भू नक्शा उत्तर प्रदेश 2022 चेक एवं डाउनलोड कैसे करें

उत्तर प्रदेश राज्य में बहुत ही आसानी से दो लोगों में जमीन की सीमा और स्थिति को लेकर विवाद हो जाता हैं। इसके बाद जमीन मालिक द्वारा जमीन की स्थिति के प्रमाण लाने के लिए तहसील के चक्कर लगाने के आलावा कोई विकल्प नहीं रहता हैं। काफी धन खर्च करने के बाद जमीन का सही नक्शा या खतौनी मिल पाती हैं। इसी समस्या को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने एक ऐसी ऑनलाइन वेबसाइट को बनाया हैं, जिसके द्वारा कंप्यूटर या मोबाइल पर भू नक्शा उत्तर प्रदेश डाउनलोड (UP Bhu Naksha) किया जा सकता हैं। यदि कोई व्यक्ति अपने खेत, ज़मीन के नक़्शे को लेकर कोई उलझन हो तो यह लेख ध्यानपूर्वक पढ़ना चाहिए।

भारत सरकार आम आदमी से जुडी ज्यादातर सेवाओं को डिजिटल रूप प्रदान करने में अग्रसर हैं। इसी कड़ी में भू नक्शा उत्तर प्रदेश को भी ऑनलाइन माध्यम से देखा और संरक्षित किया जा रहा हैं। कुछ समय पूर्व ऐसी सुविधाएं नहीं थी, किसी को ज़मीन से सम्बंधित छोटी से छोटी जानकारी के लिए राजस्व विभाग के कागजी रिकॉर्ड की सहायता लेनी होती थी। जरुरत पड़ने पर व्यक्ति को कार्यालय में जाकर आवेदन करना होता था, इसके कुछ समय बाद ही भू नक्शा रिपोर्ट के रूप में मिल पता था। यदि सम्बंधित अधिकारी किसी कारण से कार्यालय में उपस्थित नहीं हैं तो आवेदक को अगले कार्यदिवस में कार्यालय आना पड़ता था।

भू नक्शा उत्तर प्रदेश 2022 चेक एवं डाउनलोड कैसे करें
भू नक्शा उत्तर प्रदेश 2022 चेक एवं डाउनलोड कैसे करें

यह भी देखें :- प्रधानमंत्री आवास योजना ऑनलाइन आवेदन

Contents hide

भू नक्शा उत्तर प्रदेश का उद्देश्य

वर्ष 2018 में नेशनल क्राइम रिकार्ड्स ब्यूरो के अनुसार भारत में 1 लाख से ज्यादा अपराध दर्ज़ किये गए थे। ये अपराध प्रॉपर्टी के प्रमाण पत्र, धोखाधड़ी, जालसाजी और फ्रॉड के थे। इसलिए यह अति आवश्यक हैं कि आप कोई विवादित प्रॉपर्टी खरीद कर अपना धन और समय ना ख़राब करें। जमीन से सम्बंधित रिकॉर्डों का डिजिटल होने से आपके प्रयोग करने का स्थान कोई मायने नहीं रखता हैं। भू नक्शा पोर्टल पर प्लाट की वैधता, उसकी सीमा, सरहदबन्दी इत्यादि चेक कर सकते हैं। उत्तर प्रदेश सरकार का मुख्य उद्देश्य ऑनलाइन माध्यम से आम जन ज़मीन से सम्बंधित किसी भी परेशानी से बचाना हैं। कोई किसान देख सकता हैं कि ज़मीन खेती के योग्य हैं या नहीं, अपितु वह ज़मीन किस प्रकार की हैं ताकि उसमे होने वाली खेती का चुनाव किया जा सकें।

