिए बता दें कर्मनासा भी गंगा की सहायक नदियों में से एक है। यह बिहार के कैमूर जिले से उत्पन्न होती है। कर्मनासा नदी की ऊंचाई 350 मी॰ (1,150 फीट) है और लम्बाई 192 किलोमीटर (119 मील) है। इस नदी का जलसम्भर क्षेत्र 11,709 है।

कर्मनासा नदी
कर्मनासा नदी

किऊल नदी

Kiul River नदी भी गंगा नदी की सहायक नदियों में से एक है।  यह भारतीय राज्य झारखण्ड के गिरीडीह जिले से आरम्भ होता है और बिहार के जमुई और लक्खिसराय जिलों में बहती है। इस नदी की ऊंचाई 605 मीटर (1985 फ़ीट) है और किऊल नदी की लम्बाई की बात करें तो जानकारी के लिए बता दें इस नदी की लम्बाई 111 किलोमीटर (69 मील) है।

किऊल नदी
किऊल नदी

Bihar me Kitni Nadiya Hai 2022 से जुड़े कुछ प्रश्न और उत्तर

उपनदी क्या है ?

उपनदी या सहायक नदी ऐसे झरने या नदी को बोलते हैं जो जाकर किसी मुख्य नदी में विलय हो जाती है। 

कोशी नदी की लम्बाई कितनी है ?

कोशी नदी की लम्बाई 729 किलोमीटर (453 मील) है।

घाघरा नदी को अन्य किस नामों से जाना जाता है ?

घाघरा नदी को अन्य कई नामों से जाना जाता है जैसे – सरयू, कर्णाली, सूरज, गोगरा आदि।

बूढी गंडक नदी की लम्बाई कितनी है ?

बूढी गण्डक नदी की लम्बाई 320 किलोमीटर है यानी 200 मील।

घाघरा नदी किन किन देशों में बहती है ?

घाघरा नदी तीन देशों से होकर बहती है जैसे – तिब्बत (चीन), नेपाल और भारत आदि।

महानंदा नदी की लम्बाई कितनी है ?

महानंदा नदी की लम्बाई 360 किलोमीटर है।

जैसे कि इस लेख में हमने आपको बिहार में कितनी नदियां हैं और उनकी लम्बाई क्या है इन सभी के विषय में विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान की है। अगर आपको इन जानकारियों के अलावा अन्य कोई जानकारी चाहिए तो नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में जाकर मैसेज करके पूछ सकते है। आपके प्रश्न का उत्तर अवश्य दिया जायेगा। आशा करते है आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी से सहायता मिलेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button