भू नक्शा उत्तर प्रदेश 2022 चेक कैसे करें

  • सबसे पहले अपने ब्राउज़र पर भू नक्शा उत्तर प्रदेश की आधिकारिक वेबसाइट http://upbhunaksha.gov.in ओपन ओपन कर लेंbhu naksha uttar pradesh - bhunaksha website home page
  • आपको ज़मीन से सम्बंधित आवश्यक जानकारियाँ जैसे राज्य, जिला, तहसील और गांव टाइप करें
  • वह ज़मीन किस प्रकार की हैं यह जानने के लिए ‘Show Land Type Details’ विकल्प को चुनेbhu naksha uttar pradesh - getting land details from option
  • आपको जानकारी हो जायगी कि ज़मीन बंज़र हैं, उपजाऊ हैं, खेती की ज़मीन हैं, सरकारी अथवा निजी हैं
  • सही जानकारी के अभाव में आपको “सेलेक्ट ऑल” विकल्प को चुनना होगा। इस प्रकार से एक ही बार में अलग रंगो से ज़मीन के प्रकार का वर्गीकरण हो जायगा
  • नक़्शे में प्रदर्शित रंगो का अर्थ समझने नीचे दिख रही टेबल की सहायता लें सकते हैं
  • आपको नक़्शे के ऊपर बायीं ओर “माइनस” और “प्लस” के चिन्ह दिखाई देंगे, इनका प्रयोग करके आप दिख रहे नक़्शे को किसी खास भाग को बड़ा या छोटा करके देख सकते हैंbhu naksha uttar pradesh - minimizing & maximizing map
  • आपको नक्शा कई बॉक्सों में बाँटा हुआ दिखाई देगा, बॉक्स को क्लिक करते ही आपको उसकी जानकारी प्राप्त होगी
  • यदि आपको रिपोर्ट को डाउनलोड या प्रिंट करना हो तो विकल्प का प्रयोग करके कर सकते हो

भू नक्शा उत्तर प्रदेश डाउनलोड और प्रिंट करना

  • जब आप अपनी डिटेल्स डालकर भूमि का नक्शा निकाल लेते हैं तो आपको Map Report के विकल्प को चुनना होगा
  • आपको एक नई विंडो में पेज मिलेगा जिसमे ज़मीन के शजरा का चित्र स्क्रीन पर देखेगा
  • इस चित्र के ऊपर दायीं ओर डाउनलोड और प्रिंट दोनों विकल्प प्राप्त होंगे आप अपनी आवश्यकतानुसार दोनों में से कोई विकल्प का प्रयोग कर सकते हैंbhu naksha uttar pradesh - downloading & print option of map

भू नक्शा यूपी के लाभ

  • यद्यपि आम जन को वेबसाइट से ज़मीन से सम्बंधित गलत जानकारी से मुक्ति मिली हैं।
  • परन्तु वेबसाइट से अन्य प्रकार के लाभ भी हुए हैं, जैसे कि घर से ही ज़मीन के नक़्शे एवं रिकॉर्ड बड़े ही सुविधापूर्ण तरीके से देखे जा सकते हैं।
  • इससे पहले ज़मीन के नक्शों के लिए कार्यालय जाकर अधिक धन और श्रम का व्यय होता था।
  • कार्यालयों पर भी छोटे-छोटे कार्यों के लिए लोगो की लम्बी-लम्बी कतारें लगा करती थी।
  • ग्रामीण क्षेत्रों में अक्सर लोगों को ज़मीनो के विवादों में परेशान होते देखा गया हैं,
  • वेबसाइट के माध्यम से गांव के अंदर ही जमीन, खेतों के विवादों को हल किया जा सकेगा।
  • जमीन के वास्तविक मालिक का नाम ऑनलाइन माध्यम से आसानी से देखा जा सकता हैं।
  • यदि कोई किसान किसी बैंक से कृषि ऋण लेना चाहता हैं तो ज़मीन के ऑनलाइन नक़्शे की सहयता से सुविधाजनक रूप से ऋण मिल जायगा।
  • कोई भी जमीन किस प्रकार की श्रेणी में आती हैं, जैसे बंज़र या उपजाऊ इसका पता भू नक्शा के माध्यम से पता लगा सकते हैं।
  • ज़मीन के मामले में होने वाली धोखाधड़ी में कमी आएगी क्योकि पहले सही समय पर लोगों को जानकारी नहीं मिल पाती थी परन्तु अब लोग जमीन के क्रय, विक्रय से पूर्व उसकी सम्बंधित जानकारियाँ देख लेंगे।

भू नक्शा उत्तर प्रदेश के अंतर्गत महत्वपूर्ण घटक

1 . जमाबंदी फर्द : इसके अंतर्गत मुख्य भूमि रिकॉर्ड जैसे कि मालिक का नाम, कल्टीवेटर नाम, खसरा संख्या, भूमि क्षेत्र, फसल विवरण, बंधन और पट्टे का विवरण आदि। जमाबंदी या फ़र्द के अंतर्गत आपको खेती की ज़मीन से सम्बंधित सभी जानकारियाँ जैसे मालिक का नाम, खसरा संख्या, खेती की ज़मीन का क्षेत्रफल, उगाई जाने वाली फसल का नाम, खेती की सिचाई के स्त्रोत, ज़मीन पर ऋण इत्यादि

2. खता संख्या अथवा खेवट संख्या : यह एक विशेष प्रकार का खता नंबर हैं जो किसी खेती की जमीन के मालिक को दिया जाता हैं। खाते के नंबर की सहायता से किसी व्यक्ति के नाम सभी खेती की ज़मीन की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं

3. खसरा-खतौनी संख्या : खाता नंबर एक खाता संख्या हैं जो कल्टीवेटर के सेट को देते हैं। विभिन्न खसरा संख्या के साथ भूमि के एक हिस्से की खेती। खाता संख्या भूलेख उत्तर प्रदेश 2020 देखने के लिए आवश्यक हैं। खैवट संख्या एक विशेष प्रकार का खाता नंबर होता हैं जो बटाई पर दी गयी व्यक्ति के बारे में पूर्ण जानकारी रखता हैं।

वेबसाइट का नामभू नक्शा यूपी
शुरू करने वालेउत्तर प्रदेश सरकार
आधिकारिक वेबसाइटupnaksha.gov.in
विभाग का नामभूमि रिकॉर्ड विभाग यूपी
ज़िले में कार्यान्वितउत्तर प्रदेश के सभी ज़िलों में

नक़्शे में ज़मीन से सम्बंधित कुछ तकनीकी शब्द

खसरा – खसरा एक क़ानूनी प्रमाण होता हैं जिसके अंतर्गत पुरे गांव की भूमि का मानचित्र होता हैं। खसरे के अंतर्गत गांव में जमीन के किसी टुकड़े पर की जा रही खेती की फसल, उसकी मिटटी के प्रकार, उसका क्षेत्रफल, ज़मीन पर उग रहे पेड़, उस ज़मीन के मालिक या खेती करने वाले किसान की विस्तृत जानकारी होती हैं।

खतौनी – किसी गांव के विशेष व्यक्ति या परिवार की ज़मीन की सूची खतौनी कहलाती हैं। यदि किसी भी गांव का खसरा निकाल कर उसकी सहायता से किसी व्यक्ति या परिवार विशेष के भूखंड की सूची तैयार की जाती हैं तो उसे खतौनी कहते हैं।

भू -नक्शा ऐप डाउनलोड करना

भू नक्शा पोर्टल तो एंड्राइड फ़ोन में और अधिक आसानी से प्रयोग करने के लिए ऐप भी उपलब्ध हैं। आपको गूगल प्लेस्टोरे पर जाकर Bhu Naksha up टाइप करके सर्च करना होगा। आपको अपने स्क्रीन पर ऐप के रिफरेन्स दिखाई देंगे। ऐप के नाम के नीचे इंस्टॉल बटन दबा कर इंस्टालेशन करके प्रयोग करें। bhunaksha app from google play

भू नक्शा उत्तर प्रदेश से सम्बंधित कुछ प्रश्न

भू नक्शा यूपी क्या हैं?

भू नक्शा का अर्थ हैं जमीन का नक्शा। किसी भी व्यक्ति को जमीन की सही स्थिति जानने के लिए ऑनलाइन माध्यम से सहायता देने के लिए भू नक्शा पोर्टल तैयार किया गया हैं

भू नक्शा पोर्टल से क्या जानकारियाँ ली जा सकती हैं?

भू नक्शा पोर्टल पर कोई भी व्यक्ति अपनी या किसी अन्य की ज़मीन का नक्शा देख सकता हैं। इसके साथ ही ज़मीन का प्रकार, शजरा इत्यादि भी जान सकता हैं।

किसी प्लाट की जानकारी कैसे ली जा सकती हैं?

प्लाट की जानकारी के लिए खाता संख्या और खसरा संख्या का होना जरुरी हैं

ज़मीन के मालिक का नाम कैसे पता करें?

वेबसाइट पर जाकर नक़्शे में से ज़मीन/प्लाट को चुने। आपको स्क्रीन के दायी तरफ ज़मीन की सारी जानकरियाँ दिखेगी। जानकारी के अंतर्गत खाताधारक का नाम, खसरा/खाता संख्या का पता चल सकता हैं।

किसी खेत का नक्शा कैसे देखे?

सर्वप्रथम अपने खेत का खसरा नंबर जान लें और राजस्व विभाग की आधिकारिक वेबसीटे पर जाकर खाता विवरण से खेत का नक्शा निकाल सकते हैं

यदि किसी अन्य प्रकार की जानकारी प्राप्त करनी हो तो हेल्प लाइन नंबर क्या होगा?

किसी अन्य जानकारी के लिए 01124360563, 24305221 पर संपर्क कर सकते हैं। और यदि कोई व्यक्ति ईमेल के द्वारा समस्यां भेजना चाहता हैं

Leave a Comment